Blogs Home / Blogs / ब्रिटिश शासन में राजपूताने की रोचक एवं ऐतिहासिक घटनाएँ / सामंतों ने राजमाता की हत्या करके महारावल को कैद से आजाद करवा लिया
  • सामंतों ने राजमाता की हत्या करके महारावल को कैद से आजाद करवा लिया

     25.09.2017
    सामंतों ने राजमाता की हत्या करके महारावल को कैद से आजाद करवा लिया

    डूंगरपुर एवं बांसवाड़ा के राजकुल मेवाड़ के राजवंश में से ही अलग हुए थे। मेवाड़ का महाराणा उनके साथ अपने अधीनस्थ सरदारों की तरह व्यवहार करता था जबकि ये दोनों ही राज्य अपने आप को स्वतंत्र राज्य समझते थे तथा महाराणा को भाव नहीं देते थे। इससे महाराणा इन दोनों राज्यों से कुपित रहा करते थे।

    डूंगरपुर और बांसवाड़ा रियासतों में जोधपुर, जयपुर, उदयपुर तथा बीकानेर रियासतों की भांति उन्नति नहीं हो पायी थी। अशिक्षा इसका कारण नहीं थी क्योंकि अशिक्षा की स्थिति सारे राजपूताने में एक जैसी ही थी। आदिवासी बहुल क्षेत्र डूंगरपूर एवं बांसवाड़ा इसलिये पीछे नहीं रह गये थे कि उनमें शिक्षा का प्रसार नहीं था अपितु उनके पिछड़े हुए रहने का कारण रियासत की शासन व्यवस्था की कमजोरी थी।

    डूंगरपुर रियासत में नाप तोल की भी कोई पक्की व्यवस्था नहीं थी इस कारण व्यापारी लोग प्रजा को मनमाने ढंग से लूटते थे। महारावल शिवसिंह (ई.1730-1785) ने अपने काल में 55 रुपये भर का एक सेर बनाया तथा कपड़े नापने का गज निर्धारित किया। इस पर भी व्यापारी आम लोगों को लूटने में कोई कसर नहीं छोड़ते थे।

    ई.1784 में उदयपुर का महाराणा भीमसिंह विवाह करने के लिये ईडर गया। उस समय डूंगरपुर का महारावल शिवसिंह महाराणा की बारात में सम्मिलित हुआ। ई.1794 में महाराणा भीमसिंह अपने विवाह के लिये दूसरी बार ईडर गया। तब तक शिवसिंह की मृत्यु हो चकी थी तथा फतहसिंह डूंगरपुर का महारावल बन चुका था। फतहसिंह महाराणा की बारात में सम्मिलित नहीं हुआ। मेवाड़ राज्य के सामंतों की सलाह पर महाराणा ने डूंगरपुर को घेर लिया। महारावल ने महाराणा को तीन लाख रुपये देने का रुक्का लिखकर दिया और स्वयं महाराणा की सेवा में उपस्थित हो गया। इसके बाद महाराणा भीमसिंह ने बांसवाड़ा को घेर लिया। बांसवाड़ा नरेश विजयसिंह ने अपने सरदार गढ़ी के चौहान जोधसिंह को महाराणा की सेवा में भेज दिया जिसने महाराणा को तीन लाख रुपये देने स्वीकार किये।

    डूंगरपुर का महारावल फतहसिंह दिन रात शराब के नशे में डूबा रहता था। उसने झामा बखरिये के पुत्र पेमा को मंत्री बनाया जो झामा के समान ही अत्याचारी था। एक दिन शराब के नशे में उसने अपनी राणी को तलवार से मार डाला। राजमाता मेड़तणी शुभकंवरी ने राज्य को बर्बादी से बचाने के लिये मंत्री पेमा को अपने विश्वास में लिया और अपने पुत्र महारावल फतहसिंह को महल में ही कैद कर लिया। राजमाता स्वयं राज्य कार्य करने लगी। सरदारों को राजमाता का हस्तक्षेप अनुचित जान पड़ा और उन्होंने पेमा की हत्या का षड़यंत्र रचा।

    राज्य के सामंतों ने ऊमां को इस कार्य पर नियत किया। ऊंमा उन्हीं दिनों शहर कोतवाल नियुक्त किया गया था। एक दिन ऊंमा कोतवाल के पद का सिरोपाव लेकर मंत्री पेमा के घर के झरोखे के नीचे से निकल रहा था। पेमा की दृष्टि उस पर पड़ी तो उसने ऊंमा को अफीम पीने के लिये बुला लिया। ऊंमा तो यही चाहता था, उसने वहाँ पहुंचते ही पेमा पर तलवार का वार किया। पेमा ने भी मरते-मरते ऊंमा पर अपनी कटार का वार किया। ऊंमा घायल हो गया किंतु बच गया। पेमा के प्राण पंखेरू उड़ गये।

    कुछ ही दिनों बाद सामंतों ने षड़यंत्र करके राजमाता को भी मार डाला। विद्रोही सामंतों ने राजमहल लूट लिया और जिसके जो हाथ लगा, उठा कर ले गया। कुछ सामंतों ने फतहसिंह को बंदीगृह से मुक्त करवाया। गद्दी पर बैठते ही महारावल ने राजमाता को मारने वाले ठाकुर को पकड़ मंगवाया तथा उसी स्थान पर उसका वध किया जिस स्थान पर ठाकुर ने राजमाता को मारा था। इसके बाद महारावल ने हत्यारे को पकड़ने वाले दुर्जनसिंह को ठाकरड़े का पट्टा दिया।

