Blogs Home / Blogs / /
  • How Did Pakistan Emerge-3

     22.07.2017
    How Did Pakistan Emerge-3

    Radcliffe line

    To demarcate the boundaries between India and Pakistan upon the partition of India, the Radcliffe Committee was appointed on 27 June 1947. It was named after a noted lawyer of England, Sir Cyril Radcliffe, who was the chairman of this Committee. Radcliffe made his maiden visited Delhi on 8 July 1947. A board of four judges was deputed in each province to assist him. Of all these judges, half were appointed by the Congress and half by the Muslim League. Writing a letter to Mountbatten, Governor of Punjab demanded that the report of Radcliffe Committee must be generated prior to independence in order to end people’s rout. Even the Partition Committee also appealed the same to the Viceroy.

    Sir Cyril Radcliffe was a prominent barrister in England. He had never visited India before. People gathered around him in droves and tried to impress him, wherever he went. A flick of his pen could save or demolish them. They could go beyond any limit to impress that Britisher. Radcliffe was showered with maps, signatures, bribes, and threats.

    Although the report was ready by 9 August 1947, Mountbatten decided to delay it from being public in order to prevent a widespread disorder on Independence Day and finally presented it on 17 august 1947 which resulted in a prevalence of dilemma in Punjab and Bengal. Neither side was happy with Radcliffe’s work. They had heavily criticized Radcliffe; frustrated Radcliffe thus refused to accept the remuneration of two thousand pounds.

    Radcliffe’s fear- “people would shoot me”

    Radcliffe flew to England and decided never to visit India again. He admitted that the Indian leaders had asked him to do an onerous task to draw them a line on or before 15 August 1947. So he “drew them a line”; what more they expected from him in such situation. He later remarked, “I suspect they’d shoot me out of the hand, both sides.”

    Demand of Taj Mahal by Muslims

    After the announcement of the date of partition, some Muslim fundamentalists wanted Taj Mahal to be dismantled and shipped to Pakistan where it should be built afresh. However, their demand lacked strength.

    Birth of Pakistan

    Jinnah left India for Karachi on 7 August 1947. The next day, Sardar Patel said, “the poison has been removed from the body of India. We all are one and indivisible. You cannot divide the sea or the waters of the river. As for the Muslims, they have their roots, their sacred places and their centers here. I do not know what they can possibly do in Pakistan. It will not be long before they return to us.” India was partitioned on the basis of religious demographics on 14 August 1947.

    The partition gave birth to two states- the Muslim-majority Dominion of Pakistan and the Hindu-majority Union of India. Lord Mountbatten addressed in the Constituent Assembly of Pakistan and declared Pakistan as completely independent nation on 14 August 1947. The Viceroy flew back to Delhi on the same day (14 August 1947) and at midnight; he announced the independence of India in the Constituent Assembly of India.

    Soon after the end of the British Raj, a Governor-General was to be appointed for India and Pakistan. It was provided in the Indian Independence Act that a person might be appointed as a Governor-General for both the countries. It was being assumed that Mountbatten would be suitable and would be appointed as the Governor-General for both the countries for some time. But only India appointed Lord Louis Mountbatten as its first Governor-General while Jinnah became the Governor-General of Pakistan. Several years later, when Mountbatten came to India, Pakistan didn’t allow his airplane to fly over Pakistan.

    Largest escape in the human history

    The line drawn by Radcliffe had left 5 million Hindus and Sikhs in Pakistani-Punjab and 5 million Muslims in Indian-Punjab. Eventually, about hundreds of thousands of Muslims migrated to Pakistan from India and vice-versa. By estimating the number, Michael Bricher writes that under fear, rumor, madness, and approximately 12 million people crossed the boundaries between India and Pakistan. By other estimates, around 5 lakh people died or were killed before the end of a year. Delhi’s street was filled with refugees. Moseley writes that post- partition, migration unleashed gruesome violence in the subcontinent. Over 6 lakh were killed, 14 million fled away from their homes, 1 lakh women were abducted or forced into trafficking. Children were harassed, and many women were raped. Even worse, the womb of pregnant ladies was ripped off. Sikhs and Hindus dwelling on North-western Frontier for generations fled their homes and hearths towards East (communities of Hindus and Sikhs) in search of protection. Some traveled on foot, some in bullock carts, some crammed into Lorries and some clung to the sides and roofs of trains. Along the way, they collided with the Muslims, who were fleeing to seek refuge in the west. Riots turned into rout. By the summer, when the official announcement of the creation of the new state of Pakistan had been made, approximately ten million people- Muslims, Hindus and Sikhs were caught up in chaotic transition. Nearly 1 million people were killed with the arrival of monsoon. Whole of northern India was under arms, terror and hide and seek.

    It is evident from the above facts that abusing the chancellor post of Narendra Mandal, Nawab of Bhopal did not want a strong union to be built at the center. In such situation, the king of Bikaner, Sudal Singh, came forward on national political stage to lead the kings of the country. On 10 April 1947, key cities such as Baroda, Patiala, Bikaner, Udaipur, Jaipur, Jodhpur and Rewa, announcing their participation in the constituent assembly, destroyed the plans of the Nawabs. The rulers wanted that the paramountcy should lapsed immediately so that they could negotiate for their rights firmly but the British Government believed that the dilution of sovereignty for the British India as well as the dilution of paramountcy for the princely states should not be on different dates.

    The Rajputana states had turned the history of the country, which was standing on the door to independence, into a right direction forever. However, the Rajputana kings had made surety that the charges of being an enemy of the country’s democratic progress would not be imposed on them.

    Issues of the native states

    According to section 8 of India Independence Act, 1947, from 15 August 1947, the British suzerainty over the princely states was to be diluted, and the powers were once again to be transferred to the princely states. Thus, the princely states were free to join either India or Pakistan or remain independent. At the time of independence, the Hindu states were in a majority in India. The rulers of Hyderabad, Bhopal, Junagadh, and Tonk etc. were Muslims but the most of their people were Hindus. Whereas the ruler of Kashmir was Hindu but most of the people there were Muslims. In this way ethically, states of the country and their citizens were associated with the Hindu-majority areas of British India.

    At the time of independence, there were 566 princely states in India. Only 12 states of them– Bahawalpur, Khairpur, Kalat, Las Bela, Makran, Kharan, Amb, Chitral, Hunza, Dir, Nagar, and Swat were surrounded by Pakistan. These were to be integrated into Pakistan. Rest 554 states were to remain in India. Except Junagadh, Bhopal, Hyderabad and Jammu and Kashmir, remaining 550 princely states agreed to integrate in India before 15 August 1947 with the efforts of Sardar Patel. Junagadh, Hyderabad, Bhopal, and Kashmir refused to join India. Some Hindu states began to dream of living independently of India and Pakistan.

    The Congress reckoned that when the British Government would transfer the power to Indian Government, then suzerainty of the British Government over the princely states would automatically move to the Indian Government. Small states had no choice other than to join the Indian Union, but large and capable states had a different situation. Travancore, Hyderabad, Jammu and Kashmir, Mysore, Indore, Bhopal, Nawanagar, even the small principality Bilaspur dreamed of being truly free.

    The Alwar ruler said in the meeting of Narendra Mandal held at Bombay on 3 April 1947 that the Governors of princely states must not integrate into the Hindi Union. On 5 June 1947, Bhopal, Travancore proclaimed to exist as a separate state. Hyderabad also showed its willingness to remain aloof. Such similar announcement was also expected from Kashmir, Indore, Jodhpur, Dholpur, Bharatpur and another group of states.

    In this way, the ambitions of the rulers of some princely states had become the threat to the country’s integrity. The Governor of Madras and later on Britain’s first High Commissioner of independent India, Sir Archibald Nye had doubt in negotiating any treaty with the princely states. Mountbatten told Sardar Patel that he could secure the rulers’ accession to India and could make them drop the idea of remaining independent on the following terms-the rulers would be allowed to retain their positions, estates, and properties; there would be no arrest; there would be the guarantees of privy purse and they would not be prevented from accepting the honor given by the British Government. Patel put the condition before Mountbatten that he would accept all the above stipulations provided Mountbatten bagged all the princely states into the lap of India.

    Tej Bahadur Sapru was so surprised on the foolish thinking of the states whether small or large, that they would be independent and would be able to maintain their independence. Lords of adversity foretold that India’s Independence boat would collide with the rock of the states.

    Take care of your “babies”

    After the announcement of the independence of India, the cartoon titled “YOUR BABIES NOW” by David Low was published in London Evening Standard wherein the problem of the Indian rulers was portrayed accurately before the Indian leaders. In the said cartoon, Nehru and Jinnah, sitting on separate chairs, were shown. Some children were sitting in their lap. Britain was shown as a nurse, who was going away with the union jack. Children sitting in the lap of Nehru were delineated as the problem of rulers, who were screaming and kicking to his knees.

    Jinnah’s conspiracy

    On one hand, the Congress presented strict policy against the princely states, on the contrary, the Muslim League adopted an exceedingly naïve attitude towards the princely states. It was convenient for the Muslim League to do so. Jinnah was trying that a large number of states declared their independence and joined Pakistan so that the Indian Union could become permanently weak. Jinnah wanted to convey it to the rulers that the Congress was the common enemy of both the Muslim League and the princely states. He also attempted to attract the Rajput states to Pakistan by giving them lucrative offers. He assured the princely states that the Muslim League would not interfere in their internal affairs and if they wished to settle independent, then also they would not be given any trouble from Muslim League’s side. A secret campaign was being carried out among the rulers of Rajasthan by the Muslim League that they (Rajasthan) should join Pakistan, not the Hindi Union. Mountbatten’s attitude was incredibly soft towards the Nizam of Hyderabad. Jinnah used Corfield and Nawab of Bhopal to make India paralyzed.

    Attitude of the rulers

    Maharaja of Travancore accepted to send a merchant from his place to Pakistan on 11 June 1947. Maharaja of Jodhpur and the rulers of many other small states were looking to the consequences of the revolt carried out by larger states, pursuant to which they wanted to follow up.

    Baroda Maharaja Pratap Singh’s dismissal

    Baroda Maharaja Pratap Singh wrote Sardar Patel a letter that unless he was chosen as the king of India and unless the Government of India accepted all his demands, he would not cooperate and nor would cooperate in suppressing the rebellion by Nawab of Junagadh. Upon this, the Government of India instead chose to appoint Maharaja Pratap Singh’s son, Fateh Singh as the Maharaja of Baroda. After seeing Indian Government’s rigid attitude, Maharaja Pratap Singh started acting humbly like country’s servant. He also dissolved the State Union, which he had created to prevent the merger of the princely states. He finally came to the conclusion that joining hands with the Indian Government and receiving their protection was the only option left with him. It also came to his mind that instead of being a ruler and living on the will of rebellious people, living under the patronage of the Indian Government would be far more suitable.

    Bhopal Nawab’s plot

    Nawab of Bhopal, Hamidullah Khan, was working covertly as a pro-Muslim, pro-Pakistani and anti-Congress but, after the partition of India was finally decided, third front leader Nawab of Bhopal opened his fist and directly went in the support of divisive Muslim League and became the close advisor of Jinnah. He was included in that plan of Jinnah in which more and more of rulers were to be encouraged to join Pakistan and announcement was to be undergone by them to remain autonomous. Secretary of Ministry of States, A. S. Pai sent Sardar Patel a note sheet stating that Nawab of Bhopal was working for Jinnah. Nawab wanted that the states situated along the route from Bhopal to Karachi should be amalgamated into one unit and should join Pakistan. Therefore, he drew a plan with the consent of Jinnah to include Baroda, Indore, Bhopal, Udaipur, Jodhpur, and Jaisalmer in Pakistan. The biggest hurdle in this scheme could arise from the presence of Baroda and Udaipur. Maharaja of Jodhpur took the responsibility for securing the consent of the states described above. In this way, a map to break India into smithereens was prepared.

    Involvement of Dholpur Maharaja in the plan

    Hamidullah Khan also involved Maharaja Rana of Dholpur Uday Bhanu Singh in his plan. Uday Bhanu Singh was considered as a polyhistor, intelligent and efficient ruler of the main state of Jat. However, he was not ready acceding Dholpur into the Indian Union, come what may! On Jinnah’s cue, the Nawab and Maharaja Rana talked to many rulers of the states such as Jodhpur, Jaisalmer, Udaipur, and Jaipur, etc. and invited them to meet Jinnah. Maharaja of Alwar among the Hindu rulers was also there, to accompany the Nawab.

    Corfield’s conspiracy 

    Corfield, through residents and political agents, motivated the rulers of the states to stay different from the Indian Union. Corfield wanted at least 2-3 states, wherein Hyderabad topped on his list, to escape out from the clutches of the Congress. He also wanted to make as difficult as possible for the other states to join India. Corfield publicized among the states that the states had three ways instead of two, that they could join any of the two dominions or stay independent. With the efforts of Corfield, Travancore, Hyderabad announced to remain independent and showed their reluctance to join any of the dominions.

    Establishment of the Department

    of States On 5 July 1947, the Ministry of (Princely) States headed by Sardar Patel came into being. Congress believed this “Iron Man” of the party could cajole, out-maneuver these princely states to accede to India. He alone was enough to head-on the plans of Hamidullah, Corfield, Ramaswamy Iyer and circumvent the independent states into the Indian Union. V.P Menon was appointed as an advisor and secretary of Patel. He was the only officer who could solve the complex problem of the states. The great combination of factors of Patel’s personality and Menon’s mind proved dire in rulers agreeing to integrate with India. Seasoned politicians such as Sardar K.M Panicker, V.T Krishnamachari; distinguished minister of the Indian States and senior officials of Indian Civil Service such as C.S Venkatachar, M.K Vellodi, V. Shankar, Pandit Hari Sharma were working in backstage. Patel said to Menon that Pakistan was working on an idea of merging some border states with them. The situation was such hideous that the independence they labored for after facing so much of difficulties could vanish from the doors of the states.

    Merger on three subjects

    Five weeks were left from the date of independence. On one hand, Corfield was engaged in the work of dissolution of the central authority from the states before the end of the British power due to which all the arrangements would be being canceled one by one. On the other hand, Sardar was in pucker that before 15 August, how the matter regarding every system of the rulers such as the army, post which the Britishers had begun to cancel, could be tackled. Menon suggested Sardar to put pressure on the rulers over three subjects for merger namely- defense, external affairs, and communications. After securing the permission from Patel, Menon sought help from Mountbatten in this regard. Menon told the Viceroy if all the states united with India, then the degree of the wound of the division would decrease to some extent, and if Mountbatten gave support in this matter, then the citizens of India would owe him a debt of gratitude for centuries. Eventually, Mountbatten gave a green light to the matter.

    On 5 July 1947, Patel appealed the rulers to integrate into the Indian Union before 15 August 1947. The princely states had to entrust the 3 subjects of the public interest – defense, foreign affairs and communications, the assent of which they had given earlier in the Cabinet Mission. Neither the Indian Union had asked anything more than this nor had a desire to interfere in the internal affairs of the Princely states. He assured that the policy of States Department would not be of domination over the States.

    The Congress was never against the rulers. The Indian rulers had always expressed their faith towards patriotism and public welfare. Patel also warned the rulers that if any of the rulers thought that the British paramountcy would be transferred to him, then this would be his mistake. Paramountcy lay inside the citizens of India. This declaration was of a kind to invite the rulers on equal existence to join Independent India. In Sardar’s words, this proposal was better than the subordinate treaty set between the rulers and the British Government in the past. In this way, the first dice was thrown by Menon and Sardar to persuade the states to accede to India, the result of which was that Bikaner ruler Saadul Singh accepted the Sardar Patel’s declaration once again and requested his brother rulers to hold the extended hand of friendship and give their full support to the Congress so that India could attain its goal at much faster pace.

    However, most rulers believed that they should have listened to Corfield instead of Patel.


  • Share On Social Media:
  • How Did Pakistan Emerge-4

     22.07.2017
    How Did Pakistan Emerge-4

    Strategies to accede Jodhpur to Pakistan

    On 16 July 1947, V.P Menon sent a letter to Indian Deputy Secretary Sir Patrick in England stating that the Viceroy had talked to the representatives of Mysore, Baroda, Gwalior, Bikaner, Jaipur, and Jodhpur about the matter of unification in India. All of them had positive reactions. On 2 August 1947, Menon informed Patrick that almost all the rulers had made up their minds to concatenate their states in the Indian Union.

    Only Hyderabad, Bhopal, and Indore were in a dilemma. The Viceroy had convinced the rulers, and the rulers of following states had shown their consent to join their states in India- Gwalior, Patiala, Kota, Jodhpur, Jaipur, Rampur, Nawanagar, Jalawar, Panna, Tehri Garhwal, Faridkot, Sangli, Sitamau, Palitana, Phaltan, Khairagarh, and Sandur. Albeit, Jodhpur state had been working in the Constituent Assembly since 28 April 1947, and the ruler of Jodhpur, Maharaja Hanwant Singh had announced his decision twice to join India; however, he came under the influence of Mohammad Ali Jinnah (creator of Pakistan), his supporter- Nawab of Bhopal and Maharaja Rana of Dholpur exactly 10 days before the country rolling up for independence.

    When the plan to set up an independent group of Rajput states failed, then the members of the Political Department advised the Rajput states to integrate into Pakistan. The Rajput states could do that legally as these stretched along the border of Indo-Pakistan. Jodhpur was among those states. Since Maharaja Hanwant Singh hated Congress and Jodhpur lay near the Pakistan border; therefore, he thought to meet Jinnah. The ruler of Jodhpur had met Jinnah and the leaders of Muslim League several times and in his last visit, he took Maharaja Kumar of Jaisalmer along with him. The ruler of Bikaner refused to go with him, and Hanwant Singh was hesitant to see Jinnah alone. Seeing those people, Jinnah became jubilant. Jinnah knew that if these two states would integrate into Pakistan, then other Rajput states would also integrate into Pakistan; not only would the issue related to the partition of Punjab and Bengal be solved but the plan of the Congress to acquire all the major states would also be failed. Jinnah signed a blank paper and gave it to the ruler of Jodhpur along with his pen, and told him to jot down any conditions. Further discussions took place. On this, Hanwant Singh showed his inclination to become a part of Pakistan. Then he turned towards Maharaja Kumar of Jaisalmer and asked his opinion. Maharaja Kumar was ready to sign on one condition that if ever Muslims and Hindus fought, then Jinnah would not favor Muslims against Hindus. It was like a bombardment which left Maharaja Hanwant Singh flummoxed. Jinnah pressurized Hanwant Singh to sign the document. When Maharaja Kumar of Jaisalmer refused to unite with Pakistan, Maharaja of Jodhpur became erratic. Taking an advantage of this opportunity, Maharaja’s A.D.C Colonel Kesari Singh advised Maharaja to ask his mother before taking the final decision. Maharaja got an excuse, and he departed saying to Jinnah that he would think about it and be back in one-two days with his decision.

