Blogs Home / Blogs /
  • लुप्त हो गई राजस्थानी प्रेमाख्यानों की परम्परा

     21.08.2017
    लुप्त हो गई राजस्थानी प्रेमाख्यानों की परम्परा

    सम्पूर्ण विश्व प्रतिक्षण प्रेम का अभिलाषी है। यह मनुष्य की आत्मा का सबसे मधुर पेय है। इसके बिना जीवन अपूर्ण है। आदि काल से मनुष्य प्रेम का संधान करता आया है। यही कारण है कि धरती पर विकसित हुई समस्त सभ्यताओं में प्रेमाख्यानों की रचना हुई। राजस्थानी प्रेमाख्यान विश्व साहित्य की अमूल्य धरोहर हैं। कथ्य, तथ्

    Read More
  • पानी की कहानी : भारतीय पुराणों की जुबानी

     06.06.2017
    पानी की कहानी : भारतीय पुराणों की जुबानी

    सौर मण्डल के जिस ग्रह पर हम रहते हैं उसे पृथ्वी कहना भ्रामक सा लगता है। धरती का 70.8 प्रतिशत धरातल जल से ढका हुआ है तथा पूरे सौर मण्डल में यही एक मात्र ऐसा ग्रह है जिसका विशिष्ट लक्षण जल का इतनी अधिक मात्रा में होना है। इसलिये इसे जलग्रह कहना अधिक तर्क संगत प्रतीत होता है। चूंकि जल के अतिरिक्त अन्य

    Read More
  • कैसे बना था पाकिस्तान! .......14

     07.06.2017
     कैसे बना था पाकिस्तान! .......14

     एडविना ने माउण्टबेटन को भारत विभाजन के लिये तैयार किया

    जब मुस्लिम लीग द्वारा की गयी सीधी कार्यवाही से बंगाल और बिहार खून से नहा उठे तब वायसराय वैवेल की भारत में विश्वसनीयता समाप्त हो गयी। उनके स्थान पर मार्च 1947 में माउंटबेटन को भारत का वायसराय बनाया गया। उनका काम केवल इतना थ

    Read More
  • कैसे बना था पाकिस्तान! .......15

     07.06.2017
    कैसे बना था पाकिस्तान! .......15

    नेहरू को लॉर्ड माउंटबेटन योजना स्वीकार नहीं हुई

    भारत की आजादी की योजना में लॉर्ड माउण्टबेटन ने प्रस्तावित किया कि भारत को दो स्वतंत्र देशों के रूप में आजादी दी जायेगी जिसमें से एक टुकड़ा पाकिस्तान होगा और दूसरा भारत। अंग्रेजों के अधीन 11 ब्रिटिश प्रांतों में से यदि किसी ब्रिटि

    Read More
  • मारवाड़ में स्त्री रक्षा के लिये प्राणोत्सर्ग की घटनाएं

     06.06.2017
     मारवाड़ में स्त्री रक्षा के लिये प्राणोत्सर्ग की घटनाएं

    राजस्थान के वीरों ने स्त्रियों की रक्षा के लिये अपने प्राण गंवाने में कभी संकोच नहीं किया। इस सम्बन्ध में मारवाड़ में अनेक प्रसिद्ध घटनायें हुईं। इतिहास इन घटनाओं से भरा पड़ा है। कुछ उदाहरण अपने पाठकों के लिये प्रस्तुत हैं-

    महेवे की कन्याओं के लिये राव जगमाल का पराक्रम

    ई.1

    Read More
  • बाबूजी धीरे चलना.... आगे टोल नाका है!!!!

     21.08.2017
    बाबूजी धीरे चलना.... आगे टोल नाका है!!!!

    बाबूजी धीरे चलना.... आगे टोल नाका है!!!!

    ये तो कमाल हो गया! जयपुर-अजमेर टोल नाके पर ऐसी विचित्र घटना घटी कि दुकादार तो मेले में लुटे और तमाशबीन अपना सामान बेच गये। राज्य में कानून के मालिक तो हैं विधायक लोग किंतु टोल नाके के कर्मचारियों ने, इन मालिकों से ही लगातार दो दिन तक दो-दो बार गैरकानूनी बदतमीजी करक

    Read More
  • कैसे बना था पाकिस्तान! .......16

     07.06.2017
    कैसे बना था पाकिस्तान! .......16

    कोनार्ड कोरफील्ड का षड़यंत्र

    वायसराय का राजनीतिक सलाहकार तथा राजनीतिक विभाग का सचिव सर कोनार्ड कोरफील्ड रजवाड़ों से इस कदर प्रेम करता था कि वह रजवाड़ों के हित को ही भारत का हित समझता था। नेहरू और कांग्रेस के नाम से वह उतना ही खार खाता था जितने कि स्वयं राजे-महाराजे। कोनार्ड ने स्व

    Read More
  • कैसे बना था पाकिस्तान! .......17

     07.06.2017
    कैसे बना था पाकिस्तान! .......17

    जिन्ना की हठधर्मी

    जब माउंटबेटन नयी योजना की स्वीकृति लेकर भारत आ गये तो अचानक जिन्ना ने मांग की कि उसे पूर्वी पाकिस्तान और पश्चिमी पाकिस्तान को मिलाने के लिये हिंदुस्तान से होकर एक हजार मील का रास्ता चाहिये। इस पर कांग्रेस फिर बिफर पड़ी किंतु माउण्टबेटन ने किसी तरह दोनों पक्ष

    Read More
  • इस्लामिक स्टेट में सूफी संतों के लिये जगह नहीं होगी!

     21.08.2017
    इस्लामिक स्टेट में सूफी संतों के लिये जगह नहीं होगी!

    इस्लामिक स्टेट ऑफ इराक एण्ड सीरिया के नाम से चल रहे मध्य एशियाई आतंकी संगठन ने पाकिस्तान में सूफी मत के संत की मजार पर 108 लोगों को मौत के घाट उतार कर एक बार फिर पूरी दुनिया को संदेश दिया है कि इस्लामिक स्टेट में सूफी मत के लिये कोई जगह नहीं होगी। ऊपरी तौर पर तो ऐसा ही लगता है कि यह मामला इतना ही है किंतु मामला के

    Read More
  • कैसे बना था पाकिस्तान! .......18

     07.06.2017
    कैसे बना था पाकिस्तान! .......18

    कुछ दिनों बाद एक हो जायेंगे दोनों देश

    नेहरू ने वायसराय की घोषणा का स्वागत करते हुए देशवासियों से अपील की कि वे इस योजना को शांतिपूर्वक स्वीकार कर लें। नेहरू ने कहा कि हम भारत की स्वतंत्रता बल प्रयोग या दबाव से प्राप्त नहीं कर रहे हैं। यदि देश का विभाजन हो भी जाता है तो कुछ दिनों प

    Read More
Categories
SIGN IN
Or sign in with
 
×
Forgot Password
×
SIGN UP
Already a user ?
×