Blogs Home / Blogs / अजमेर नगर का इतिहास - पुस्तक / अजमेर का इतिहास - 87
  • अजमेर का इतिहास - 87

     02.06.2020
    अजमेर का इतिहास - 87

    स्वातंत्र्योत्तर अजमेर के प्रमुख संस्थान


    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    राजस्थान राजस्व मण्डल


    राजस्थान राजस्व मण्डल की स्थापना नवम्बर 1949 में जयपुर में हुई। इसके प्रथम अध्यक्ष ब्रजचंद शर्मा थे। 22 जुलाई 1958 को राजस्व मण्डल का अजमेर में हस्तांतरण किया गया। इसका प्रथम कार्यालय तोपदड़ा स्कूल के पीछे स्थित था। 26 जनवरी 1959 को इसे नये भवन में स्थानांतरित किया गया। मुख्यमंत्री मोहनलाल सुखाड़िया ने इसका उद्घाटन किया। वर्तमान में राजस्व मण्डल में एक अध्यक्ष तथा अधिकतम 15 सदस्य होते हैं।

    राजस्थान लोक सेवा आयोग

    स्वतंत्रता प्राप्ति से पहले राजस्थान की विभिन्न रियासतों में अपने-अपने लो सेवा आयोग काम कर रहे थे। 16 अगस्त 1949 को जयपुर में राजस्थान लोक सेवा आयोग का गठन किया गया। सरदार पटेल ने इसका उद्घाटन किया। इसके प्रथम अध्यक्ष मुख्य न्यायाधीश सर एस. के. घोष थे। कैपिटल इन्क्वायरी कमेटी की अनुशंसा पर 1 अगस्त 1958 को इसे अजमेर में स्थानांतरित कर दिया गया।

    रेलवे भर्ती बोर्ड

    रेलवे भर्ती बोर्ड की स्थापना ई.1983 में रेलवे सेवा आयोग अजमेर के रूप में हुई। ई.1985 में इसका नाम बदलकर रेलवे भर्ती बोर्ड किया गया। यह उत्तर पश्चिम रेलवे के अजमेर, जयपुर, जोधपुर, बीकानेर डिवीजन और पश्चिम रेलवे के कोटा डिवीजन के गु्रप सी के वर्किंग व सुपरवाइजरी स्टाफ का चयन करता है।

    आयुर्वेद निदेशालय

    आयुर्वेद निदेशालय की स्थापना अजमेर के राजस्थान में विलय के पश्चात् की गई। यह राज्य के आयुर्वेद एवं यूनानी अस्पतालों का नियंत्रण करता है।

    राष्ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केन्द्र

    राष्ट्रीय बीजीय मसाला अनुसंधान केन्द्र राष्ट्रीय महत्व का संस्थान है जिसमें बीजीय मसालों पर अनुसंधान की जाती है।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
Categories
SIGN IN
Or sign in with
×
Forgot Password
×
SIGN UP
Already a user ?
×