    Colonel Kesari Singh informed Prime Minister C.S Venkatachar about the facts. Seeing the severity of the conspiracy, Venkatachar sent a letter to the Prime Minister of Bikaner, Sardar Panicker on 6 August 1947. It was stated in the letter that Nawab of Bhopal took Maharaja of Jodhpur to meet Jinnah. Jinnah had offered that he was willing to make a treaty, by giving recognition to Jodhpur of an independent state. He also offered that all those arms required by Jodhpur could be imported freely without any marginal tax. Jinnah also reassured to make Maharaja of Jodhpur, a supremo of Rajasthan, which took him completely by surprise and tempted him to become the king of Rajasthan. Colonel Kesari Singh, secretary of Maharaja, went to Jinnah’s residence along with Maharaja, but he was not allowed to go inside. So he was not aware of all the terms. The next day, when Maharaja went along with Nawab of Bhopal to meet Jinnah, then the format of the treaty was ready for the signature. At that time, Maharaja told Kesari Singh that by signing the treaty, he would become the King of Rajasthan. Kesari Singh explained to Maharaja that he should first consult her mother and other relatives before doing so. Maharaja departed by reassuring Jinnah that he would sign the treaty on 8 August after taking the advice of their relatives. Kesari Singh also reiterated this assurance.

    After returning to Jodhpur, Hanwant Singh convened a meeting of the State’s vassals at Sardar Samand Palace and encouraged their opinion. None of the vassals except Damli Thakur was willing to struggle with the Indian Government. Maharaja stayed in Jodhpur for three days. There was much indignation in the environment of Jodhpur over the question of annexation with Pakistan. When Hanwant Singh returned to Delhi after three days, then Menon was informed that if he could not handle Maharaja expeditiously, then there were chances that Maharaja might join Pakistan. Menon urged Mountbatten to make Maharaja of Jodhpur agree to join India. Menon went to Imperial Hotel and told Maharaja that Lord Mountbatten wanted to talk to him. Menon drove Maharaja to Viceroy’s house. The Viceroy, with his attractive personality and stalwart spoke to Maharaja similarly like a teacher explains to his undisciplined student. He told Maharaja that he had a full right to accede Jodhpur to Pakistan, but he should not overlook the consequences which would arise out of this. He was a Hindu, and most of his subjects were predominantly Hindu. The Maharaja’s action would be against the principle that the India would be fragmented into two pieces, one of which would be the Muslim country and the other would be Non-Muslim country; and such affiliation into Pakistan would lead to serious communal troubles in Jodhpur.

    A movement was also expected to be carried out by the congress. Maharaja told Mountbatten that Jinnah had asked to jot down his terms on the blank paper on which Jinnah would sign. Menon on this said that he could also do the same, but Maharaja would not receive anything from this in the same way as he would get nothing from Pakistan despite the signature from Jinnah. On this, Mountbatten asked Menon to give certain concessions to Maharaja like Jinnah. Maharaja accepted the proposal of merger of the state into India and signed the document. Maharaja and Menon both agreed on some privileges which Menon himself took to Jodhpur when it came in written form. According to the report sent by Mountbatten to Indian Secretary on 8 August 1947, the Prime Minister of Jodhpur Venkatachar had informed that after having lunch in Delhi with the Viceroy, Maharaja of Jodhpur had declared that he want to accede Jodhpur to the Indian Union.

    However soon afterward, Maharaja of Dholpur pressurized Maharaja of Jodhpur not to adhere to the Indian Union. Maharaja of Jodhpur was taken to Jinnah and in the presence of Nawab of Bhopal and his legal counselor Zafarullah Khan, Jinnah proposed that if Maharaja heralded his state independent on 15 August, then following concessions would be given:-

    (1) All the facilities of the port of Karachi would be given to Jodhpur State.

    (2) Jodhpur State would be allowed to import arms.

    (3) Jodhpur would have jurisdiction over Jodhpur-Hyderabad railway.

    (4) An ample supply of grains would be provided in famine-prone districts of Jodhpur.

    The Viceroy writes that Maharaja believed that offers given by Jinnah were the best and informed Nawab of Bhopal through a telegram that his situation was unstable, and he would like to meet him on 11 August. On 7 August, Hanwant Singh went to Baroda where he explained Maharaja Gaekwad not to sign the signed protocol. Bhopal Nawab was also trying to allure the rulers of Jodhpur, Kutch, and Udaipur not to sign the signed protocol. The Viceroy sent a letter to Maharaja of Jodhpur asking him to visit him soon. He (the Viceroy) was extremely sad because on one hand Nawab of Bhopal behaved like a friend but on the other hand he planned to thwart his plot. He accounted that he would talk on the Nawab’s tricks when latter would visit Delhi.

    On 11 August 1947, Lord Mountbatten interacted to the rulers of the states and sought clarification from Nawab on the information, which was received by Sardar Patel, according to which the Nawab had pressurized Maharaja of Jodhpur to meet Jinnah along with him. Bhopal Nawab gave the answer to the Viceroy :

    On 6 August, Maharaja Dholpur and other two rulers informed me that Maharaja Jodhpur wanted to see me. I answered that I would be glad to meet Jodhpur Maharaja. When Maharaja came to me, he said that he wanted to meet Jinnah soon to know the details of the terms. As Jinnah was going to Karachi forever, leaving Delhi, he was extremely busy. Yet I managed to take the time of interview for Maharaja. We (Nawab and Maharaja) were given the time after the lunch, information of which was sent to Maharaja. Maharaja came to my residence in the afternoon, and we then went to meet Jinnah. Maharaja asked Jinnah what all offers were in his basket for the rulers who wanted to establish the relationship with Pakistan. Jinnah made a clear statement that he would like to make a treaty with those rulers and give them the recognition of an independent state by offering them good conditions. Then Maharaja further talked about the facility of sea-port, jurisdiction over railway, supply of grains and the free import of arms. During the meeting, there was no discussion on the fact that whether or not Maharaja should sign the protocol. I returned to Bhopal after this interview. I received the message on the phone call from Maharaja of Dholpur about Jodhpur Maharaja’s return to Delhi on 9 August; therefore I should also reach Delhi. When I reached Delhi, then I received the message at the airport from Maharaja to reach Jodhpur Maharaja’s place directly. On arrival, Maharaja of Dholpur told me that I had to wait for sometime more as Jodhpur Maharaja had gone to meet the Viceroy and would return shortly. But Maharaja did not get the time to meet me as he stayed for longer to the Viceroy. Maharaja sent the message through telephone that he was leaving for Jodhpur and would return in the evening. On Saturday evening, Maharaja Dholpur informed me that Maharaja Jodhpur had not yet returned, and it appeared that he might return on Sunday. On Sunday (10 August) around 13:30pm, I got the invitation from Dholpur Maharaja to join him for the lunch. I on arrival discovered Jodhpur Maharaja there. He had brought his master along. Maharaja introduced his master as his philosopher and advisor. After meeting Jinnah, I met Jodhpur Maharaja that day. Maharaja asked us to interact with his master. Dholpur and other rulers had detailed conversations with the master in which I had participated little. When I was about to leave, then Maharaja of Jodhpur said that he would come on Monday morning to meet me. Keeping his promise, Maharaja came to meet me on Monday at 10 am and said that his master has not reached his decision yet but Maharaja himself has taken the decision to remain in the Indian Union. I said to Maharaja that he is the ruler of his state and is free to make his own decisions.

    The Viceroy considered the facts sent by Bhopal Nawab right. Onkar Singh assumes, based on this description, that Colonel Kesari Singh was not present at the time of the meeting of Jinnah and Maharaja of Jodhpur; otherwise, the Nawab would have surely mentioned him. According to Onkar Singh, Kesari Singh had spread the delusions that he was also present at the time of meeting; due to which Maneckar and Panicker had distorted the facts.

    On 16 August, Lord Mountbatten sent the final report to Indian secretary, Article 41 of which stated that when Mountbatten called Maharaja Jodhpur on 8 August then latter reached Delhi late on the same night from Jodhpur and met him the next morning. Maharaja admitted about his meeting with Jinnah, and the description given by the Nawab was correct. When Patel came to know about Maharaja’s ploy, then he agreed to go to any extent to persuade Maharaja. He finally agreed on following terms: Maharaja Jodhpur would be able to import the arms without any interruptions; whole grains would be supplied to the famine-prone areas of the state and for this, other areas of India would be disregarded; the railway line would be allowed to extend from Jodhpur to the sea-port of Kutch. Maharaja became satisfied on Patel’s acceptance, and he decided to remain with India.

    Onkar Singh believes that Maharaja Hanwant Singh neither wanted to join Pakistan nor wanted to become the king of Rajasthan, but he wanted to put pressure on Sardar Patel to basket maximum benefits for his state. It could be said in the light of the facts that having been trapped in the coups of Bhopal Nawab and Maharaja Rana Dholpur, Maharaja of Jodhpur visited Jinnah to find out that in which possibilities he would have a maximum advantage, whether to join India or Pakistan or to remain autonomous. Even the Hindu rulers of Jodhpur and Travancore had tried to attempt some separatist tricks but Patel’s reflexes ruined them.

    Sumnesh Joshi was the first who had busted the intentions of Maharaja of Jodhpur to meet in Pakistan in the newspaper published from Jodhpur. According to a published report titled “Intentions of the vassals of the Rajputs and Nawab of Bhopal were not fulfilled” of August 20, 1947 issue, there was a surprise behind the sign of joy occurred in the political arena due to Jodhpur state’s entrance into the Indian Union because then why Maharaja had shown hesitation in acceding to the Union, despite his speech in tilak celebration. Bhopal Nawab attempted to establish contacts with 16 states through aircrafts. He got success in Jodhpur case because it was surrounded by the vassals who were intended to join the state in Pakistan. It was pointed in an article of heroic warrior published in the press of Maharaja Sahib’s mother whereabouts that Pakistan was magnanimous to tenementary practice while Hindustan wanted to demolish it. Therefore, the vassals of palace liked Pakistan more than Hindustan which brought considerable infamy to Jodhpur principality. The plot which was drawn to stay away from the Hindustan Union, also mentioned that Sir Stafford Cripps would come to India, and he would establish the relation of the states directly with England. Many people were supposed to become foolish on this name. Also, other people were given edacity to stay independent from Pakistan side. Jodhpur’s temporary hitch was the collective result of all these. Even Jama Sahib received the message from Bhopal Nawab, but he rejected it. Message from Jodhpur was sent to Udaipur Maharaja, Maharana of which replied emphatically. The entrance of Jodhpur in the Union became the topic of debate even in the embassy lobby.

    Pistol on Menon

    On 9 August 1947, when V.P Menon took Maharaja Hanwant Singh to the Viceroy, then at the behest of the Viceroy, Menon agreed to give certain concessions to Maharaja. The Viceroy further asked Menon to take the sign from Maharaja on the instrument of accession and left to meet the delegations of Hyderabad. In the absence of the Viceroy, Maharaja took out a pistol and said to Menon that he “would shoot him like a dog if he betrayed the people of Jodhpur.” However at last, Maharaja signed the accession. According to Menon, after signing the acceptance, Hanwant Singh pointed the pistol towards Menon and said, “I refuse to take your dictations.”

    Menon replied that if he thought that by killing him or threatening him, he would cancel the accession, then it would be his big mistake. He also added to stop behaving in this childish manner. Meanwhile, Mountbatten returned. Menon explained him the whole episode. Mountbatten tried to ease the serious situation and started joking. Till then, the mood of Jodhpur king became normal. Later, Menon went to leave Maharaja at his residence.

    Mosley quoted : On the Viceroy’s explanation, when Maharaja of Jodhpur gave his assent on the integration of his state with India, then the Viceroy, while expressing glee, lauded both Maharaja and Menon. In this way, the whole episode ended happily. At that very moment, the Viceroy had to leave for some work. As soon as he left, Maharaja pulled the pistol and threatened to shoot Menon. Maharaja denied following Menon’s orders. Menon answered him courageously that he had miscalculated the things that by killing him, he would get more concessions. Maharaja should stop behaving like a child. On this, Maharaja laughed aloud and put the pistol aside. When Mountbatten came, Menon explained how Maharaja threatened to kill him. Mountbatten told Maharaja softly that it was not a fun time and asked him when he would sign the accession.

    The portrayal of Lapierre and Collins, and Mosley's description is so much alike. In the opinion of Lapierre and Collins: the Viceroy asked Maharaja not to join with Pakistan and assured him that he and Menon would request Patel to take care of his conveniences. The Viceroy left the place, and Maharaja took out a fountain pen which he had prepared specially for himself. After signing the Instrument of Accession, as he opened the cap of the pen, a pistol came out of it and was pointed at Menon's head. Maharaja blamed Menon for whatever happened. Fortunately, Mountbatten came there freely. He wrested the pistol from Maharaja. Onkar Singh accounts that Maharaja had a small pen-pistol instead of the revolver, which he had himself made. With this pen, he signed the accession. After signing the acceptance, Maharaja said Menon jokingly that he could even shoot him with this pen. Menon got scared. Maharaja laughed plentifully on this. When Maharaja explained him about the pen which could work as a pistol also, then Menon became bewildered. At that time, Mountbatten entered the room. He took the whole episode as humor. Maharaja Hanwant Singh had mentioned these facts to Onkar Singh in November 1947. Maharaja gave this pen to Lord Mountbatten. Mountbatten took it to London and gifted it to be kept in the Magic Circle Museum of London. This pen-pistol is still present in London.

    Menon on his knees

    According to Mosley, three days after the meeting of Maharaja Hanwant Singh with Mountbatten, V.P Menon came to Jodhpur to get the signature of Maharaja on the accession. Hanwant Singh drank alcohol and made Menon drink it too. He also arranged a dance show for Menon. Maharaja became intoxicated and said throwing his turban on the ground that Menon won the game, and he lost it. However, Menon took the Maharaja’s signature despite being intoxicated. Maharaja used his aircraft to leave Menon to Delhi. Caring the signed accession safely in his hand, Menon came out of the plane staggeringly. Thus, he saved Jodhpur from acceding to Pakistan. Crawling on his knees, he came out of the aircraft at Delhi airport, but he had held the documents between his fingers through which Jodhpur state was integrated into India. Menon visited Jodhpur only for one time on 28 February 1948 and that too for the matter regarding the dispute over the construction of the responsive government between Public Council and Maharaja. Menon brought his wife along and stayed that night in Jodhpur. Maharaja had arranged wine and music for Menon’s reception. The officials of the state drunk the wine but Menon and Maharaja didn’t. Menon was not fond of classical music, and so the music was stopped at the behest of Maharaja. The next day, Maharaja had to visit Maulasar village to give gold, palanquin, “siropav” to the leading members of Gajadhar Somani family. Therefore, he did not go to Delhi to escort Menon.

    Signature by Maharaja on the Instrument of Accession

    The date of signature by Maharaja Hanwant Singh, shown on the accession, does not match the claims of Menon and the Viceroy. In line with different types of reports sent by the Viceroy and written documents by Menon, Hanwant Singh met the Viceroy on 9 August and during that meeting, the accession was signed while, the date of signature is written 11 August on the accession. Status quo agreement, engaged with it, has a signature of the Prime Minister of Jodhpur, C.S Venkatachar, who was not present in Delhi on 9 August at the time of the meeting of Viceroy and Maharaja. Date ‘‘11 August’’ appears to be correct as there is no reason seen on the fact to mention “11 August” on the accession while signing it on “9 August.” On 11 August 1947, V.P Menon informed Maharaja through a letter that the answer to the issues raised by Maharaja during the talks with Sardar Patel would be sent.

    Tharparkar Case

    There was a centuries-old district of “Sodha Rajput” named “Umerkot” in Sindh. Before the advent of the Mughals to India to the making of an agreement by the East India Company, Umerkot area was the part of Jodhpur state. But it was given to the British Government under the treaty, almost a century ago until India’s Independence. Jodhpur Maharaja Umed Singh sought to retrieve it but was unsuccessful. When the plan of India’s division was accepted, then a delegation of the Sodha Rajputs of Sindh requested Maharaja Hanwant Singh to try to merge Tharparkar district of Sindh Province to Jodhpur state, India. Hanwant Singh wrote and asked the Viceroy to return Umerkot to Jodhpur, but the Viceroy refused to consider this topic by saying that the days of the division and independence were near, and all the disputes of the border were pending under Radcliffe Commission; thus nothing could be further done in this matter.

    Sodha Rajputs wrote a letter to the Central Government in this matter and sent the copies of it to Nehru, stating that their language and culture were quite similar with that of Marwar state. Their most martial relationships had been employed with their state. Therefore, their state should be merged into Jodhpur state. The All India Hindu Convention also supported the demand of Sodha. It requested to divide Sindh Province into two parts based on the Hindu majority, and to integrate a chunk of the Nawabshah, Hyderabad, Tharparkar and Karachi district into Jodhpur state. The Provincial Congress of Sindh had also supported the demand. The President of the Sindh Provincial Government, Dr. Choitram Gidwani appealed to the Indian Government that since the Hindus were in the majority in Tharparkar district, thus it was legitimate to integrate it into Jodhpur. Maharaja Hanwant Singh talked to many politicians, but no one except Shyam Prasad Mukherji took an interest in it. Mukherji was in the minority in the Central Cabinet, therefore their efforts broke no ground.

