Blogs Home / Blogs / पाकिस्तान का संक्षिप्त इतिहास / पाकिस्तान का संक्षिप्त इतिहास . 3
  • पाकिस्तान का संक्षिप्त इतिहास . 3

     03.06.2020
    पाकिस्तान का संक्षिप्त इतिहास . 3


     

    ब्रिटिश भारत और रियासती भारत

     

    ब्रिटिश सरकार ने भारत का शासन 1858 ईस्वी में ईस्ट इण्डिया कम्पनी से प्राप्त किया था। तब तक ईस्ट इण्डिया कम्पनी भारत को दो बड़े टुकड़ों में विभाजित कर चुकी थी। पहला टुकड़ा था ईस्ट इण्डिया कम्पनी द्वारा प्रत्यक्ष शासित क्षेत्र जिसे "ब्रिटिश इण्डिया" अथवा "इंगलिश भारत" कहा जाता था। दूसरा टुकड़ा था राजाओं द्वारा शासित क्षेत्र जिसे "इण्डियन इण्डिया" अथवा "रियासती भारत" कहा जाता था। 

     

    पहले टुकड़े पर ईस्ट इण्डिया कम्पनी गवर्नर जनरल के माध्यम से शासन करती थी तो दूसरे टुकड़े पर वायसराय के माध्यम से शासन किया जाता था। हालांकि व्यवहारिक रूप में इन दोनों पदों को एक ही व्यक्ति संभालता था। 1858 ईस्वी के आगे भी यही व्यवस्था चलती रही। ब्रिटिश संसद ने इसमें कोई बड़ा बदलाव नहीं किया।

     

    मार्ले-मिण्टो एक्ट ने की नये विभाजन की शुरुआत

     

    1885 में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की स्थापना हुई। ई.1908 तक वह भारत की राजनीतिक समस्या को लेकर संघर्ष करने वाली एक मात्र संस्था बनी रही। ई.1908 में ढाका में भारतीय मुस्लिम लीग की स्थापना हुई। मुस्लिम लीग के उदय होने से राजनीतिक स्तर पर देश के विभाजन का बीज पड़ा। इसके तुरंत बाद देश में ई.1909 के मार्ले मिण्टो सुधार एक्ट के तहत भारतीय मुस्लिमों के लिये विधान सभाओं में अलग प्रतिनिधित्व की व्यवस्था की गयी। कांग्रेस ने इस व्यवस्था का विरोध किया जबकि मुस्लिम लीग ने इसका समर्थन किया। 

     

    इतिहासकारों ने अंग्रेजों की इस व्यवस्था को फूट डालो और शासन करो की नीति कहकर पुकारा है। विख्यात पत्रकार दुर्गादास ने लिखा है- "व्हाइट हॉल ने पृथक निर्वाचन एवं सांप्रदायिक प्रतिनिधित्व को स्वीकार करके अनजाने में ही सर्वप्रथम विभाजन के बीज बोये।" गणेशप्रसाद बरनवाल ने लिखा है- "मार्ले मिण्टो सुधार एक्ट ने साम्प्रदायिकता की फसल का बीमा कर दिया।" 

    हमारा मानना है कि ये अनजाने में बोये गये बीज नहीं थे। साम्प्रदायिकता के बीज शताब्दियों से भारत की राजनीतिक जमीन में मौजूद थे तथा उसकी फसल भी सदियों से लहरा रही थी। मार्ले-मिण्टो एक्ट ने तो साम्प्रदायिकता की फसल को काटकर उससे मुनाफा कमाने की तरकीब तलाशी थी। 


  • Share On Social Media:
Categories
SIGN IN
Or sign in with
×
Forgot Password
×
SIGN UP
Already a user ?
×