    ई.1799 में महाराणा भीमसिंह ईडर के महाराजा गंभीरसिंह की बहिन चंद्रकुंवरी से विवाह करने के लिये तीसरी बार ईडर गया जहाँ से लौटते हुए उसने फिर से डूंगरपुर को घेर लिया। अनुमान है कि डूंगरपुर के महारावल ने 4 साल पहले तीन लाख रुपये देने का जो रुक्का लिखा था, उनकी वसूली अब तक नहीं हो सकी थी। इसलिये महाराणा ने इस बार डूंगरपुर से दण्ड वसूल किया।

    इसके बाद महाराणा ने बांसवाड़ा को जा घेरा। वहाँ से भी दण्ड वसूलकर वह प्रतापगढ़़ के लिये रवाना हुआ। प्रतापगढ़ को भी भली भांति अपने ताबे में लाकर महाराणा ने उससे दण्ड वसूल किया और उसके बाद उदयपुर को लौट गया।

    ई.1805 में दौलतराव सिंधिया ने उदयपुर को घेर लिया तथा उससे 16 लाख रुपये वसूल किये। उसने अपने सेनाध्यक्ष सदाशिव राव को डूंगरपुर भेजा। महारावल फतहसिंह पहले तो पहाड़ों में भाग गया और उसके बाद उसने सदाशिव राव को दो लाख रुपये लेकर चले जाने के लिये राजी कर लिया। राज्यकोष में इतना पैसा नहीं था कि सदाशिव राव को दिया जा सके। इसलिये महारावल के आदमियों ने अपनी ही प्रजा को लूटकर यह रकम इकट्ठी की। इस पर नागर ब्राह्मणों ने नाराज होकर राज्य का त्याग कर दिया।

    इससे पहले दौलतराव सिंधिया बांसवाड़ा में बुरी तरह मार खा चुका था तथा उसे हार की चोट कसकती रहती थी इसलिये उसने बांसवाड़ा पर दुबारा हमला कर दिया। बांसवाड़ा की सेना तीन महीने तक मराठों के छक्के छुड़ाती रही। अंत में दौलतराव ने बांसवाड़ा में प्रवेश किया और बांसवाड़ा को बुरी तरह लूटा।

    इन्हीं दिनों डूंगरपुर, बांसवाड़ा तथा उदयपुर आदि कई रियासतों में सिंधी मुसलमानों तथा पठानों का आतंक फैल गया। ई.1812 में सिंधी खुदादाद खां ने डूंगरपुर के महारावल जसवंतसिंह को कैद कर लिया। बांसवाड़ा ने भी अपनी सेना महारावल जसवंतसिंह की सहायता के लिये भेजी किंतु वह खुदादाद खां से परास्त हो गयी। अंत में मेवाड़ राज्य के थाणा ठिकाणे के रावत सूरजमल चूण्डावत ने आमने सामने के युद्ध में खुदादाद खां को मार डाला तथा महारावल जसवंतसिंह ने फिर से डूंगरपुर पर अधिकार कर लिया।

    उदयपुर के महाराणा भीमसिंह ने भी अपने सरदारों को दबाने के लिये अपनी सेना में सिंधी मुसलमानों तथा पठानों को बड़ी संख्या में रख लिया था। ये बड़े ही दबंग और झगड़ालू सैनिक हुआ करते थे तथा वेतन के लिये किसी भी राज्य की सेवा में चले जाया करते थे। ये किसी से भय नहीं खाते थे। एक बार जब इन सिंधी मुसलमानों को समय पर वेतन नहीं मिला तो ये महाराणा के महल पर चढ़ आये। जब उद्दण्ड सैनिकों ने महल की ड्यौढ़ी पर नियुक्त रक्षकों को मार डाला तो शोर सुनकर महाराणा भीमसिंह महल से बाहर आया तथा अकेला ही तलवार लेकर उद्दण्ड सैनिकों पर टूट पड़ा।



    महाराणा पर तलवारें छा गयीं किंतु वह घबराया नहीं और दृढ़ता पूर्वक तलवार चलाने लगा। उन दिनों कोटा राज्य का फौजदार झाला जालिमसिंह कोटा से निर्वासित होकर महाराणा की सेवा में संलग्न था। महाराणा को अकेले ही लड़ता हुआ जानकर वह भी तलवार लेकर महाराणा की सहायता के लिये आ गया। बड़ी कठिनाई से सिंधी सैनिकों पर काबू पाया जा सका। बाद में जब अंग्रेजों ने राजपूताना राज्यों से संधि की तब उसमें यह शर्त भी रखी गयी कि कोई भी राजा बिना अंग्रेजों की अनुमति के सिंधी, पठान, बलूच, फ्रैंच या पुर्तगाली को अपनी सेना अथवा राज्य की सेवा में नहीं रखेगा।

  • डूंगरपुर एव"/> डूंगरपुर एव"> डूंगरपुर एव">
    Share On Social Media:
Categories
SIGN IN
Or sign in with
 
×
Forgot Password
×
SIGN UP
Already a user ?
×