    Independence Day Celebration in Jodhpur

    Independence Day was celebrated on 15 August 1947 in two places in Jodhpur. One was celebrated in Girdikot in which 40,000 people gathered. The Chairman of the Municipality, Dwarka Das Purohit hoisted the flag. Another celebration, on the behalf of the state government, was led by Maharaja Hanwant Singh. Maharaja gave salvo to the tricolor and oversaw the parade. On that occasion, Maharaja was given 51 artillery salvos. He did not deliver any speech. While giving a salute to the flag at the stadium ground, his silence raised many questions. In sky blue-hued turban, Maharaja saluted the parade. In Marwar, sky blue is the color of death. The Congress officials, Champal Joshi, and Jaswant Raj questioned Maharaja on not wearing saffron colored turban that day. Maharaja answered that the rule of 36 generations had ended for him; that day was a day of mourning. In Bali, sugar was demanded from Hakim to distribute ladoos (sweets) to kids in the school on the occasion of the Independence Day but, he refused to give it. The Hakim and his officials did not celebrate the Independence Day. Only the public celebrated it.


  • Share On Social Media:
  • How Did Pakistan Emerge-5

     22.07.2017
    How Did Pakistan Emerge-5

    Junagadh Chronicles

    Situated in the Kathiawar area of Gujarat, Junagadh state was founded by Mughal soldier, Sher Khan Babi in 1735. It had an area of 3337 sq.m. Its population numbered 670719, of them 80-90% being Hindus but the rulers were Muslim. The last ruling of the state was Sir Muhammad Mahabat Khanji III Rasul Khanji, who became the ruler at the age of 11. He studied at the Mayo College in Ajmer. He was known for his love of dogs and hunt of lions. He owned over hundreds of dogs. Once, he had spent a large amount of money on the marriage of his dog and proclaimed the day as a state holiday.

    In 1947, a senior leader of the Muslim League, Sir Shah Nawaz Bhutto was invited from Karachi to hold the position of Dewan of Junagadh. He threatened Junagadh Nawab to kill his dogs and nationalize lions if Junagadh merged into India and assured him that he (the Nawab) could keep his dogs safe in Pakistan and freely hunt the lions. Junagadh Nawab was persuaded by Bhutto and understood the fact that although Junagadh was surrounded by Hindu states, the southern and the south-western border of the state met the Arabian Sea, which could become a plus point for Junagadh to merge into Pakistan. However, in reality, Junagadh adjoined Pakistan by 240 miles sea. All the same, insane Nawab agreed to merge with Pakistan instead of India. He did not consider that 80% of the state population was Hindus, and was almost entirely bounded by Hindu states, which were already merged in India.

    After the Viceroy’s meeting of 25 July 1947 in Delhi, when the Indian Government sent the Instrument of Accession to the Nawab, he did not sign the accession and published the announcement of his accession in the following communiqué:

    The Government of Junagadh has during the past few weeks faced the problem of making its choice between accession to the Dominion of India and accession to the Dominion of Pakistan. It has had to take into very careful consideration every aspect of this problem. Its main pre-occupation has been to adopt a course that would, in the long run, make the largest contribution towards the permanent welfare and prosperity of the people of Junagadh and help to preserve the integrity of the State and to safeguard its independence and autonomy over the largest possible field. After anxious consideration and careful balancing of all factors the Government of the State has decided to accede to Pakistan and hereby announces its decision to that effect. The State is confident that its decision will be welcomed by all loyal subjects of the State who have its real welfare and prosperity at heart.


    The announcement came as a new surprise to Sardar Patel. It was an open challenge for Sardar Patel. Such announcement by Junagadh Nawab had ensued chaos among the public, due to which they went against the Nawab and established a separate government. Indian Government sent a telegram to Liaquat Ali Khan, Prime Minister of Pakistan, requesting to reject the accession of Junagadh. Lord Mountbatten sent this telegram through Chief of the Governor, Lord Ismay to Karachi. Liaquat Ali Khan refused to take any notice of the telegram carried by Lord Ismay because the concerned Minister Nehru had refused to sign the telegram. On 13 September 1947, the Pakistan Government announced to accept the decision of Junagadh Nawab and to consider Junagadh as a part of Pakistan. This announcement by Pakistan was the violation of the agreement settled between the Congress and the Muslim League, according to which all the states bounded by Indian border would integrate in India. After the announcement of the accession of Junagadh to Pakistan was accepted by Pakistan, the soldiers of Nawab Muhammad Mahabat Khanji started to pester the Hindus of Junagadh so that majority of Hindu would flee from Junagadh.

    Junagadh was surrounded by several small Hindu states. Nawab disposed of his armies in the state with the aim to occupy these small states. He also sought assistance from the Government of India. Mountbatten suggested that this issue should be referred to the United Nations; otherwise this issue would eventually lead to a war between India and Pakistan. Sardar Patel did not like Mountbatten’s idea. He wanted to teach Junagadh a lesson in order to give Hyderabad and Kashmir a challenge. On 24 September 1947, the Government of India instructed the Kathiawar Defense Force to take actions against Junagadh. The Indian Army was then dispersed around Junagadh. A few days later, when the army of Junagadh was short on logistics, then the Indian Army moved ahead. Junagadh people welcomed the Indian army.

    On 24 October 1947, the Nawab flew to Pakistan, accompanied by his three begums and few dogs. He wanted to take all of his begums and dogs along, but one of his begum and several dogs were left behind. He also took with him all his jewels and gems. He and his family settled down in Karachi. On 9 November 1947, the Indian Army took over Junagadh. On 20 February 1948, the Government of India held a plebiscite in which over 2 lakh population participated and 99 % of it showed their inclination toward the accession to India. On 17 November 1959, Nawab Muhammad Mahabat Khanji died. Nawab of Junagadh, Shah Nawaz Bhutto also went to Pakistan where he was given a huge land in Karachi.

    Hyderabad Annals

    Until 15 August 1947, Hyderabad was the second state which resisted merging into India. Hyderabad was established in 1720 by Mughal Subedar, Mir Qamruddin Chin Qilich Khan. He was conferred with the title of Nizam-Ul-Mulk, after which the ruler of Hyderabad came to be known as the Nizam. He entered into a subsidiary alliance with the East India Company. He used to receive 21 artilleries salvo. At the time when independence was rolling around, the area of Hyderabad was 2,14,190 sq. km. It was the largest and the most prosperous state in all princely state in India. It was as large as France. The population of the state was nearly 1,63,40,000. The terrain, currently present in Maharashtra, Karnataka and Andhra Pradesh was located in Hyderabad.

    Like Junagadh, the ruler of Hyderabad was Muslim, but 85% of the populace was Hindu. It was surrounded by Indian borders from all sides. The last ruler of Hyderabad, Nizam Osman Ali Khan, had 28 sons and 44 daughters. He had a whim of collecting gold and diamonds. He was considered as the richest ruler of the country. The Nizam presumed democratic regime a polluted system and believed in the divine powers of the kings. All the officials of his government were under his control, and equally greedy and clever like Nizam. All the jobs were kept reserved for Muslims.

    In the year 1947, a legislative assembly was formed in Hyderabad where 48 seats were kept reserved for Muslims and 38 for Hindus so that any law could not be framed which could go against the rights of Muslim subjects. The Legislative Assembly was so empowered that even the Nizam himself could not reduce the rights of Muslim subjects. The Nizam had great confidence in the large terrain of his state, abundant wealth, successive generations of relationship with the British rulers and the large army. Therefore, he wanted to recognize Hyderabad with an independent sovereignty instead of acceding it to India and Pakistan.

    The Nizam believed that he would be able to succeed in establishing Hyderabad an autonomous based on the treaties signed with the East India Company and the British Crown from time to time. When Lord Atlee Government made a clear announcement on 15 March 1946, to accept the Indian’s right of self-determination, since then he began to make efforts to extend recognition to his state of an independent nation. The Nizam considered Lord Mountbatten, his close friend and believed that he would help the Nizam in securing recognition of a dominion nation to Hyderabad independent of Pakistan or India.

    On seeing Hyderabad in this type of impishness, Sardar Patel said that Hyderabad was like an ulcer in the stomach of India. The Nizam wrote a letter to the Viceroy Mountbatten on 9 June 1947 expressing his grievances on seeing the clause 7 in the newspaper. He was upset with the way things happened over the past months that only the political leaders were used to be involved in the official issues, not the representatives of the states. He mentioned that not only did the clause annulled the treaties and engagements made with the Government of Britishers but also implied that if Hyderabad refused to join either of India or Pakistan, then it could not become a part of British Common Wealth.

    The treaties based on which the Government of Britishers promised to protect his interests and nation against terrorist attacks, had always been appreciated. Sir Stafford Cripps’s promise was prime. He had faith in the British troops and their promises. He was even ready to discontinue the manufacturing of the weapons and extending his troops. Despite all, the bill was passed without consulting his government. He further added that when Mountbatten was in England, he demanded the dominion status for his state.

    He had always felt that at least he would be allowed in the Common Wealth without any questioning for the sake of the friendship of more than a century in which he had almost given his faith and confidence to the Britishers. Now that also seems to be denied. He still hoped that any differences would not affect his relations with the British Government. On the question of the Dominion status, Lord Mountbatten replied to the Nizam that due to geographical reasons, Hyderabad could not be granted a Dominion status. Since Hyderabad lay at the central position in the country; it could become a threat to the unity and integrity of the country. In the view of the British Government, there was only one way for Hyderabad that it should join India. However, the officials of the Political Department of the Government of India, guided by the officials of Hyderabad and Conrad Corfield, advised the Nawab not to follow the Viceroy’s advice.

    On 7 August 1947, the Congress, at the behest of Sardar Patel, started a Satyagraha movement in Hyderabad. The Nizam encouraged the hardcore communal Muslim Razakars along with the police to strictly crush the movement. Due to which the movement turned violent brawl. At the same time, a powerful peasant struggle led by the Communists also took place in Telangana. On Lord Mountbatten’s persuasion, in November 1947, the Nizam signed the standstill Agreement with India providing for continuation of post-office, telegraph, railway, road transport and business with India.

    He was not, however, able to contemplate acceding Hyderabad in the Indian Union. Along with this, he was encouraging staunch communal Muslim Razakars in his state. He also assured the Razakars that the Britishers would support them in their revolt. Fueled by the Nizam, the Muslim fanatical organization Ittehad-Ul-Muslimeen and its paramilitary Razakars had started terrorizing and committing horrendous activities on the Hindu majority of the state and forced them to leave the state. The peace and order of the state was disturbed. The railway lines and roads passing through the state were damaged; Hindus were looted in the buses and trains. The situation became worst of all.

    The civilian leader of the Razakars, Kasim Razvi threatened the Government of India that he would unfurl Asaf Jahi flag on the Red fort in Delhi, winning over the whole of India. Later the activities were escalated to massive violence. Countless Hindus were killed; their properties were looted and destroyed. Mountbatten, Sardar Patel, V.P Menon mediated some efforts to convince the Nizam but by that time, the situation had gone out of control. The Razakars and hardcore Mullah-Maulvi were encouraged Muslim people to carry out riots in the state on the communal lines. Sardar Patel, V.P Menon remained silent until Mountbatten returned to England. Two months after when Mountbatten returned in June 1948, the Nizam announced his willingness to accept Mountbatten’s plan in September 1948.

    On 13 September 1948, Patel answered him that it was now too late to accept the plan. At that time, Nehru was on tour to Europe and Sardar Patel was working as the Prime Minister. Therefore, he commanded the army to disperse suitably in the state of Hyderabad that day. This action was then termed as “Operation Polo.” The Indian Army, led by Major-General Jayanto Nath Chaudhri entered the state. In five days of operation, the Indian army crushed the resistance of the Razakars. Thousands of Razakars were killed. The dead bodies of Razakars were seen lying all over in the state. On 17 September 1948, Commander-General of Hyderabad, E.I Andrews surrendered to General Chaudhry of Secunderabad. Thus only five days of police operations led Hyderabad annexed to India. Neither bomb was exploded nor did any revolution occur, just as it was threatened. On 18 September, Major-General took the post of Commander General of Hyderabad. Hyderabad was integrated into the Indian Union.

    Compulsively, the Nizam had to accept the new system. Sardar Patel treated him with respect. The Nizam was allowed to remain as the titular head of Hyderabad. Later, when the states were reorganized then Hyderabad was broken down, and its areas were integrated into Andhra Pradesh, Karnataka, and Maharashtra Provinces.

    Kashmir Conundrum

    The ruler of Kashmir, Maharaja Hari Singh decided to remain autocrat and refused to join India or Pakistan. In September 1947, when Pakistan attacked Kashmir, then Sardar Patel expressed a desire to send the troops immediately to save Kashmir. However, Jawaharlal Nehru and Lord Mountbatten opposed Patel’s desire stating that until Maharaja showed his willingness to accede to India, no troops should be sent to Kashmir. There on, Patel tried to rescue Srinagar and Baramula Pass. Taking Defense Minister Baldev Singh in confidence, Patel engaged Indian security forces at Kashmir’s border in Indian areas in such a way that forces could be sent immediately to the battle zone areas. He also took the charge of constructing the road connecting Srinagar to Panthkot.

    Sardar Patel was not in favor of taking this issue to the United Nations but, on Mountbatten’s advice, Pandit Jawaharlal Nehru took this issue to the United Nations. On 1 January 1948, India complained against Pakistan to the Security Council that the armed raiders had attacked Kashmir and Pakistan was assisting them in both direct and indirect ways. The attack has disturbed the international peace and order. Therefore, Pakistan should be called upon to withdraw their army and raiders should be asked not to give military aid to them. Also, this proceeding by Pakistan should be considered as an invasion to India.

    On 15 January 1948, Pakistan rejected the charges made by India to the Security Council. Putting allegations of “bad faith” on India, Pakistan stated that the accession of Jammu-Kashmir to India was just unconstitutional, and it could not be validated. The Security Council formed a committee of five nations to deal with the issue and asked it to address and resolve the issue between India and Pakistan. The United Nations Commission came to Kashmir to oversee the scene. On 13 August 1948, prolonged negotiations between both the parties took place on several resolutions passed by the commission providing for cessation of hostilities and settlement of the disputes. At last, on 1 January 1949, a ceasefire came into effect. It was also decided that the final decision would be made through a plebiscite. For this, an American citizen, Chester Nimitz was appointed as plebiscite administrator, but Pakistan did not comply with the terms of resolutions and finally the plebiscite could not be held.

    Nimitz resigned from his post. The issue of Kashmir was badly messed up at the UNO. Sardar Patel got angry with Jawaharlal Nehru. Later in 1965, once again a war broke out between India and Pakistan over Kashmir; and Pakistan captured a sizable chunk of Kashmir’s terrain. A large part of Kashmir is still under the control of Pakistan.

    Bhopal Memoirs

    The Bhopal state was founded by one of Emperor Aurangzeb’s Afghan soldier Dost Mohammed Khan in 1726. At the time of independence, Nawab of Bhopal was Hamidullah Khan, who ascended the throne in 1926. He was chosen twice as the chancellor of the Chamber of Princes (Narender Mandal) in 1931 and 1944. He also became the chancellor of Chamber of the Princes at the time of India’s independence. He did not intend to join India at any cost. He along with Jinnah encouraged most of the princely states to announce their desire to accede to Pakistan or remain independent. Out of rage, most of the rulers abandoned the Chamber of Princes, due to which, the Nawab had to resign from his post and the Chamber of Princes got disbanded. Jinnah invited Hamidullah Khan to visit Pakistan and to accept the position of General Secretary.

    On 13 September 1947, Hamidullah Khan proposed to his daughter Abida to be the ruler of the state so that he could go to Pakistan. Abida refused to obey her father’s wish. In March 1948, Hamidullah Khan chose to remain independent. In May 1948, the Nawab appointed a cabinet of the Government of Bhopal, who’s Prime Minister was Chaturayana Malviya. Sardar Patel and V. P Menon were continuously pressurizing Hamidullah Khan to announce his accession to India. Even the Prime Minister Chaturayana Malviya was in favor of joining Bhopal to India. The people of Bhopal also wanted to merge the state to India. In October 1948, the Nawab went to Hajj. In December 1948, large scale chaos occurred in the state over the issue of annexation. Thakur Lal Singh, Shankar Dayal Sharma, Bhairon Prasad and Uddhavdas were held hostages by the Government of Bhopal. On 23 January 1949, V.P. Menon arrived at Bhopal once again and told the officials of Bhopal that Bhopal could no longer continue to stay as an independent state.

    On 29 January 1949, the Nawab took the charge in his hand, sacking the cabinet. Pandit Chatur Narayana Malviya undertook fast for 21 days. On Patel’s instruction, V.P Menon stayed at Lal Kothi and monitored the status of the state. On 30 April 1949, eventually, the Nawab signed the accession of Bhopal with India. Sardar Patel wrote a letter to the Nawab, expressing his disappointment that Nawab did not use his skills and abilities for India at the time when the country needed it the most. Finally, the day of 1 June 1949 marked the unification of Bhopal with India. Chief Commissioner, N.B Banerji appointed by the central shouldered the responsibility. The Nawab was given a privy purse of worth 1.1 million rupees annually.

    Is peace still a mystery?

    Ever since the duo parted away, peace became a mystery. Although we have come a long way from 1947, the Kashmir dispute is still the same as it was earlier at the time of independence. Pakistan has been targeting Kashmir since independence. It attacked India first in 1948, then in 1965, and after that in 1999. A large area of Kashmir is still under the control of Pakistan.

    In 1971, when West Pakistan invaded East Pakistan, then India had to enter between them to evacuate innocent Bangladeshi. India saved the life of millions by sending the “Mukti Bahini” and officially divided Pakistan into two. The division led to the conflict between India and Pakistan. Due to this, India has been facing cross-border terrorism over the last several decades, in which thousands of innocent people and Indian soldiers have become victims of it. We are at that stage of civilization from where we have to write a story afresh but unfortunately, Pakistan has been pushing our mounting steps backward.

