Blogs Home / Blogs / ब्रिटिश शासन में राजपूताने की रोचक एवं ऐतिहासिक घटनाएँ
  • बीकानेर के राजकुमार ने ब्रिटिश सम्राट के बालभृत्य का कार्य किया

     19.08.2017
    बीकानेर के राजकुमार ने ब्रिटिश सम्राट के बालभृत्य का कार्य किया

    बीकानेर राज्य की स्थापना जोधपुर के शासक राव जोधा के पुत्र बीका ने की थी। ई.1901 में बीकानेर राज्य का क्षेत्रफल 23,311 वर्गमील था। क्षेत्रफल के आधार पर राजपूताना में यह दूसरे स्थान पर था जबकि जनसंख्या के आधार पर यह चौथे स्थान पर आता था। बीकानेर राज्य की जनसंख्या वर्ष 1881 में 5,09,021, वर्ष 1891 में 8,3

    Read More
  • उदयपुर का महाराणा अंग्रेजों से घृणा करता था

     20.08.2017
    उदयपुर का महाराणा अंग्रेजों से घृणा करता था

    उदयपुर राज्य का क्षेत्रफल 12,691 वर्गमील था। क्षेत्रफल के आधार पर राजपूताना में यह चौथे स्थान पर था जबकि जनसंख्या के आधार पर यह तीसरे स्थान पर आता था। उदयपुर नगर राज्य की राजधानी था और राज्य का सबसे बड़ा नगर भी। उदयपुर राज्य की जनसंख्या वर्ष 1881 में 14,94,220, वर्ष 1891 में 18,45,008, वर्ष 1901 में 10,18,805, वर्ष

    Read More
  • कुछ राजाओं की आत्मा विदेशी नाचघरों में भटका करती थी

     20.08.2017
    कुछ राजाओं की आत्मा विदेशी नाचघरों में भटका करती थी

    बीसवीं सदी के आरंभ में देशी राजाओं में हीनता का भाव लाने तथा उन पर अंग्रेजी चकाचौंध का सम्मोहन चढ़ाने के लिये अंग्रेज अधिकारियों द्वारा देशी राजाओं को विदेश यात्राओं के लिये प्रोत्साहित किया जाने लगा। विदेश भ्रमण के समय राजाओं को इतनी अधिक सुविधायें दी जाती थीं कि स्वदेश लौटने क

    Read More
  • अंग्रेजों ने कांग्रेस से लड़ने के लिये नरेन्द्र मण्डल का गठन किया

     21.08.2017
    अंग्रेजों ने कांग्रेस से लड़ने के लिये नरेन्द्र मण्डल का गठन किया

    भारत में ब्रिटिश तंत्र को बनाये रखने के लिये भारतीय नरेशों का मूल्य समझ में आने पर ब्रिटिश सत्ता की ओर से कई बयानों में उसका उल्लेख किया गया। लार्ड हार्डिंग ने राजाओं को शाही हुकूमत के महान कार्य में सहायक और सहयोगी बताया। ब्रिटिश सत्ता ने इस काल में राजाओं को मजबूत बनाने के लिये

    Read More
  • जोधपुर स्टेट का डीफैक्टो रूलर था डोनाल्ड फील्ड

     22.08.2017
    जोधपुर स्टेट का डीफैक्टो रूलर था डोनाल्ड फील्ड

    महाराजा सरदारसिंह (1895-1911) के समय में जोधपुर में टेलिफोन तथा रेलवे सेवाएं आरंभ हुईं। उसकी असामयिक मृत्यु के बाद 5 अप्रेल 1911 को सुमेरसिंह मात्र 13 वर्ष की आयु में जोधपुर की गद्दी पर बैठा। जब वह 16 वर्ष का था तब प्रथम विश्वयुद्ध छिड़ गया। राजा उस समय पढ़ाई कर रहा था। राज्य की ओर से प्रधानमंत्र

    Read More
  • आम आदमी तिहरी गुलामी के बोझ से दबा हुआ था

     23.08.2017
    आम आदमी तिहरी गुलामी के बोझ से दबा हुआ था

    राजपूताना के समस्त देशी राज्यों के नागरिकों की आय ब्रिटिश भारत के नागरिकों की अपेक्षा बहुत कम थी। इसका कारण भौगोलिक परिस्थितियां कम तथा राजनीतिक एवं प्रशासनिक स्थितियां अधिक थीं। राज्यों से अधिकांशतः कच्चा माल ही बाहर जाता था। प्राचीन काल से चले आ रहे छोटे एवं कुटीर ग्रामीण उद

    Read More
  • साइमन कमीशन देशी रजवाड़ों की राजनीति में मील का पत्थर सिद्ध हुआ

     23.08.2017
    साइमन कमीशन देशी रजवाड़ों की राजनीति में मील का पत्थर सिद्ध हुआ

    अंग्रेजी शासनकाल में भारत दो विभागों में विभक्त हो गया। पहला भाग प्रांतों के रूप में था तथा ब्रिटिश भारत कहलाता था जबकि दूसरा भाग देशी राज्यों के रूप में था और रियासती भारत कहलाता था। ब्रिटिश भारत 11 प्रांतों- मद्रास, बम्बई, बंगाल, यूनाइटेड प्रोविंसेज, पंजाब, बिहार, सेण्ट्रल प्रोवि

    Read More
  • बटलर समिति ने राजाओं को उनकी वास्तविक तस्वीर दिखा दी

     24.08.2017
    बटलर समिति ने राजाओं को उनकी वास्तविक तस्वीर दिखा दी

    साइमन कमीशन के व्यापक विरोध एवं उसकी असफलता से चिढ़कर भारत सचिव लॉर्ड ब्रिकनहेड ने ब्रिटिश संसद में भारतीयों को भारत में एक ऐसे संविधान के निर्माण की चुनौती दी जो समस्त पक्षों को मान्य हो। कांग्रेस ने इस चुनौती को स्वीकार कर लिया। 28 फरवरी 1928 को एक सर्वदलीय सम्मेलन बुलाया गया जिसमे

    Read More
  • भारतीय राजाओं ने देश की पूर्ण स्वाधीनता का विरोध किया

     24.08.2017
    भारतीय राजाओं ने देश की पूर्ण स्वाधीनता का विरोध किया

    अनेक इतिहासकारों का मानना है कि देश में चलते राष्ट्रीय आंदोलन के कारण अपने घटते प्रभाव को सुरक्षित रखने के लिये भारतीय नरेश उत्तरोत्तर अपने आप को राष्ट्रीय आंदोलन के विरुद्ध प्रस्तुत करते रहे। डा. करणीसिंह ने लिखा है- उस समय, ब्रिटिश भारत के समाचार पत्रों में एवं सार्वजनिक मंचों

    Read More
  • कुछ प्रगतिशील राजाओं ने भारत संघ के निर्माण की वकालात की

     24.08.2017
    कुछ प्रगतिशील राजाओं ने भारत संघ के निर्माण की वकालात की

    भारत में चल रहे राष्ट्रीय आंदोलन को देखते हुए 31 अक्टूबर 1929 को लॉर्ड इरविन ने घोषणा की कि 1917 की घोषणा में यह बात अंतर्निहित है कि भारत को अंत में औपनिवेशिक स्वराज्य प्रदान किया जायेगा। अतः ब्रिटिश सरकार ने मुझे यह घोषणा करने का अधिकार दिया है तथा साइमन कमीशन की रिपोर्ट प्रकाशित होने

    Read More
Categories
SIGN IN
Or sign in with
 
×
Forgot Password
×
SIGN UP
Already a user ?
×