Blogs Home / Blogs / समाचार / राजस्थान इतिहास की ई-बुक्स से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा- लाहौटी
  • राजस्थान इतिहास की ई-बुक्स से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा- लाहौटी

     03.06.2020
    राजस्थान इतिहास की ई-बुक्स से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा- लाहौटी

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    जोधपुर 19 दिसम्बर। संभागीय आयुक्त श्री रतन लाहौटी ने कहा है कि राजस्थान हिस्ट्री पर ई-बुक्स के माध्यम से राजस्थान के पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा तथा राजस्थान के युवाओं को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिये सस्ती पुस्तकें मिल सकेंगी। श्री लाहौटी ने आज अपने कक्ष में राजस्थान हिस्ट्री वैबसाइट एवं गूगल एप की लांचिंग की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि ई-बुक्स से जहां एक ओर कागज और समय की बचत होती है वहीं बहुत कम राशि में अच्छी पुस्तकें पढ़ने को मिलती हैं। इसके लिये पाठक को मोटी-मोटी पुस्तकें अपने साथ ढोकर ले जाने की आवश्यकता नहीं होती। छोटे से मोबाईल और टेबलेट में हजारों पुस्तकों की लाइब्रेरी हर समय आदमी की जेब में उपलब्ध रहती हैं। उन्होंने आशा व्यक्त की कि ई-बुक्स एवं गूगल एप के माध्यम से शौर्य एवं स्वामिभक्ति की गाथाओं से समृद्ध राजस्थान का इतिहास एवं साहित्य न केवल भारत भर के पाठक अपितु विश्वभर में रहने वाले हिन्दी भाषी एवं प्रवासी भारतीय भी घर बैठे पढ़ सकेंगे। ज्ञातव्य है कि शुभदा प्रकाशन जोधपुर ने राजस्थान इतिहास की ई-बुक्स उपलब्ध कराने के लिये पूर्णतः समर्पित वैबसाइट एवं गूगल एप तैयार करवाया है। वैबसाईट एवं गूगल एप लांचिंग के अवसर पर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के उपनिदेशक श्री आनंदराज व्यास भी उपस्थित थे। इस अवसर पर सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के पूर्व उपनिदेशक डॉ. मोहनलाल गुप्ता ने बताया कि वैबसाइट rajasthanhistory.com तथा गूगल एप rajasthanhistory पर राजस्थान के योद्धा, महापुरुष, दुर्ग, नगर एवं रियासती इतिहास के साथ-साथ कला, साहित्य, संस्कृति, लोक-परम्परा आदि पर भी बहुत कम मूल्य में ई-बुक्स उपलब्ध कराई गई हैं। साथ ही भारत के इतिहास पर भी पुस्तकें उपलब्ध रहेंगी। पाठक इस वैबसाइट एवं एप से ई-बुक्स के साथ-साथ मुद्रित पुस्तकों का भी लाभ उठा सकेंगे। फिलहाल ई-बुक्स की खरीद पर 50 से 90 प्रतिशत तक रियायत रहेगी जबकि कुछ ई-बुक्स फ्री उपलब्ध कराई गई हैं। इस वैबसाइट एवं एप को जोधपुर की संस्था डब्लूएसक्यूब टैक ने तैयार किया है। डब्लूएस क्यूब के डायरेक्टर कुशाग्र भाटिया ने बताया कि rajasthanhistory.com वैबसाइट को किसी भी कम्प्यूटर से एक्सेस किया जा सकेगा जबकि ई-बुक्स पढ़ने के लिये किसी भी एण्ड्रॉयड डिवाइस पर गूगल प्ले स्टोर से rajasthanhistory फ्री एप डाउनलोड करना होगा।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
Categories
SIGN IN
Or sign in with
×
Forgot Password
×
SIGN UP
Already a user ?
×