    Home to political killings:

    Pakistan Pakistan is home to political killings and death in suspicious circumstances. Few months after Pakistan came into existence, their first Governor General Muhammad Ali Jinnah died out of TB. In 1951, the first Prime Minister of Pakistan, Liaquat Ali Khan died. Following the demise of Jinnah and Liaquat Ali Khan, Yahya Khan, Zulfikar Ali Bhutto, General Muhammad Zia-ul-Haq, Benazir Bhutto and other Pakistani leaders died through the terrorist activities, political assassinations, and executions.

    Disappearance of Hindus

    When Pakistan was born, there were 20 % Hindus among the total population of Pakistan which is now reduced to 2%. The extinction of such large number of Hindu population is the most terrible tragedy of this century. Very few of them have managed to flee to India from Pakistan.


  • Share On Social Media:
  • इण्डोनेशिया की यात्रा

     20.08.2017
    इण्डोनेशिया की यात्रा

    इण्डोनेशिया की यात्रा

    अप्रेल 2017 के तीसरे एवं चौथे सप्ताह में प्राचीन हिन्दू मंदिरों के दर्शनों की लालसा में हमारे परिवार ने इण्डोनेशिया गणराज्य के दो द्वीपों- बाली तथा जावा की यात्रा की। इस दौरान हमें देनपासार, उबुद, मेंगवी, कुता, जोग्यकार्ता तथा जकार्ता आदि नगरों का भ्रमण करने का अवसर मिला। हमने सुन रखा था कि बाली और जावा द्वीपों पर सैंकड़ों साल पुराने कुछ ऐसे हिन्दू तथा बौद्ध मंदिर स्थित हैं जिनका निर्माण देवताओं द्वारा किया गया। ये देवता किसी अन्य ग्रह से आए हुए परग्रही जीव रहे होंगे जिनकी तकनीक तथा शिल्प उस काल के इंसानों की तकनीक तथा शिल्प की तुलना में अत्यंत उच्च कोटि की रही होगी। तभी वे सैंकड़ों की संख्या वाले हिन्दू मंदिरों के समूह तथा विश्व के सबसे बड़े पिरामिडीय रचना वाले बौद्ध मंदिरों का निर्माण कर पाये। हमने इन मंदिरों को देखने की लालसा में इण्डोनेशिया भ्रमण का कार्यक्रम बनाया था।

    इण्डोनेशिया निश्चित ही एक सुंदर देश है जो भारतीयों को अपनी वैविध्यपूर्ण हिन्दू संस्कृति तथा सुन्दर समुद्री तटों के कारण आकर्षित करता है। हमने इसे एक धार्मिक यात्रा की तरह आरम्भ किया किंतु शीघ्र ही हमारी यह यात्रा ऐतिहासिक एवं सांस्कृतिक तथ्यों की खोजपूर्ण यात्रा में बदल गई तथा एक-एक करके बहुत से रहस्यों पर से आवरण हटाने वाली सिद्ध हुई। जैसे-जैसे हम अपनी यात्रा पर आगे बढ़ते गये, नए-नए रहस्यों पर से पर्दा उठता गया। कुछ ही दिनों में हमने समझ लिया कि हमने प्राचीन हिन्दू मंदिरों के दर्शनों की लालसा में, अनजाने में ही बाली द्वीप के रूप में सात समुद्रों के बीच एक रहस्यमय किंतु निर्धन भारत के अवशेषों को खोज निकाला है। एक ऐसा निर्धन भारत जहाँ गाय नहीं है, गंगाजी नहीं हैं, गेहूं नहीं है। दूध, घी, दही, छाछ, रोटी, सोगरा, ढोकला, दाल-बाटी कुछ भी नहीं है। स्वाभाविक है कि ऐसा देश नितांत निर्धन ही हो सकता है।

    यह सचमुच एक रहस्यमय निर्धन भारत है जो अपने समस्त प्राचीन वैभव को खोकर और अपने वास्तविक स्वरूप को भूलकर सांस्कृतिक प्रदूषण की आंधी के झौंकों में संघर्ष कर रहा है। बाली द्वीप पर भले ही आज भी 85-90 प्रतिशत हिन्दू रहते हैं किंतु जावा द्वीप पर 90 प्रतिशत लोग इस्लाम स्वीकार कर चुके हैं। इण्डोनेशिया के सबसे बड़े द्वीप सुमात्रा में भी मुसलमानों की जनसंख्या की यही स्थिति है जिसका परिणाम यह है कि आज इण्डोनेशिया संसार का सबसे बड़ा मुस्लिम देश है तथा इस देश की 90 प्रतिशत जनसंख्या मुसलमान है। हिन्दुओं का छोटा सा दीपक बाली देश के रूप में टिमटिमा रहा है। इस सच्चाई के बीच बाली और जावा द्वीपों के हिन्दू और बौद्ध धर्मस्थलों को देखना कम रोमांचक नहीं है।

    इण्डोनेशिया के मुसलमानों और भारत के मुसलमानों में भी सांस्कृतिक भिन्नता है। इस भिन्नता को देखना और समझना काफी रोचक है। इण्डोनेशिया के मुसलमानों ने यूनेस्को की सहायता से हिन्दू और बौद्ध मंदिरों को धरती में से खोज निकाला है और फिर से खड़ा करके पुनर्जीवित करने का प्रयास किया है। इण्डोनेशिया के नगरों एवं द्वीपों में मुख्य चौराहों पर भवनों के सामने, हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्तियों को बड़ी शान से दिखाया जाता है। इण्डोनेशियाई समाज हजारों साल से स्त्री प्रधान रहा है। आज भी इण्डोनेशियाई समाज इस विशेषता से सम्पन्न है। यही कारण है कि वहाँ की औरतें बुरका, हिजाब आदि नहीं पहनतीं। वे आधुनिक संसार का प्रतिनिधित्व करती हैं और अपनी हजारों साल पुरानी संस्कृति पर गौरव करती हैं। एक ऐसी संस्कृति जो इस्लाम का हिस्सा नहीं है, अपितु इण्डोनेशियाई समाज के इतिहास और गौवमयी अतीत का हिस्सा है।

    हमारे अनुभव, नितान्त हमारे अपने हैं किंतु अपने इन अनुभवों को सार्वजनिक करना इसलिए आवश्यक हो गया ताकि भारत के लोग भी समुद्रों के बीच बसने वाले एक और निर्धन भारत की सच्चाई एवं त्रासदी को जान सकें। इस निर्धन भारत की यात्रा से पहले हमें इसके भौगोलिक एवं ऐतिहासिक तथ्यों को संक्षेप में जान लेना आवश्यक है। इसलिए पुस्तक के आरम्भ में उन्हें भी समुचित स्थान दिय गया है। आज से प्रतिदिन राजस्थान हिस्ट्री डॉट कॉम पर इस पुस्तक के अंश धारावाहिक के रूप में प्रकाशित किए जाएंगे जिनका लिंक फेसबुक, ट्विटर, लिंकडन तथा गूगल प्लस पर भी दिया जाएगा। यह पुस्तक इसी माह के अंत तक बाजार में हार्डबुक के रूप में भी उपलब्ध हो जाएगी। आशा है, पाठकों को यह पुस्तक पसंद आएगी।

    शुभम्।

    - डॉ. मोहनलाल गुप्ता




    सिमट रहा है हिन्दू धर्म



    अत्यंत प्राचीन काल से भारतीय ऋषि-मुनि मानव मात्र को सुखी बनाने के उद्देश्य से धरती के विभिन्न द्वीपों और दूरस्थ देशों की यात्रा करके अहिंसा, प्रेम, सद्भाव एवं शांति का संदेश देते आए हैं जिसे भारतीय संस्कृति कहा जाता है। यह भारतीय संस्कृति ईसाई धर्म तथा इस्लाम के प्रादुर्भाव से सैंकड़ों साल पूर्व ही, विश्व के अनेक द्वीपों, प्रायद्वीपों एवं महाद्वीपों में फैल गई थी। भारतीय संस्कृति को दूसरे देशों में ले जाने वाले उपदेशक हिन्दू धर्म तथा बौद्ध धर्म के प्रचारकों के रूप में नहीं गए थे। वे धरती पर ज्ञान का प्रकाश उत्पन्न करने तथा मुनष्यों को हिंसा का मार्ग त्यागकर प्रेम से रहने का उपदेश देने के उद्देश्य से गए थे, बाद में इन्हें हिन्दू धर्म तथा बौद्ध धर्म का प्रचारक कहकर उनके योगदान को कम करके आंकने का प्रयास किया गया। आज से लगभग 2000 साल पहले ईसाई धर्म तथा 1400 साल पहले इस्लाम के प्रादुर्भाव के पश्चात्, पूरी धरती से हिन्दू धर्म तेजी से समाप्त हुआ है।

    चीन, जापान, वियतनाम, थाइलैण्ड तथा बर्मा आदि अनेकानेक एशियाई देशों में बौद्ध धर्म का प्रचार हो जाने से बौद्ध धर्म का उतना ह्रास नहीं हुआ जबकि हिन्दू धर्म सैंकड़ों द्वीपों और देशों में दम तोड़ चुका है। भारत के अतिरिक्त केवल नेपाल देश तथा इण्डोनेशिया के बाली द्वीप में ही हिन्दुओं का बड़ी संख्या में अधिवास है। भारत को आपातकाल में ई.1976 में 42वें संविधान संशोधन से धर्म-निरपेक्ष देश घोषित किया गया। धर्म-निरपेक्ष बनने वाला यह संसार का पहला देश था। हाल ही के दशकों में नेपाल में चीन ने जिस प्रबलता के साथ साम्यवाद का आक्रमण किया, उसके प्रभाव में आकर नेपाल धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र घोषित हो गया। संसार में इन दो देशों के अतिरिक्त और कहीं भी धर्मनिरपेक्ष राष्ट्रीय व्यवस्था नहीं पाई जाती। बाली के हिन्दू जिस देश के निवासी हैं, उस देश में 90 प्रतिशत मुस्लिम जनसंख्या रहती है।

    विश्व के मानचित्र पर हिन्दू हर तरह से नष्ट हो रहे हैं, जनसंख्या से लेकर संस्कृति तक सब कुछ समाप्त हो रहा है किंतु हिन्दू जाति मदांध होकर सोई हुई है। ई.1947 में पाकिस्तान में 20 प्रतिशत हिन्दू थे जो आज केवल 2-3 प्रतिशत रह गए हैं। बांगलादेश में भी हिन्दुओं को बलपूर्वक मुसलमान बनाया गया है, उनकी लड़कियों से बलपूर्वक विवाह किया जा रहा है, उनके घरों को जलाया जा रहा है। यहाँ तक कि पश्चिमी बंगाल में भी ऐसी घटनाएं पिछले कुछ वर्षों में देखने का मिली हैं। केरल, काश्मीर, आसाम में भी हिन्दू जाति का अस्तित्व मिट रहा है। वोटों की राजनीति के समक्ष सब-कुछ समर्पित किया जा रहा है। भारत के अतिरिक्त अन्य देशों में हिन्दुओं की क्या स्थिति है, इसे देखा और समझा जाना आवश्यक है।


  • Share On Social Media:
  • हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 1 इण्डोनेशिया का इतिहास - 1

     20.08.2017
    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 1  इण्डोनेशिया का इतिहास - 1

    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 1

    इण्डोनेशिया का इतिहास - 1



    इण्डोनेशिया गणराज्य, दीपान्तर अर्थात् पार-महा-द्वीपीय (ट्रांसकॉन्टीनेन्टल) देश है जो दक्षिण-पूर्व एशिया और ओशिनिया (उष्णकटिबन्धीय प्रशान्त महासागर के द्वीप) क्षेत्रों में स्थित है। भारतीय पुराणों में इसे ''द्वीपान्तर भारत'' अर्थात् समुद्र-पार-भारत कहा गया है। इसी कारण यूरोपीय इतिहासकारों एवं यात्रियों ने इसे इण्डोनेशिया कहा जो ''इण्डिया इन एशिया'' की ध्वनि देता है। इण्डोनेशिया के निवासियों ने बाद में यही नाम अपना लिया। डचों द्वारा शासित औपनिवेशिक काल में इस द्वीप समूह को ईस्ट-इण्डीज कहा जाता था।

    वर्तमान में इण्डोनेशिया गणराज्य, दक्षिण-पूर्व एशिया का सबसे बड़ा देश है। इसकी स्थलीय सीमाएं पापुआ न्यू गिनी, पूर्वी तिमोर और मलेशिया (पुराना नाम मलाया) के साथ मिलती हैं, जबकि इसकी जलीय सीमाओं पर सिंगापुर, फिलीपींस, ऑस्ट्रेलिया तथा भारत के अंडमान और निकोबार द्वीप समूह की जलीय सीमाएं स्थित हैं। यह संसार का एकमात्र देश है जो 17,508 द्वीपों में विस्तृत है। इनमें से बहुत से द्वीपों के नाम तक नहीं रखे गए हैं। हाल ही में यूएनओ ने इण्डोनेशिया से उसके द्वीपों की सूची, उनके नाम सहित मांगी थी।

    इण्डोनेशिया गणराज्य की जनसंख्या लगभग 23 करोड़ है। यह विश्व का चौथा सर्वाधिक जनसंख्या वाला एवं विश्व का सर्वाधिक मुस्लिम जनसंख्या वाला देश है। इंडोनेशिया में 2 हजार से अधिक सांस्कृतिक समूहों के लोग निवास करते हैं। इन द्वीपों के अति प्राचीन इतिहास के कुछ साक्ष्य चीन देश के साहित्यिक संदर्भो में मिलते हैं। भूगोलविदों, इतिहासकारों, वैज्ञानिकों एवं प्राचीन भारतीय साहित्य के अनुसार ईस्ट-इण्डीज द्वीप किसी समय एशिया से लेकर ऑस्ट्रेलिया तक जुड़े हुए थे। बाद में भूगर्भीय हलचलों के कारण टूट-टूट कर अर्द्धचंद्राकार आकृति में बिखर गए। इनमें से जावा, सुमात्रा, बाली तथा बोर्नियो बड़े द्वीप हैं, इनकी तुलना में अन्य द्वीप काफी छोटे हैं।

    भारतीय पौराणिक साहित्य के संदर्भ इण्डोनेशियाई द्वीपों से भारत का सम्बन्ध रामकथा के काल से भी पहले ले जाते हैं। उस काल में भारत की भौगोलिक सीमाएं जम्बूद्वीप (भारत) से लेकर सिंहल द्वीप (श्रीलंका), स्याम (थाइलैण्ड), यवद्वीप (जावा), स्वर्णद्वीप (सुमात्रा), मलय द्वीप (मलेशिया), शंखद्वीप (बोर्नियो), बाली तथा आंध्रालय (ऑस्ट्रेलिया) तक थीं। मलय द्वीप अथवा मलाया को अब मलेशिया कहते हैं, काम्बोज, कम्बोडिया (कम्पूचिया) के नाम से अलग देश है। उस काल के चम्पा राज्य के द्वीप वर्तमान में वियेतनाम और कम्बोडिया (कम्पूचिया) में बंट गए हैं। यहाँ आज भी संस्कृत भाषा व्यवहार में लाई जाती है।

    उस काल में भारत के राजा दूर-दूर के समुद्री द्वीपों पर अधिकार कर लेते थे। इनमें कुशद्वीप (अफ्रीका) तथा वाराहद्वीप (मेडागास्कर) प्रमुख हैं। रामकथा से पहले से लेकर सातवीं शताब्दी ईस्वी में इस्लाम का उदय होने तक इनमें से अधिकांश द्वीप भारत का हिस्सा थे तथा यहाँ की जनता हिन्दू थी। मेडागास्कर अब अफ्रीका महाद्वीप के दक्षिण-पूर्व में समुद्र के बीच स्थित एक विशाल द्वीप है तथा अलग राष्ट्र है।

    वाल्मीकि रामायण में सप्तद्वीपों का वर्णन

    वाल्मीकि रामायण में लिखा है- 'यत्रवन्तो यवद्वीपः सप्तराज्योपशोभितः।।' अर्थात् यवद्वीप में सात राज्य हैं। निश्चित रूप से उस काल में यवद्वीप (जावा), भारत की मुख्य भूमि के पर्याप्त निकट रहा होगा। इसके निकटवर्ती समुद्री क्षेत्र में अन्य द्वीप होंगे जिनमें से छः-सात द्वीप मानव-बस्तियों की उपस्थिति की दृष्टि से प्रमुख रहे होंगे।

    वायुपुराण के छः द्वीप

    वायुपुराण के एक श्लोक में कहा गया है- 'अंगद्वीपं, यवद्वीपं, मलयद्वीपं, शंखद्वीपं, कुशद्वीपं वराहद्वीपमेव च।। एवं षडेषे कथिता अनुद्वीपाः समन्ततः। भारतं द्वीपदेशो वै दक्षिणे बहुविस्तरः।।' अर्थात्- अंग द्वीप, यव द्वीप, मलय द्वीप, शंख द्वीप, कुश द्वीप तथा वराह द्वीप आदि, भारतवर्ष के अनुद्वीप हैं जो दक्षिण की ओर दूर तक फैले हुए हैं। इस काल में बाली द्वीप भी इन्हीं द्वीपों की शृंखला में गिना जाता था जहाँ भारतीय आर्यों की बस्तियां थीं और जहाँ मनुस्मृति के आधार पर सामाजिक एवं न्याय व्यवस्था स्थापित थी।

    लंका के सम्बन्ध में पौराणिक मान्यताएं

    लंका को आजकल सीलोन कहा जाता है जो कि सिंहल का अपभ्रंश है। पौराणिक काल में लंका को सिंहल द्वीप भी कहा जाता था। पौराणिक काल में लंका का आशय जिस द्वीप से होता था, उसमें मलय एवं सुमात्रा की भूमि भी सम्मिलित थी। ब्रह्माण्ड पुराण कहता है- 'तथैव मलयद्वीपमेवमेव सुसंवृतम्। नित्यप्रमुदिता स्फीता लंकानाम महापुरी।' इस श्लोक से ज्ञात होता है कि ब्रह्माण्ड पुराण के रचना काल में मलयद्वीप लंका के ठीक निकट उसी प्रकार स्थित रहा होगा जिस प्रकार आज लंका, भारत के निकट है। सुमात्रा द्वीप पर आज भी सोनी-लंका नामक एक स्थान है जो सुमात्रा के उत्तर-पूर्व वाले पर्वत के निकट समुद्र तट पर स्थित है। इस स्थान पर अत्धिक मात्रा में सुवर्ण उपलब्ध था। इस स्वर्ण की प्राप्ति पहले यक्षों ने और बाद में राक्षसों द्वारा की गई।

    नारद खण्ड में लिखा है- 'भविष्यन्ति काले कालि दरिद्राः नृपमानवः तेऽत्र स्वर्णस्य लोभेन देवतादर्शनाय च।। नित्यं चैवागमिष्यन्ति त्यक्त्वा रक्षः कृत भयम्।' अर्थात् कलियुग में राजा-प्रजा दरिद्री हो जाएंगे, इसलिए यहां लोभ के कारण नित्य ही आया करेंगे। लंका के राजा रावण का नाना सुमाली, अपने राक्षसों को भगवान विष्णु के संहार से बचाने के लिए, लंका छोड़कर पाताल में जाकर रहने लगा। यह पाताल जावा-सुमात्रा-बाली आदि द्वीप समूह का कोई द्वीप होना अनुमानित किया जाता है। इस घटना के सही समय के बारे में यद्यपि अलग-अलग मान्यताएं हैं। आचार्य चतुरसेन ने इस विषय पर श्रमसाध्य शोध किया था। उनके अनुसार यह घटना आज से लगभग सात हजार साल पहले हुई।

    इन द्वीपों पर रामकथा के प्रसंगों वाली हजारों साल पुरानी प्रतिमाएं मिलती हैं। सुमात्रा द्वीप को भारतीय पौराणिक साहित्य में सुवर्ण द्वीप तथा अंगद्वीप कहा गया है जहाँ स्वर्ण के विशाल भण्डार उपलब्ध थे। यक्ष जाति के लोगों ने अपना स्वर्ण, स्वर्णद्वीप (इसे अंगद्वीप भी कहते थे) से लाकर सिंहल द्वीप (लंका) में रखा था। यक्षों का राजा कुबेर इस धन की रक्षा करता था। राक्षसों के राजा रावण का बचपन ऑस्टेलिया में व्यतीत हुआ था जो तब आंध्रालय कहलाता था। रावण ने आन्ध्रालय से आकर लंका पर चढ़ाई की तथा लंका के राजा कुबेर को परास्त करके सोने की लंका पर अधिकार कर लिया तथा उसका पुष्पक विमान भी छीन लिया। इसके बाद राक्षस पुनः लंका में रहने लगे। कुबेर और रावण, दोनों ही विश्रवा के पुत्र थे। बाली एवं जावा द्वीपों पर आज भी राक्षसों की तरह दिखाई देने वाली मूर्तियां यत्र-तत्र दिखाई देती हैं। बाली द्वीप पर राक्षस जैसी दिखने वाली विशालाकाय मूर्तियों का बड़ा संग्रहालय है। इन मूर्तियों की उपस्थिति भारतीय पौराणिक साहित्य में वर्णित राक्षसों के इन द्वीपों से सम्बन्ध की पुष्टि करती हैं।

    जावा द्वीप का प्रारम्भिक इतिहास

    भारतीय संस्कृत साहित्य में इस द्वीप का उल्लेख यवद्वीप के नाम से हुआ है जहाँ चावल एवं स्वर्ण प्रचुर मात्रा में उपलब्ध था। चीनी संदर्भों के अनुसार जावा में लगभग 2 शताब्दी ईस्वी पूर्व में भारतीय लोग पहुंच चुके थे। ये लोग भारत के कलिंग राज्य से आए थे।

    डॉ. क्रोम नामक डच पुरातत्ववेत्ता के अनुसार हिन्दुओं के जावा पहुचंने से पहले ही जावा के लोग चावल की खेती करते थे। वे मछली पकड़ने, कपड़ा बुनने, वाद्ययंत्र बजाने, ज्योतिष जानने आदि कलाओं को जानते थे।

    जब भारतीय हिन्दू यहाँ पहुंचे तो यहाँ के लोगों ने हिन्दू विश्वासों एवं संस्कृति को अपना लिया और जावा की पुरानी संस्कृृति भी उसमें घुल-मिल गई। दूसरी शताब्दी ईस्वी के आरम्भ में हिन्दू राजा देववर्मन ने जावा द्वीप पर प्रबल हिन्दू राज्य की स्थापना की जो चौथी-पांचवी शताब्दी ईस्वी तक फलता-फूलता रहा। चीनी यात्री फाह्यान 400 शताब्दी ईस्वी में भारत आया था। जब वह ई. 412 में श्रीलंका होता हुआ समुद्र के रास्ते से चीन लौट रहा था, तब उसका जहाज समुद्रों में भटक गया तथा लगभग 100 दिनों तक समुद्री लहरों पर हिचकोले खाता हुआ जावा द्वीप पर पहुंचा। इस द्वीप पर उसने वैदिक एवं शैव धर्र्मों को मानने वाले लोगों को निवास करते हुए पाया।

    गुप्तकाल में जावा एवं अन्य ईस्ट-इण्डीज द्वीपों पर भारतीय राजाओं का प्रसार

    भारत में ई. 320 से 495 तक गुप्तवंश के राजाओं का शासन रहा जिसे भारतीय इतिहास का स्वर्णकाल कहा जाता है। उस काल में बौद्ध धर्म की जगह वैष्णव धर्म का उन्नयन किया गया। उस काल में सुमात्रा, जावा, बाली, बोर्नियो, चम्पा, कम्बोडिया, मलाया तथा मलक्का आदि द्वीपों में भारतीय भाषा, साहित्य तथा शिक्षा का खूब प्रचार हुआ। इन द्वीपों में नए सिरे से हिन्दू राज्यों की स्थापना हुई। जावा की एक अनुश्रुति के अनुसार इस काल में गुजरात के एक राजकुमार ने कई हजार मनुष्यों के साथ समुद्र पार कर जावा में उपनिवेश की स्थापना की।

    गुप्त काल में ताम्रलिप्ति बंगाल का प्रसिद्ध बन्दरगाह था। उत्तरी भारत का सारा व्यापार इसी बन्दरगाह द्वारा चीन, बर्मा तथा पूर्वी-द्वीप-समूह से होता था। इन देशों के साथ दक्षिण-भारत के राज्यों से भी व्यापार होता था। यह व्यापार गोदावरी तथा कृष्णा नदियों के मुहानों पर स्थित बन्दरगाहों के द्वारा होता था। इस प्रकार गुप्तकाल में पूर्वी द्वीप समूहों के साथ भारत के घनिष्ठ राजनीतिक, सांस्कृतिक एवं व्यापारिक सम्बन्ध स्थापित हुए। इन द्वीपों में भारतीय सामाजिक प्रथाओं, धर्म, कला तथा शासन पद्धति का अनुसरण होने लगा।

    डॉ. अल्तेकर ने लिखा है- 'यदि एक ओर भारत और दूसरी ओर चीन के बीच कोई सांस्कृतिक एकता विद्यमान है और यदि मूल्यवान स्मारक, जो भारत की संस्कृति के गौरव के मूक साक्षी हैं, समस्त इंडोचीन (विएतनाम), जावा, सुमात्रा तथा बोर्निया में विकीर्ण परिलक्षित होते हैं तो इसका श्रेय गुप्तकाल को ही प्राप्त है, जिसने भारतीय संस्कृति को बाहर विस्तारित करने की प्रेरणा प्रदान की।'

    जावा में शैलेन्द्र राजवंश का उदय (मेदांग राज्य)

    चौथी शताब्दी ईस्वी में जब भारत में गुप्त राजाओं का राज्य विस्तार पा रहा था, जावा द्वीप पर शैलेन्द्र राजवंश की स्थापना हुई। यह राज्य मलाया (मलेशिया), सुमात्रा, जावा, बाली तथा बोर्नियो द्वीपों पर विस्तृत था। मलाया में उससे पहले भी हिन्दू बस्तियां थीं किंतु उनके राजनीतिक स्वरूप की जानकारी नहीं मिलती है। शैलेन्द्र साम्राज्य 11वीं शताब्दी ईस्वी तक चलता रहा। दक्षिण भारत के चोल साम्राज्य के राजा राजेन्द्र चोल ने 11वीं शताब्दी ईस्वी में इण्डोनेशिया के शैलेन्द्र राजवंश का अंत कर दिया।

    चोल राजा दक्षिण भारत से हजारों किलोमीटर दूर के क्षेत्र पर मजबूती से नियंत्रण स्थापित नहीं कर पाए। इसलिए 12वीं शताब्दी में एक बार पुनः शैलेन्द्र राजवंश ने अपनी सत्ता विस्तृत कर ली। शैलेन्द्र राजवंश के राजा बौद्ध धर्म के अनुयायी हो गए थे। इसलिए उन्होंने जावा में कई बौद्ध मंदिरों एवं विहारों का निर्माण करवाया। उनके द्वारा निर्मित सर्वाधिक महत्वपूर्ण बौद्ध मठ नालंदा कहलाता था तथा सर्वाधिक महत्वपूर्ण विहार नागपट्टनम कहलाता था। ये दोनों स्थान जावा द्वीप में थे। शैलेन्द्र राजवंश ने चंडी कालासन (कालासन मंदिर) तथा बोरोबुदुर बौद्ध विहार का भी निर्माण करवाया।

    कुछ शिलालेखों से प्रमाणित हुआ है कि जावा का शैलेन्द्र राज-परिवार प्राचीन मलाया भाषा का प्रयोग करता था। यह भाषा इस बात का प्रमाण है कि शैलेन्द्र राज-परिवार जावा में आने से पहले सुमात्रा द्वीप पर शासन करता था तथा यह श्रीविजय राजवंश से सम्बन्धित था। उसने मध्य जावा के स्थानीय शासकों को परास्त करके जावा द्वीप पर अधिकार किया। उन्होंने माताराम राज्य के संजय राजवंश को अपना जागीरदार बना लिया। शैलेन्द्रों की सत्ता का केन्द्र दक्षिण केडू था जो मगेलांग के निकट स्थित था। वर्तमान में यह योग्यकार्ता के उत्तर में स्थित है।

    शैलेन्द्र राजवंश आरम्भ में शैव मत का अनुयायी था किंतु बाद में राजा संखरा (राकाई पनरबन अथवा पनंगकरन) द्वारा महायान बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिए जाने के बाद बौद्ध हो गया था। राजा संखरा के शिलालेख, सोजोमेर्तो शिलालेख एवं चरित परह्यंगान ग्रंथ के के अनुसार परवर्ती काल के शैलेन्द्र राजा पनंगकरन के वंशज, बौद्ध धर्म की महायान शाखा के अनुयायी बने रहे। वे समरतुंग के शासन के अंत तक बौद्ध धर्म को राजकीय प्रश्रय देते रहे। सोजोमेर्तो शिलालेख अब उपलब्ध नहीं है।

    सुंदा राज्य (पश्चिमी जावा)

    सुंदा राज्य, पश्चिम जावा में स्थित हिन्दू राज्य था जिसकी स्थापना ई.669 में हुई। वर्तमान जकार्ता, पश्चिमी जावा, मध्य जावा का पश्चिमी भाग तथा बान्टेन इसी सुंदा राज्य में स्थित थे। ''बुजंग्गा माकिन'' पाण्डुलिपि के अनुसार सुंदा राज्य की पूर्वी सीमा का निर्माण पामाली नदी नामक नदी करती थी जिसे अब ब्रेब्स नदी कहा जाता है। मध्य जावा में इसकी सीमा में सारायू नामक नदी बहती थी। ई.1579 में इस राज्य को मध्य जावा के मुस्लिम शासकों ने नष्ट कर दिया।

  • हि"/> हि"> हि">
    Share On Social Media:
  • हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 2 इण्डोनेशिया का इतिहास - 2

     20.08.2017
    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 2  इण्डोनेशिया का इतिहास - 2

    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 2



    संजय राजवंश (माताराम राज्य)

    संजय राजवंश एक प्राचीन जावाई राजवंश था। इस वंश के राजाओं ने जिस राज्य की स्थापना की, वह माताराम राज्य कहलाया। संभवतः जावा द्वीप की मातृ-सत्तात्मक सामाजिक व्यवस्था के कारण इस राज्य को माताराम कहा गया। माताराम राज्य की स्थापना ब्रांटाज नदी की घाटी में हुई थी। यहाँ की भूमि उपजाऊ थी और खेती प्रचुरता से होती थी। कंग्गल लेख के अनुसार इस राजवंश की स्थापना ई.732 में संजय नामक राजा ने की। यह शिलालेख मागेलांग नामक नगर के दक्षिण-पश्चिम में मिला है। इसकी लिपि दक्षिण भारत के तत्कालीन पल्लव शासकों द्वारा प्रयुक्त होने वाली लिपि है तथा इसकी भाषा संस्कृत है। इस शिलालेख में कुंजरकुंजा क्षेत्र की पहाड़ी पर शिवलिंग स्थापित किए जाने के बारे में जानकारी दी गई है। इस शिलालेख में कहा गया है कि राजा सन्न ने इस द्वीप पर फिर से अधिकार किया तथा उसने लम्बे समय तक बुद्धिमत्ता पूर्वक एवं कौशल पूर्वक राज्य किया।


    राजा सन्न की मृत्यु के बाद राजवंश की एकता भंग हो गई जिससे राज्य खण्डित होने लगा किंतु स्वर्गीय राजा सन्न की बहिन सन्नह के पुत्र संजय ने सत्ता संभाली। उसने राज्य में धर्म, साहित्य तथा विविध कलाओं का प्रचार किया तथा सैन्य शक्ति में वृद्धि की। उसने आसपास के क्षेत्रों को अपने राज्य में मिला लिया तथा जनता को सुखी एवं समृद्ध बनाने का प्रयास किया। राजा सन्न एवं संजय को ''चरित परहयंगान'' भी कहा जाता है। पश्चवर्ती काल की एक पुस्तक के अनुसार राजा सुन्न को गलुह के राजा पुरबासोरा ने परास्त कर दिया। इसलिए उसे मेरापी के पर्वत में शरण लेनी पड़ी। संजय ने उसके खोए हुए राज्य को फिर से जीता तथा पश्चिमी जावा, मध्य जावा, पूर्वी जावा एवं बाली तक अपना राज्य फैला लिया।

    संजय ने मलयु तथा केलिंग परह्यंगान के राजा ''संग श्रीविजय'' से भी युद्ध किया। इसके बाद की अवधि में शैलेन्द्र राज्य द्वारा संजय राज्य को उत्तरी जावा में धकेल दिया गया। कालासन शिलालेख के अनुसार शैलेन्द्र राज्य का उत्थान ई.778 के लगभग हुआ था। इस काल में संजय राज्य एवं शैलेन्द्र राज्य एक दूसरे के पड़ौस में स्थित थे और यह काल शांति, सहयोग एवं सहअस्तित्व से युक्त था। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि संजय राजवंश नामक कोई वंश नहीं था, केवल शैलेन्द्र राजवंश था जो मध्य जावा में शासन करता था। इस राज्य को मेदांग कहा जाता था। इसकी राजधानी माताराम क्षेत्र में थी तथा इसके शासक शैलेन्द्र वंश के थे। संजय वंश के राजा भी इसी शैलेन्द्र राजवंश से निकले थे।

    संजय राजवंश के राजा राकाई पिकातान का विवाह शैलेन्द्र वंश के राजा समरतुंग की पुत्री प्रमोदवर्द्धिनी (ई.833-56) से हुआ। समय के साथ संजय राजवंश का प्रभाव माताराम राज्य में बढ़ता गया तथा वे बौद्ध धर्म मानने वाले शैलेन्द्र राज्य को प्रतिस्थापित करते रहे। राकाई पिकातान ने शैलेन्द्र वंश के राजा समरतुंग के पुत्र बालापुत्र को उसके राज्य से निकाल दिया जो कि राकाई पिकातान की रानी प्रमोदवर्द्धिनी का भाई था। जब मध्य जावा से शैलेंद्र वंश के राजा बालापुत्र का राज्य समाप्त हो गया तो वह भाग कर सुमात्रा चला गया। सुमात्रा में श्री विजय वंश के राजा राज्य करते थे। बालापुत्र ने श्री विजय साम्राज्य के तत्कालीन राजा को परास्त करके अपने अधीन कर लिया और स्वयं सुमात्रा का परमोच्च शासक बन गया।

    राजा पिकातान के काल में जावा में शैव धर्म को पुनः राजकीय प्रश्रय प्राप्त हुआ तथा यह संरक्षण मेदांग राज्य के अंत होने तक जारी रहा। संजय वंश के हिन्दू राजाओं ने मध्य जावा में विश्वविख्यात शिव मंदिर बनवाया तथा जावा द्वीप पर हिन्दू संस्कृति का प्रसार किया। राकाई पिकातान की रानी प्रमोदवर्द्धिनी ने 9वीं शताब्दी ईस्वी में विश्व प्रसिद्ध बोरोबुदुर बौद्ध विहार बनवाया। योग्यकार्ता, सुराकार्ता तथा मध्य जावा, माताराम राज्य के प्रमुख केन्द्र थे। यह अत्यंत ऊर्वर क्षेत्र में स्थित था इसलिए इस राज्य में परमबनन तथा बोरोबुदुर जैसे विशाल मंदिरों का निर्माण संभव हो सका। ई.850 तक संजय राजवंश, सम्पूर्ण माताराम राज्य का शासक बन गया।

    ई.907 के बालितुंग शिलालेख से भी संजय राजवंश की जानकारी मिलती है। इसके अनुसार जब संजय वंश का कोई राजा मर जाता था तो वह दिव्य रूप धारण कर लेता था। इसी शिलालेख के आधार पर संजय राजवंश के राजाओं की सूची तैयार की गई है। ई.929 में संजय वंश का राजा मपु सिंदोक, माताराम राज्य की राजधानी को मध्य जावा से पूर्व जावा में ले गया। इसका कारण स्पष्ट रूप से ज्ञात नहीं है किंतु अनुमान किया जाता है कि मेरापी ज्वालामुखी के फट पड़ने के कारण ऐसा किया गया होगा। यह भी अनुमान लगाया जाता है कि सुमात्रा के श्री विजय राज्य द्वारा मध्य जावा पर आक्रमण कर देने के कारण राजधानी को मध्य जावा से पूर्वी जावा में ले जाना पड़ा होगा। इसके साथ ही मध्य जावा से संजय राजवंश का शासन समाप्त हो गया तथा पूर्वी जावा में इस्याना नामक नवीन राजवंश का उदय हुआ।

    चम्पा से सम्बन्ध

    जावा राज्य का चम्पा राज्य से निकट का सम्बन्ध था जो कि दक्षिण-पूर्वी एशिया की मुख्य भूमि पर स्थित था। यह सम्बन्ध संजय राजवंश के उदय होने तक बना रहा। चम्पा के लोग चम कहलाते थे और उन्हें भारतीयकृत ऑस्ट्रोनेशियाई माना जाता है। मध्य जावा के द्वीप पर संजय राजवंश के काल में निर्मित मंदिरों की अनेक स्थापत्य विशेषताओं को चम मंदिरों में देखा जा सकता है।

    इस्याना राजवंश

    जावा द्वीप के माताराम हिन्दू राज्य के नए शासक वंश को इस्याना राजवंश कहा जाता है जिन्होंने संजय राजवंश के बाद सत्ता संभाली। इसकी स्थापना मपु सिंदोक ने की जो माताराम राज्य की राजधानी को मध्य जावा से पूर्वी जावा में ले गया। चोइदेस नामक लेखक ने लिखा है कि सिंदोक ने श्री इस्याना (विक्रमाधर्मोत्तुंगदेव) के नाम से पूर्वी जावा में नए राजवंश की स्थापना की। उसकी पुत्री इस्याना तुंगविजय, मपु सिंदोक की उत्तराधिकारी हुई। इस्याना तुंगविजय के बाद इस्याना तुंगविजय का पुत्र मकुतावंशवर्द्धन पूर्वी जावा का राजा हुआ। उसके बाद धर्मवंग्सा उसका उत्तराधिकारी हुआ। इस्याना राजवंश के काल में ई.996 में भारत-युद्ध गाथा का जावाई भाषा में अनुवाद किया गया। ई.1016-17 में सुमात्रा द्वीप के श्री विजय साम्राज्य के राजा ने जावा द्वीप पर आक्रमण किया तथा राजा धर्मवंग्स की राजधानी को नष्ट कर दिया। इस युद्ध में इस्याना राजवंश समाप्त हो गया।

    केदिरी वंश (काहुरिपन राज्य)

    ई.1019 में ऐरलंग्गा ने मेदांग राज्य को फिर से इकट्ठा किया तथा काहुरिपन नामक नया राज्य अस्तित्व में आया। ऐरलंग्गा ई.1042 तक शासन करता रहा। ऐरलिंग्गा के वंशज केदिरी कहलाए। माना जाता है कि काहुरिपन नामक राज्य, इस्याना राज्य की ही निरंतरता में था। केदिरी राजवंश ई.1222 तक शासन करता रहा।

    सिंघसरी वंश

    ई.1222 में जावा के केदिरी राजा नष्ट हो गए तथा सिंघसरी राजवंश अस्तित्व में आया। वे ई.1292 तक शासन करते रहे। इस क्षेत्र को वर्तमान में मलांग कहते है।

    मजापहित साम्राज्य

    ई.1294 में जावा में विजय नामक राजा ने मजापहित साम्राज्य की स्थापना की। यह इण्डोनेशिया का सर्वाधिक शक्तिशाली राज्य था। इसकी राजधानी त्रोवुलान थी जो सुराबाया के निकट स्थित थी। ई.1350 में इस वंश में हायम वुरुक नामक राजा हुआ जो इस वंश का सर्वाधिक शक्तिशाली राजा था। उसका मंत्री 'गजह मद' वीर एवं बुद्धिमान व्यक्ति था। उसने शपथ ग्रहण की कि जब तक वह सम्पूर्ण इण्डोनेशिया द्वीप समूह को मजापहित साम्राज्य के अधीन नहीं लाएगा, तब तक वह अपने भोजन में पलापा (मसाले) का उपयोग नहीं करेगा। निश्चत ही उसने अपनी शपथ पूरी की जिसके कारण मजापहित साम्राज्य में वह सम्पूर्ण क्षेत्र सम्मिलित हो गया जो वर्तमान में इण्डोनेशिया गणतंत्र में सम्मिलित है। हालांकि उसका प्रत्यक्ष नियंत्रण केवल जावा, बाली एवं मदुरा पर था।

    हायम वुरुक ई.1389 तक शासन करता रहा। जब बीसवीं सदी में इण्डोनेशिया ने अपना पहला सैटेलाइट अंतरिक्ष में भेजा तो उसका नाम गजह मद के सम्मान में पलापा रखा गया। यह राजवंश ई.1478 तक हिन्दू राजवंश के रूप में शासन करता रहा।

    देमक राज्य (मध्य जावा)

    ई.1478 के पश्चात् जावा में इस्लाम की आंधी चलने लगी जिसके क्रूर झौंकों से मजापहित साम्राज्य के हिन्दू राजाओं ने इस्लाम स्वीकार कर लिया और सत्ता का केन्द्र मध्य जावा के सेमारांग से 30 किलोमीटर पूर्व में चला गया। यह जावा की हजारों साल पुरानी संस्कृति के लिए बहुत बड़ा आघात था। हजारों हिन्दू परिवार जावा द्वीप छोड़कर भाग गए और उन्होंने बाली द्वीप में ब्रोमो पर्वत (टेंगेर) के निकट जाकर शरण ली। पंद्रहवीं शताब्दी में जावा के लोगों ने जब इस्लाम स्वीकार किया तो एक बार पुनः जावा की संस्कृति में बदलाव आया और हिन्दू-जावाई संस्कृति में इस्लाम ने प्रवेश करके जावा की वर्तमान संस्कृति को जन्म दिया। देमक राज्य का पहला राजा रादेन पाताह था। उसका पिता मजापहित वंश का अंतिम राजा था तथा माता जेआम्पा, एक मुस्लिम स्त्री थी। दूसरा राजा पातिउनूस और तीसरा राजा ट्रेंग्गोनो हुआ।

    हिन्दू राज्य केलापा का पतन

    देमक राज्य में नौ ''वली सोंगो'' नामक इस्लामिक नेता हुए जिन्होंने जावा द्वीप पर इस्लाम को फैलाया। ई.1527 में देमक सुल्तानों ने जावा द्वीप के अंतिम हिन्दू राज्य ''केलापा'' को भी जीत लिया और उसका नाम ''जयकार्ता'' रखा जो अब ''जकार्ता'' कहलाता है। उन्हीं दिनों उत्तर भारत का सर्वाधिक प्रबल-प्रतापी हिन्दू शासक महाराणा सांगा, बर्बर मुस्लिम आक्रांता बाबर के हाथों पराजित हुआ।

    पाजांग राज्य

    ट्रेंग्गोनो का जामाता जोको टिंग्किर, देमक राज्य का अंतिम शासक सिद्ध हुआ। वह ई.1540 में देमक राज्य की राजधानी सोलो से 10 किलोमीटर पश्चिम में पाजांग में ले गया। वह टिंग्किर गांव का रहने वाला जोको (लड़का) था इसलिए उसे जोको टिंग्किर कहा जाता था।

    मुस्लिम माताराम राज्य (द्वितीय)

    माताराम राज्य (द्वितीय) में योग्यकार्ता तथा सुराकार्ता नामक क्षेत्र स्थित थे। पानेमबाहान सेनोपति माताराम (द्वितीय) राज्य का पहला राजा था। वह ई.1584 में राजा बना तथा ई.1601 तक राज्य करता रहा। उसका पिता पेमानाहान (की अगेंग माताराम) पाजांग राज्य का प्रमुख योद्धा था। उसका पड़दादा मजापहित राज्य का अंतिम राजा था। पानेमबाहान का अर्थ होता है दोनों हाथ जोड़कर नाक से स्पर्श करते हुए आदर पूर्वक प्रणाम करना। प्राचीन जावाई संस्कृति में बड़ों को प्रणाम करने का यही तरीका रहा है।

    सुल्तान पानेमबाहान का जावा में बहुत सम्मान था। उसके बचपन का नाम सुतोविजोयो था। उसकी जादुई शक्तियों और रहस्यमयी कारनामों की कहानियां कही जाती हैं। जिस महल में वह साधना करता था तथा अलौकिक शक्तियां प्राप्त करता था, वह योग्यकार्ता से 5 किलोमीटर दक्षिण-पूर्व में स्थित है। उसकी कब्र पर प्रतिवर्ष हजारों यात्री तीर्थयात्रा करते हैं तथा इसे माताराम साम्राज्य का पवित्र स्थल माना जाता है। ई.1613-45 तक इस वंश में आगुंग हान्योक्रोकुसुमो नामक शक्तिशाली राजा हुआ। उसकी मृत्यु के बाद माताराम राजवंश का ह्रास होने लगा।

    जावा की प्राचीन संस्कृति पर भारतीय संस्कृति का प्रभाव

    जावा के प्राचीन साहित्य, कला एवं संस्कृति पर भारतीय साहित्य, कला एवं संस्कृति का प्रभाव प्रभूत मात्रा में देखा जा सकता है। जावा द्वीप पर बहुत बड़ी संख्या में हिन्दू मंदिरों के खण्डहर बिखरे पड़े हैं। मध्य जावा में स्थित लारा जोंग्गरांग का मंदिर भारतीय शैली में बना है जिसमें राम कथा और कृष्णलीला के प्रसंग उत्कीर्ण हैं। जावा द्वीप की प्रतिमाओं में भारतीय आभूषणों की भरमार है जिनमें काल-मकर अधिक लोकप्रिय है। जावा का धार्मिक साहित्य रामायण एवं महाभारत की कथाओं पर आधारित है। भारतीय उपनिषदों का अध्यात्म एवं दर्शन तथा बाद के युगों में उत्पन्न होने वाले तांत्रिक विधानों का भी जावा की संस्कृति पर बहुतायत से प्रभाव है। शिव एवं विष्णु की संयुक्त प्रतिमाएं भी जावा द्वीप पर मिली हैं।

    जावा की कविताओं एवं गीतों पर भी भारतीय प्रभाव देखा जा सकता है। जावा के राजाओं के नाम भी भारतीय राजाओं से मिलते-जुलते हैं। उनके दरबारों में भी भारतीय राजपरम्पराएं प्रचलित थीं। वर्तमान में जावा द्वीप में 90 प्रतिशत मुस्लिम जनसंख्या रहने के कारण हिन्दू संस्कृति के चिह्न विलुप्त प्रायः हैं किंतु हिन्दी एवं संस्कृत भाषा के कुछ शब्द जावा द्वीप पर आज भी प्रचलित हैं जो भारत से जावा के प्राचीन सम्बन्धों के मुंह बोलते प्रमाण हैं।

    बोर्नियो में हिन्दू संस्कृति

    शंखद्वीप (बोर्नियो) में हिन्दू संस्कृति का प्रसार पहली शताब्दी इस्वी में आरम्भ हुआ। चौथी शताब्दी ईस्वी में हिन्दू राजाओं ने बोर्नियो में अपनी सत्ता स्थापित की। बोर्नियो से चौथी शताब्दी ईस्वी के शिलालेख प्राप्त हुए हैं जिनसे बोर्नियो में उस काल में वैदिक धर्म के अस्तित्व में होने के साक्ष्य मिलते हैं। पांचवी शताब्दी ईस्वी में बोर्नियो एवं सुमात्रा द्वीपों पर जावा के शैलेन्द्र राजवंश का अधिकार हो गया। बोर्नियो में प्राप्त होने वाले खण्डहरों से भगवान शिव एवं बुद्ध की मूर्तियां प्राप्त हुई हैं। लकड़ी का एक मंदिर भी प्राप्त हुआ है। बोर्नियो के स्थापत्य एवं कला पर भारतीय प्रभाव आज भी देखा जा सकता है।

    सुमात्रा में बौद्ध धर्मानुयायी श्री विजय राजवंश

    प्राचीन भारतीय संस्कृत साहित्य में सुमात्रा द्वीप को स्वर्णदीप तथा स्वर्णभूमि कहा गया है क्योंकि इस द्वीप के ऊपरी क्षेत्रों में स्वर्ण धातु के विशाल भण्डार उपलब्ध थे। सुमात्रा में चौथी शताब्दी ईस्वी में भारतीय राजाओं ने अपने राज्य स्थापित किए। चीनी सदंर्भों के अुनसार सुमात्रा के श्री विजयन वंश के राजा ने ई.1017 में अपना दूत चीन के राजा के पास भेजा था। 10वीं शताब्दी ईस्वी से 13वीं शताब्दी ईस्वी के काल में अरब भूगोलवेत्ताओं ने इस द्वीप के लिए लामरी अथवा लामुरी शब्द का प्रयोग किया है।

    13वीं शताब्दी इस्वी में मार्को पोलो ने इसे सामारा अथवा सामारचा कहा। चौदहवीं शताब्दी ईस्वी में विदेशी यात्री ऑडोरिक ऑफ पोरडेनोन ने समुद्र के लिए सुमोल्त्रा शब्द का प्रयोग किया। इसके बाद यूरोपीय लेखक इस द्वीप के लिए यही शब्द प्रयुक्त करने लगे। 14वीं शताब्दी के अंतिम दशकों में इस द्वीप पर ''समुद्र पासी'' (समुद्र के पास) नामक राज्य की स्थापना हुई। यही ''समुद्रपासी'' बाद में सुमात्रा कहलाने लगा। बाद में इस राज्य को मुसलमानों ने समाप्त कर दिया तथा अचेह सल्तनत की स्थापना की। अचेह के सुल्तान अलाउद्दीन शाह ने ई.1602 में इंगलैण्ड की रानी एलिजाबेथ प्रथम को एक पत्र लिखा जिसमें उसने अपना परिचय ''अचेह तथा सामुद्रा का सुल्तान'' के रूप में दिया है।

    मेलायु राज्य को श्री विजय वंश के राजाओं ने समाप्त कर दिया। श्री विजय राजवंश बौद्ध धर्म को मानने वाले राजा थे। ये पालेमबांग के निकट केन्द्रित थे। सुमात्रा के राजाओं ने 7वीं से 9वीं शताब्दी ईस्वी तक इण्डोनेशिया द्वीप समूह में मलय संस्कृति का प्रसार किया। श्री विजय साम्राज्य के लोग समुद्री द्वीपों में व्यापार किया करते थे। श्री विजय राजाओं के काल में पालेमबांग शिक्षा एवं विद्या का उन्नत केन्द्र था तथा यहाँ चीन के बौद्ध भिक्षु, तीर्थयात्रा के लिए आया करते थे। चीनी बौद्ध यात्री चिंग ने ई.671 में भारत जाने से पहले सुमात्रा में संस्कृत भाषा का अध्ययन किया। जब वह भारत यात्रा के बाद चीन लौट रहा था तो एक बार पुनः सुमात्रा द्वीप पर रुका और वहाँ उसने अनेक बौद्ध ग्रंथों का चीनी में अनुवाद किया।

    श्री विजय वंश के राजाओं को 11वीं शताब्दी ईस्वी में दक्षिण भारत के चोल राजाओं से परास्त हो जाना पड़ा। इससे श्री विजय राजवंश कमजोर पड़ गया और इस्लाम को सुमात्रा में प्रवेश करने का अवसर मिल गया। हालांकि अरब और भारत के मुस्लिम व्यापारी 6ठी एवं 7वीं शताब्दी ईस्वी से सुमात्रा में व्यापार करने आते थे। 13वीं शताब्दी के अंत में समुद्रा के हिन्दू राजा को इस्लाम स्वीकार करना पड़ा तथा वे श्री विजय के स्थान पर अचेह सल्तनत कहलाने लगे। ई.1292 में मार्को पोलो तथा ई.1345-46 में इब्न बतूता ने सुमात्रा द्वीप की यात्रा की तथा उन्होंने अचेह सल्तनत को देखा।

    बीसवीं शताब्दी ईस्वी तक अचेह सल्तनत अस्तित्व में रही। बाद में सुमात्रा द्वीप के बहुत से राज्य डच ईस्ट इण्डिया कम्पनी के हाथों अपनी स्वतंत्रता खो बैठे लेकिन अचेह सल्तनत ई.1873 से 1903 तक डचों से लोहा लेती रही।

    ई.1903 में अचेह सल्तनत का पतन हो गया और सम्पूर्ण सुमात्रा द्वीप डचों के अधिकार में चला गया। इसके बाद से सुमात्रा डचों के लिए काली मिर्च, रबर तथा तेल का मुख्य उत्पादक द्वीप बन गया। सुमात्रा के अनेक विद्वानों एवं स्वतंत्रता सेनानियों ने इण्डोनेशिया के स्वतंत्रता युद्ध में भाग लिया जिनमें मोहम्मद हात्ता तथा सूतन स्जाहरिर प्रमुख थे। इनमे ंसे मोहम्मद हत्ता इण्डोनेशिया गणतंत्र के प्रथम उप राष्ट्रपति एवं सूतन स्जाहरिर प्रथम प्रधान मंत्री बने। ई.1976 से 2005 तक इण्डोनेशियाई सरकार के विरुद्ध स्वतंत्र अचेह आंदोलन चलाया गया। इस संघर्ष में वर्ष 2001 एवं 2002 में सुमात्रा द्वीप के हजारों नागरिक मारे गए। उत्तरी सुमात्रा में सात हिन्दू मंदिर खोजे गए हैं। इन पर भारतीय मंदिर स्थापत्य, धर्म एवं दर्शन का प्रभाव स्पष्ट देखा जा सकता है।

    इण्डोनेशियाई द्वीपों के मुसलमानों की संस्कृति

    जावा सहित, इण्डोनेशिया द्वीप समूह के अन्य द्वीपों के मुसलमान, अरब तथा पश्चिम एशिया के मुसमलानों से काफी भिन्न हैं। चूंकि इन द्वीपों पर मातृ प्रधान सत्ता हुआ करती थी इसलिए मुसलमान बनने के बाद भी इन्होंने पुरुष के स्थान पर स्त्री की प्रधानता को ही स्वीकार किया। यहाँ तलाक देने का अधिकार पुरुष को नहीं होकर, स्त्री को है। अरब तथा पश्चिम एशिया के मुसमलान मूर्ति पूजा नहीं करते जबकि जावा आदि द्वीपों के मुसलमानों ने पूरी तरह से मूर्तियों का परित्याग नहीं किया। यही कारण है कि आज भी इन द्वीपों पर बड़ी संख्या में प्राचीन एवं नवीन मूर्तियां पाई जाती हैं।


  • Share On Social Media:
  • हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 3 इण्डोनेशिया का इतिहास - 3

     20.08.2017
    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 3  इण्डोनेशिया का इतिहास - 3


    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 3



    मसाला द्वीपों से व्यापार के लिए यूरोप में प्रतिस्पर्द्धा

    भारत में गुप्त काल एवं उससे पहले भी ईस्ट-इण्डीज द्वीपों के साथ व्यापार होता आया था। 16वीं शताब्दी ईस्वी में जब भारत में मुगल शासन की स्थापना हुई, तब भी यह व्यापार बिना किसी बड़ी बाधा के किया जा रहा था। भारतीय निर्यात की मुख्य वस्तुएँ, सूती कपड़ा, अनाज, तेल के बीज, ज्वार, चीनी, चावल, नील, सुगंधित पदार्थ, सुगन्धित लकड़ी तथा पौधे, कर्पूर, लवंग, नारियल, विभिन्न जानवरों की खालें, गेंडे तथा चीते की खाल, चंदन की लकड़ी, अफीम, काली मिर्च तथा लहसुन थे। ये उत्पाद यूरोपीय देशों के साथ-साथ जावा, सुमात्रा, बोड़ा, मलाया, बोर्नियो, अकनि, पेगु, स्याम, बेटम आदि पूर्वी देशों को जाते थे।

    उस काल में भारत से अफीम पेगु (लोअर बर्मा), जावा, चीन, मलाया, फारस एवं अरब देशों को भेजी जाती थी। जिस काल में भारत में मुगल शासन अपनी जड़ें जमा रहा था, उसी काल में यूरोप के छोटे-छोटे देशों में पूर्वी द्वीप समूह के मसाला द्वीपों से व्यापार करने की प्रतिस्पर्द्धा अपने चरम पर पहुंच रही थी।

    यूरोपीय देशों में समुद्रों पर वर्चस्व के लिए प्रतिस्पर्द्धा

    15वीं शताब्दी के अन्तिम दशक में यूरोप के विभिन्न देशों ने सुदूर देशों के समुद्री मार्गों का पता लगाने का अभियान चलाया ताकि उनके साथ व्यापार किया जा सके। इस अभियान में यूरोप का एक छोटा देश पुर्तगाल सबसे आगे रहा। पुर्तगालियों ने फारस की खाड़ी में होरमुज से लेकर मलाया में मलक्का और इण्डोनेशिया में मसाला द्वीपों तक समस्त समुद्र तट पर अधिकार कर लिया। अपना व्यापारिक दबदबा बनाए रखने के लिए वे अन्य यूरोपीय देशों से जबर्दस्त युद्ध करते रहे। वे समुद्र में डाका डालने तथा लूटपाट करने में तनिक भी नहीं हिचकिचाते थे। उन्नीसवीं सदी के एक प्रसिद्ध ब्रिटिश इतिहासकार ने लिखा है- 'पुर्तगालियों ने सौदागरी को ही अपना मुख्य पेशा बना लिया किंतु अँग्रेजों और डचों की तरह उन्हें भी अवसर मिलते ही लूटपाट करने में कोई आपत्ति नहीं हुई।'

    पुर्तगाल अत्यंत छोटा देश था। सोलहवीं शताब्दी में उसकी जनसंख्या केवल 10 लाख थी। इसलिए पुर्तगाल लम्बे समय तक फारस की खाड़ी से लेकर पूर्वी मसाला द्वीपों पर अपना व्यापारिक दबदबा बनाए नहीं रख सका। सोलहवीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में इंग्लैण्ड, नीदरलैण्ड एवं फ्रांस ने स्पेन तथा पुर्तगाल के एकाधिकार के विरुद्ध संघर्ष छेड़ दिया। इस संघर्ष में स्पेन तथा पुर्तगाल को बर्बाद होना पड़ा। पुर्तगाल तथा स्पेन आपस में भी लड़ते रहे। ई.1580 में पुर्तगाल पर स्पेन का अधिकार हो गया।

    डच लोग हॉलैण्ड नामक छोटे से यूरोपीय देश में रहा करते थे। यह देश यूरोप में जर्मनी तथा बेल्जियम के बीच स्थित था। बाद में उन्होंने अपने देश का नाम बदलकर नीदरलैण्ड कर लिया। ये लोग लम्बे समय से पूर्वी द्वीपों के मसालों का व्यापार करते थे। डचों को पूर्वी देशों के मसाले, पुर्तगाल में खरीदने पड़ते थे जिन्हें वे उत्तरी यूरोप में बेचते थे। जब स्पेन ने पुर्तगाल पर अधिकार कर लिया तब डचों को पूर्वी द्वीपों के मसालों का व्यापार करने के लिए परम्परागत मार्ग छोड़कर, नये मार्ग खोजने की आवश्यकता हुई। ई.1602 में डचों ने भारत तथा ईस्ट-इण्डीज द्वीपों से व्यापार करने के उद्देश्य से डच ईस्ट इण्डिया कम्पनी का गठन किया।

    पुर्तगाल पर अधिकार कर लेने के कारण समुद्रों में स्पेन की तूती बोलने लगी थी किंतु ई.1588 में अँग्रेजों ने आर्मेडा नामक स्पेनिश जहाजी बेड़े को हरा कर स्पेनिश नौसैनिक श्रेष्ठता को भंग कर दिया। इस विजय ने अँग्रेजों और डच सौदागरों (नीदरलैण्ड वासियों) को भारत आने के लिए उत्तमाशा अंतरीप के मार्ग का प्रयोग करने तथा पूर्व में साम्राज्य की स्थापना के लिए प्रतियोगिता में भाग लेने में समर्थ बना दिया। अंत में डचों ने इण्डोनेशिया पर और अँग्रेजों ने भारत, श्रीलंका तथा मलाया पर अधिकार कर लिया।

    भारत में पुर्तगालियों के अधिकार में गोआ, दमन और ड्यू के अतिरिक्त कुछ नहीं रहा। फ्रांस भी पुर्तगाल, नीदरलैण्ड, स्पेन तथा इंग्लैण्ड की तरह समुद्री रास्तों पर अपना दबदबा स्थापित करने के प्रयास करता रहता था किंतु फ्रांस देश के भीतर ही अशांति से गुजर रहा था इसलिए वह इस स्पर्द्धा में पीछे रह गया। ई.1604-19 के मध्य फ्रांस की सरकार ने दो बार फ्रेंच ईस्ट इंडिया कम्पनी स्थापित की किन्तु ये कम्पनियाँ असफल रहीं। लुई चौहदवें के शासनकाल में उसके मंत्री कालबर्ट ने ई.1644 में तीसरी बार फ्रेंच ईस्ट इंडिया कम्पनी की स्थापना की। इस कम्पनी को भारत तथा ईस्ट-इण्डीज देशों में व्यापार के साथ-साथ उपनिवेश स्थापित करने तथा ईसाई धर्म का प्रसार करने का काम सौंपा गया।

    मसाला द्वीपों के लिए पुर्तगालियों एवं डचों में संघर्ष

    पुर्तगालियों ने ई.1511 में मलक्का पर अधिकार कर लिया तथा शीघ्र ही वे ईस्ट-इण्डीज द्वीपों पर अपना दबदबा स्थापित करने में सफल हो गए। हॉलैण्ड (नीदरलैण्ड) के डच व्यापारियों को ईस्ट-इण्डीज देशों के मसाले पुर्तगाल के बाजारों से खरीदने पड़ते थे किंतु जब ई.1580 में पुर्तगाल पर स्पेन ने कब्जा जमा लिया और ई.1588 में स्पेन को इंग्लैण्ड ने पीट दिया तब डच लोगों ने सीधे ही ईस्ट-इण्डीज देशों की तरफ कदम बढ़ाने आरम्भ किए। ई.1602 में हॉलैण्ड में डच ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना हुई। वे भारत के साथ-साथ दक्षिण-पूर्व एशिया के मसाला बाजारों में प्रवेश करने के उद्देश्य से आए थे।

    शीघ्र ही डच लोग पुर्तगालियों पर हावी होने लगे। उन्होंने ई.1605 में अम्बोयाना पर सत्ता स्थापित कर ली तथा ई.1619 में जकार्ता जीतकर इसके खंडहरों पर ''बैटेविया'' नामक नगर बसाया। ई.1639 में उन्होंने भारत में गोवा पर घेरा डाला और इसके दो साल बाद, ई.1641 में पुर्तगालियों से मलक्का भी छीन लिया। ई.1658 में डचों ने सीलोन की अंतिम पुर्तगाली बस्ती पर अधिकार जमा लिया।

    डचों ने भारत के गुजरात प्रांत में कोरोमंडल समुद्र तट, बंगाल, बिहार तथा उड़ीसा में अपनी व्यापारिक कोठियां खोलीं। डच लोग मुख्यतः मसालों, नीम, कच्चे रेशम, शीशा, चावल एवं अफीम का व्यापार करते थे। ई.1759 में हुए ''वेदरा के युद्ध'' में अंग्रेजों से हार के बाद डचों का भारत में अंतिम रूप से पतन हो गया किंतु वे ईस्ट-इण्डीज द्वीपों पर अपना दबदबा बनाए रखने में सफल रहे।

    इण्डोनेशिया पर डच ईस्ट इण्डिया कम्पनी का राज्य

    18वीं शताब्दी के मध्य में जावा माताराम मुस्लिम राजवंश को अपने क्षेत्र एवं शक्ति डच ईस्ट इण्डिया कम्पनी के समक्ष समर्पित करने पड़े। ई.1749 में डच ईस्ट इण्डिया कम्पनी जावा की वास्तविक शासक शक्ति बन गई।

    डचों द्वारा मसाला द्वीपों का शोषण

    डचों ने दक्षिण-पूर्वी एशियाई द्वीपों का भयानक शोषण किया। 16वीं से 18वीं शताब्दी की अवधि में हॉलैण्ड (नीदरलैण्ड) यूरोप का सर्वाधिक धनी देश माना जाता था। इण्डोनेशिया के लोग सदियों से चावल की खेती करते आए थे जो कि उनका मुख्य आहार था किंतु डचों ने उन्हें पकड़कर दास बना लिया और उनसे गन्ना एवं कॉफी की खेती करवाने लगे ताकि वे अंतर्राष्ट्रीय बाजार में अधिक लाभ अर्जित कर सकें। इस कारण इन द्वीपों पर अनाज की कमी हो गई और भुखमरी फैल गई।

    इण्डोनेशियाई द्वीपों पर नेपोलियन बोनापार्ट का शासन

    ई.1789-99 के बीच फ्रांस में नेपोलियन बोनापार्ट के समय राजनीतिक एवं सामजिक क्रांति हुई। फ्रांस के नए सम्राट नेपोलियन बोनापार्ट ने इण्डोनेशिया सहित पूर्वी एशिया एवं मध्य एशिया के बहुत से द्वीपों पर अधिकार कर लिया तथा इण्डोनेशिया में फ्रांस की प्रभुसत्ता स्थापित हो गई।

    इण्डोनेशियाई द्वीपों पर इंगलैण्ड का शासन

    ई.1811 में ब्रिटेन ने नेपोलियन बोनापार्ट से इण्डोनेशिया छीन लिया। इंग्लैण्ड भी केवल 8 वर्ष तक इण्डोनेशिया पर अधिकार बनाए रख सका। ई.1819 में आयोजित वियेना कांग्रेस में हुए निर्णय के अनुसार इंग्लैण्ड ने इण्डोनेशिया के द्वीप हॉलैण्ड (डचों) को सौंप दिए।


    इण्डोनेशिया का स्वतंत्रता संग्राम

    इण्डोनेशिया में डचों के विरुद्ध विद्रोह

    ई.1825 में इण्डोनेशिया की जनता ने डच शासन के विरुद्ध जबर्दस्त विद्रोह किया किंतु इस विद्रोह को कुचल दिया गया। डचों का दमन चक्र इतना क्रूर था कि लगभग 95 वर्ष तक इण्डोनेशिया की जनता शांत बनी रही। प्रथम विश्वयुद्ध (ई.1914-19) में मित्रराष्ट्रों ने लोकतंत्र एवं स्वतंत्रता का नारा दिया। इससे इण्डोनेशिया में भी राष्ट्रवाद की भावना का प्रसार हुआ किंतु जब विश्वयुद्ध समाप्त हो गया और इण्डोनेशिया को कुछ नहीं मिला तो ई.1920 में जावा और सुमात्रा में डच शासन के विरुद्ध असंतोष फूट पड़ा। शीघ्र ही आंदोलनकारियों में फूट पड़ गई और डच सरकार ने स्वतंत्रता के आंदोलन को पूरी तरह कुचल दिया।

    इण्डोनेशियाई राष्ट्रीय दल का गठन

    ई.1927 में डच सरकार ने इण्डोनेशिया के शासन में कई सुधार किए तथा संसद की स्थापना की जिसमें से दो तिहाई सांसद जनता द्वारा मनोनीत किए जाने तथा एक तिहाई सांसद डच सरकार द्वारा मनोनीत किए जाने का प्रावधान था। संसद का अध्यक्ष, सरकार द्वारा ही नियुक्त किया जाता था। जनता इन सुधारों से संतुष्ट नहीं हुई तथा उसी वर्ष सुकाणों के नेतृत्व में ''इण्डोनेशियाई राष्ट्रीय पार्टी'' का गठन किया गया। इस दल ने इण्डोनेशिया में राष्ट्रीय आंदोलन को नए सिरे से आरम्भ किया तथा गांव-गांव में जाकर स्कूल खोले ताकि नवयुवकों को राष्ट्रभक्ति एवं आजादी की शिक्षा दी जा सके। ई.1929 में सरकार ने इस दल पर प्रतिबंध लगा दिया।

    इण्डोनेशियाई द्वीपों पर जापान का अधिकार

    द्वितीय विश्वयुद्ध (ई.1939-45) के दौरान ई.1942 में जापान ने इण्डोनेशियाई द्वीपों पर अधिकार करके सैनिक शासन स्थापित कर दिया। डचों को इण्डोनेशिया खाली करना पड़ा किंतु कुछ द्वीप तब भी उनके अधिकार में रहे। ई.1945 में जब जापान का पतन हुआ तो जापान सरकार ने आत्मसमर्पण करने से पहले इण्डोनेशिया को स्वतंत्र करने की घोषणा की।

    इण्डोनेशियाई गणतंत्र की स्थापना के लिए संघर्ष

    सुकार्णो की इण्डोनेशियाई राष्ट्रीय पार्टी ने अचानक उत्पन्न इस परिस्थिति में देश में सरकार बनाने का प्रयास किया किंतु डच लौट आए और उन्होंने इण्डोनेशिया को स्वतंत्र करने से मना कर दिया। दोनों पक्ष अपनी-अपनी बात पर अडिग रहे तथा दोनों के बीच वार्तालाप चलता रहा। अंत में 25 मार्च 1947 को लिंगायती (लिंगजाति/लिंग्गाडजती) समझौता हुआ जिसके अनुसार जावा, सुमात्रा और मदुरा में इण्डोनेशियाई गणराज्य को मान्यता दे दी गई।

    सुकार्णो इण्डोनेशिया के समस्त द्वीपों को मिलकार एक देश बनाना चाहता था और डच सरकार चाहती थी कि इण्डोनेशियाई द्वीपों और हौलेण्ड को मिलाकर एक संघ-राज्य बनाया जाए। फलतः दोनों पक्षों में फिर से संघर्ष आरम्भ हो गया। डच सरकार ने सुकार्णो के अधिकार वाले क्षेत्रों पर आक्रमण कर दिया तथा इसे पुलिस कार्यवाही कहा। इस पर भारत तथा ऑस्ट्रेलिया ने इस मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र संघ की सुरक्षा परिषद में उठाया। सुरक्षा परिषद के हस्तक्षेप से जनवरी 1948 में युद्ध बंद हो गया।

    ''बैटेविया'' की घटना के बाद दिसम्बर 1948 में दोनों पक्षों में पुनः युद्ध आरम्भ हो गया किंतु तब तक विश्व जनमत सुकार्णो के पक्ष मे हो चुका था। सुरक्षा परिषद में पुनः युद्धबंदी का प्रस्ताव पारित हुआ जिसे डच सरकार ने अस्वीकार कर दिया और सुकार्णो तथा उसके साथियों को बंदी बना लिया।

    इण्डोनेशिया गणराज्य को मान्यता

    23 अगस्त से 2 नवम्बर 1949 तक हेग में इण्डोनेशियाई समस्या को सुलझाने के लिए एक सम्मेलन आयोजित किया गया। इसमें हुए निर्णय के बाद इण्डोनेशिया को संघ राज्य घोषित किया गया तथा डॉ. सुकार्णो द्वारा घोषित गणराज्य को मान्यता दी गई। इस समझौते के अनुसार 27 नवम्बर 1949 को इण्डोनेशिया की वास्तविक सत्ता सुकार्णो के नेतृत्व वाली सरकार को सौंप दी गई किंतु इण्डोनेशियाई राज्य संघ में हॉलैण्ड की औपचारिक साझेदारी मानी गई। अर्थात् इण्डोनेशिया में हॉलैण्ड एवं इण्डोनेशियाई सरकार को बराबर सम्प्रभु राष्ट्र माना गया। जनता इस सम्बन्ध को भी समाप्त करना चाहती थी। अतः 15 अगस्त 1950 को इण्डोनेशियाई एकीकृत गणतन्त्र की स्थापना की गई तथा ई.1955 में इण्डोनेशिया एवं हॉलैण्ड के बीच के समस्त सम्बन्ध समाप्त हो गए।


    बाली द्वीप में हिन्दू सभ्यता का विकास

    बाली में ऑस्ट्रोनेशियन मानव सभ्यता का प्रारम्भ

    बाली, इंडोनेशिया का एक ''द्वीप प्रान्त'' है। यह जावा द्वीप के पूर्व में तथा लोम्बोक द्वीप के पश्चिम में स्थित है। ईसा से लगभग 2000 साल पहले यहाँ मानवीय बस्तियों के बसने का क्रम आरम्भ हुआ। ये मानव ऑस्ट्रोनेशियन जाति के थे जो दक्षिण-पूर्वी एशिया तथा उष्णकटिबन्धीय प्रशान्त महासागर के द्वीपों से आकर यहाँ बस रहे थे। ये लोग आदिवासी थे तथा सभ्यता के प्रारम्भिक चरण में थे जबकि इस काल में भारत में अत्यंत उन्नत सभ्यता एवं संस्कृति फल-फूल रही थी। बाली द्वीप से मिली एक अति प्राचीन मुद्रा पर जंगली भैंसे के कंधों पर हल रखकर चावल की खेती करने का दृश्य अंकित किया गया है।

    बाली द्वीप में हिन्दू संस्कृति का प्रवेश

    भारतीय हिन्दू, बाली तथा आसपास के द्वीपों पर सबसे पहले कब पहुंचे, यह ठीक से नहीं बताया जा सकता किंतु इतना स्पष्ट है कि ईसा के जन्म से सैंकड़ों साल पहले से ही हिन्दुओं की बस्तियां बड़ी संख्या में जावा, सुमात्रा, मलाया तथा बाली आदि द्वीपों पर बस गई थीं। सुमात्रा, जावा तथा बाली द्वीपों पर हिन्दुओं का सबसे बड़ा जमावड़ा था। बाली द्वीप से ब्राह्मी लिपि में उत्कीर्ण कुछ लेख मिले हैं जो ईसा से दो शताब्दी से भी अधिक पुराने हैं। ब्राह्मी लिपि के ये लेख हिन्दू धर्म से सम्बन्धित हैं। बाली द्वीप का नाम भी बहुत पुराना है।

    ईसा की चौथी एवं पांचवी शताब्दी में भारतीय राजकुमारों ने ईस्ट-इण्डीज द्वीपों पर अपने छोटे-बड़े अनेक राज्य स्थापित कर लिए थे। बाली तथा इसके आस-पास फैले हजारों द्वीपों पर हिन्दू जाति निवास करती थी। बाली से प्राप्त विष्णु, ब्रह्मा, शिव, नंदी, स्कन्द और महाकाल की मूर्तियों से इस तथ्य की पुष्टि होती है। बहुत से बौद्ध भी बाली और उसके निकटवर्ती द्वीपों पर आ जुटे। पौराणिक हिन्दू धर्म के साथ-साथ इन द्वीपों में बौद्ध धर्म का भी प्रसार हुआ। ये दोनों धर्म बाली तथा उसके निकटवर्ती द्वीप समूह पर सातवीं शताब्दी ईस्वी तक बिना किसी संघर्ष के फलते-फूलते रहे।

    ई.914 का एक शिलालेख बाली से मिला है जिसमें श्री केसरी वर्मा नामक राजा का उल्लेख है। ई.989 के लगभग जावा के राजा मपू सिंदोक की प्रपौत्री महेन्द्रदत्ता (गुण-प्रिय-धर्मा-पत्नी) का विवाह बाली के राजा उदयन वर्मदेव (धर्मोद्यनवर्मदेव) के साथ हुआ। इस विवाह के कारण बाली में जावा की हिन्दू संस्कृति एवं हिन्दू धर्म का प्रचार और भी अधिक विस्तार पा गया। महेन्द्रदत्ता ने ई.1001 के लगभग ऐरलांग्गा नामक पुत्र को जन्म दिया जो बाली का राजा बना। ई.1098 में इसी वंश में राजकुमारी सकलेन्दु किरण का जन्म हुआ जिसने ई.1115 से 1119 तक बाली द्वीप पर शासन किया। उसके बाद सूराधिप, जयशक्ति, जयपंगुस, आदिकुंती केतन एवं परमेश्वर आदि राजा हुए। इस प्रकार बाली का यह हिन्दू राजवंश 1293 ईस्वी तक शासन करता रहा। 1293 ईस्वी में जावा के मजापहित वंश के राजा ने बाली द्वीप पर अधिकार कर लिया। उसके राज्य में कई हजार द्वीप थे।





  • Share On Social Media:

  • हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 4 बाली द्वीप पर इस्लाम का प्रवेश एवं वर्तमान बाली

     20.08.2017
    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 4  बाली द्वीप पर इस्लाम का प्रवेश एवं वर्तमान बाली

    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 4

    बाली द्वीप पर इस्लाम का प्रवेश

    सातवीं शताब्दी ईस्वी में अरब में इस्लाम की आंधी उठी जो देखते ही देखते बवण्डर बनकर चारों तरफ फैलने लगी। सातवीं शताब्दी ईस्वी में ही अरब व्यापारियों के रूप में पहली बार मुसलमानों ने बाली द्वीप पर पैर रखा। उनके प्रभाव से कुछ लोगों ने इस्लाम स्वीकार कर लिया। सोलहवीं शताब्दी आते-आते यह प्रभाव इतना अधिक बढ़ गया कि बाली को छोड़कर शेष सभी द्वीपों के शासकों एवं प्रजा ने इस्लाम स्वीकर कर लिया। 15वीं शताब्दी में इस्लाम रूपी आन्धी के तेज झौंके इण्डोनेशयिाई द्वीपों को झकझोरने लगे। अंततः 1478 ईस्वी में जावा का मजापहित हिन्दू साम्रज्य ध्वस्त हुआ और अधिकांश द्वीपों पर मुसलमान सुलतानों ने सत्ता हथिया ली। उन्होंने इन द्वीपों के हिन्दुओं पर भयानक अत्याचार किये। उन्हें बलपूर्वक मुसलमान बनाना, उनकी सम्पत्ति तथा स्त्रियों का हरण कर लेना तथा हजारों हिन्दुओं को मौत के घाट उतार देना, अत्यंत साधारण बात थी।

    ऐसी स्थिति में जावा, सुमात्रा, मलाया और अन्य द्वीपों के अभिजात्य-वर्गीय हिन्दू भाग-भाग कर बाली आने लगे। बाली में एकत्रित हुए हिन्दुओं ने मुसलमानों से मोर्चा लेने का निर्णय लिया। मुसलमानों ने बहुत प्रयास किये किंतु हिन्दुओं की संगठित शक्ति के कारण बाली द्वीप में हिन्दुओं का तथा हिन्दू धर्म का पतन नहीं हुआ। आसपास के द्वीपों में रह रहे हजारों बौद्धों को भी यहीं शरण मिल सकी। जब मुस्लिम आक्रांताओं द्वारा मलाया द्वीप समूह (अब मलेशिया) से हिन्दू सभ्यता का अंत कर दिया गया तब बाली द्वीप ने वहाँ के हिन्दू राजाओं एवं संस्कृति को भी शरण दी।

    बाली में ही बचे हिन्दू और बौद्ध

    लगभग 100 साल तक इण्डोनेशियाई द्वीपों में मुसलमानों के अत्याचार निर्बाध रूप से जारी रहे और तब तक जारी रहे जब तक कि बाली को छोड़कर शेष द्वीपों में मुस्लिम सत्ताएं स्थापित नहीं हो गईं तथा वहाँ की लगभग समस्त प्रजा ने इस्लाम स्वीकार नहीं कर लिया। परिणामतः ईस्ट-इण्डीज द्वीपों में केवल बाली द्वीप पर ही हिन्दू जनसंख्या बची रह गई।

    बाली द्वीप पर डचों का अधिकार

    ई.1597 में पहली बार डच लोगों का बाली द्वीप पर आगमन हुआ। उस समय बाली द्वीप पर हिन्दू राजा का शासन था। डचों ने बाली द्वीप पर अपनी आर्थिक गतिविधियां आरम्भ कीं जो धीरे-धीरे राजनीतिक गतिविधियों में बदल गईं। ई.1839 में डच लोगों ने बाली द्वीप पर अधिकार कर लिया तथा ई.1840 के आते-आते बाली द्वीप के उत्तरी तट पर डच लोगों का शासन हो गया। इसके बाद उन्होंने तेजी से बाली द्वीप के शेष भाग पर अधिकार जमाना आरम्भ किया। ई.1906 में डच ईस्ट इण्डिया कम्पनी की सेना ने बाली के हिन्दू राजवंश के लगभग 200 लोगों को मार डाला तथा उनके साथ ही बाली के हजारोें हिन्दू सैनिकों को भी मौत के घाट उतार दिया। ई.1911 में उन्होंने बाली द्वीप को डच साम्राज्य में शामिल कर लिया।

    द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान ई.1942 में जापान ने बाली द्वीप पर अधिकार कर लिया ताकि वह बाली द्वीप को आधार-शिविर की तरह उपयोग करके मित्र राष्ट्रों से भलीभांति लड़ सके। जापानियों के दबाव में डच लोगों को बाली द्वीप खाली करना पड़ा किंतु वे निकटवर्ती द्वीपों पर अपना अधिकार जमाए रखने में सफल रहे।

    हिरोशिमा और नागासाकी पर परमाणु बम गिराये जाने के बाद अगस्त 1945 में जापान ने मित्र राष्ट्रों के समक्ष घुटने टेक दिये। बाली के लोगों ने इसे अपने लिए सुअवसर समझा। उन्होंने अपनी स्वयं की एक सेना बना ली और बाली में रह रही जापानी सेना पर आक्रमण कर दिया। जापानियों को बाली द्वीप से भागना पड़ा किंतु इस समय स्वतंत्रता का सुख बाली के लोगों के भाग्य में लिखा ही नहीं था।

    जापान का पतन होने के बाद डच लोग पुनः बाली लौट आए ताकि वे अपने खोये हुए राज्य का फिर से निर्माण कर सकें। बाली के लोगों ने डच सेना से संघर्ष करने की तैयारी की तथा मरते दम तक लड़ने का निर्णय लिया। कर्नल नगुरा राय के नेतृत्व में बाली के लोगों ने डच लोगों पर बड़ा आत्मघाती आक्रमण किया किंतु हिन्दुओं के दुर्भाग्य से इस युद्ध में विजय डच लोगों के हाथ लगी। बाली की सेना पूर्णतः नष्ट हो गई और बाली द्वीप फिर से डच लोगों के अधीन हो गया। यह स्थिति भी अधिक समय तक बनी नहीं रह सकी।

    ई.1949 में कुछ मुस्लिम आंदोलनकारियों ने सुकार्णो तथा हात्ता के नेतृत्व में इण्डोनेशिया के हजारों द्वीपों को सम्मिलित करते हुए ''रिपब्लिक ऑफ यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ इण्डोनेशिया'' नामक देश का निर्माण किया तथा उसमें बाली द्वीप को भी सम्मिलित कर लिया। डच सरकार ने इस नये देश को मान्यता दे दी। इसके बाद विश्व के अन्य देशों ने भी इण्डोनेशिया रिपब्लिक के निर्माण को स्वीकार कर लिया। डच लोगों को एक बार पुनः बाली द्वीप खाली करना पड़ा।

    पांच लाख लोगों की हत्या

    ई.1950-60 के बीच इण्डोनेशिया में एक बार फिर से राजनीतिक अस्थिरता उत्पन्न हुई जिसके कारण सेना को हस्तक्षेप करने का अवसर मिल गया। निरंकुश सेना ने इण्डोनेशिया के विभिन्न द्वीपों में लगभग 5 लाख लोगों को मार डाला। बाली द्वीप पर 80 हजार से 1 लाख लोग मारे गये।

    आगूंग पर्वत में ज्वालामुखी विस्फोट

    अभी सैनिक ताण्डव समाप्त भी नहीं हुआ था कि ई.1963 में आगूंग पर्वत में विस्फोट होने से बाली द्वीप पर हजारों लोग मारे गये तथा आर्थिक संकट खड़ा हो गया। हजारों बाली वासियों को द्वीप खाली करके अन्य द्वीपों को भाग जाना पड़ा।

    पर्यटन को बनाया आर्थिक उन्नति का आधार

    ई.1965-66 में सुहार्तो ने सुकार्नो की सरकार को अपदस्थ कर दिया। उसने बाली द्वीप को आर्थिक सम्बल देने के लिए पर्यटन को मुख्य आधार बनाया। इसके बाद से बाली की दशा में सुधार आने लगा। साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया गया। विश्व भर से पर्यटकों को बाली द्वीप पर लाने के प्रयास आरम्भ हुए। बाली के सुंदर सागरीय द्वीपों, चावल के हरे-भरे खेतों तथा प्राचीनतम हिन्दू मंदिरों को देखने के लिए लाखों लोग दुनिया भर से बाली आने लगे। बाली के लोगों को नये रोजगार प्राप्त हुए, लोगों में आत्मविश्वास तथा स्थिरता आने लगी।

    मुस्लिम आतंकियों के बाली द्वीप पर हमले

    बाली द्वीप को विश्व भर के पर्यटकों में अपनी पहचान बनाने की प्रक्रिया आरम्भ किए हुए अभी कुछ दशक भी नहीं बीते थे कि ई.2002 में एक मुस्लिम आतंकवादी ने बाली द्वीप के सबसे प्रमुख केन्द्र कुता में बम विस्फोट करके 202 अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को मार डाला। पूरे विश्व में इस हमले का बुरा प्रभाव पड़ा। केवल तीन साल बाद ई.2005 में एक बार पुनः मुस्लिम आतंकवादियों ने बाली द्वीप के अंतर्राष्ट्रीय पर्यटकों को निशाना बनाया। इसके बाद से बाली में आने वाले पर्यटकों की संख्या बहुत कम हो गई तथा बाली एक बार पुनः निर्धनता के खड्डे में जा गिरा।


    वर्तमान समय में बाली

    पर्यटकों का स्वर्ग बाली

    वर्तमान समय में बाली द्वीप की कुल जनसंख्या में से 90 प्रतिशत हिन्दू है। शेष 10 प्रतिशत जनसंख्या में बौद्ध, मुस्लिम एवं ईसाई हैं। यह विश्व विख्यात पर्यटन स्थान है जिसकी कला, संगीत, नृत्य और मन्दिर मनमोहक हैं। यहाँ की राजधानी देनपासार नगर है। मध्य बाली में स्थित उबुद नामक नगर भी पर्यटकों के आकर्षण का केन्द्र है। यह बाली द्वीप में कला और संस्कृति का प्रधान स्थान है। दक्षिण बाली में स्थित ''कुता'' एक प्रमुख नगर है। जिम्बरन बाली में मछुओं का ग्राम और प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। द्वीप के उत्तरी तट पर सिंहराज नगर स्थित है। 
    आगूंग पर्वत और ज्वालामुखी बतुर पर्वत दो ऊंची चोटियां हैं।

    हँसते-मुस्कुराते चेहरों वाले लोग

    बाली के लोग सरल, हंसमुख एवं श्रमजीवी किन्तु निर्धन, फटेहाल और अभावग्रस्त हैं। स्त्री और पुरुष दोनों ही, दिन भर हाड़-तोड़ परिश्रम करके अपने परिवार का पेट पालते हैं। पुरुष अपेक्षाकृत अधिक परिश्रम के कामों अर्थात् वाहन चालन, कृषि एवं निर्माण कार्यों में संलग्न हैं, वहीं महिलाएं प्रायः किसी न किसी प्रकार की छोटी-मोटी दुकान चलाती हैं। या सड़कों के किनारे नारियल, केले और विभिन्न प्रकार के फूल बेचती हुई दिखाई देती हैं।

    भारत और भारतीयों से है करते हैं प्यार

    कई अर्थो में बाली द्वीप, भारत का एक संस्करण दिखाई देता है तो कई अर्थों में यह भारत से बिल्कुल अलग है। बाली के स्थानीय व्यक्ति भारतीयों को देखकर प्रसन्न होते हैं और पहली ही भेंट में यह बताना नहीं भूलते कि हम भी हिन्दू हैं। वे ये भी बताते हैं कि हमारे परिवार में कौन-कौन शाकाहारी है और कौन व्यक्ति भारत जाकर गंगा स्नान कर आया है। यह देखना और जानना किसी सुखद अश्चर्य से कम नहीं होता कि भारतीय हिन्दुओं के प्रति इनके मन में अपार आदर और स्नेह है। जैसे ही आप इनकी दुकान पर पहुंचते हैं, या मार्ग में मिलते हैं, बाली के अधिकांश लोग ''स्वस्तिम् अस्तु'' कहकर दोनों हाथ जोड़ते हैं और मुस्कुराकर आपका स्वागत करते हैं। इनकी आंखें बताती हैं कि उन्हें यह ज्ञात है कि भारत बहुत धनी और सभ्य देश है तथा बाली के लोगों की जड़ें भारत में हैं।

    साफ-सुथरा द्वीप बाली एक साफ-सुथरा द्वीप है, सड़कों पर गंदगी, भीड़-भड़क्का एवं शोरगुल नहीं है। सड़कें अपेक्षाकृत संकरी किंतु मजबूत हैं। कहीं भी टूटी-फूटी या उधड़ी हुई सड़कें देखने को नहीं मिलती हैं, इससे अनुमान होता है कि यहाँ भ्रष्टाचार या तो है ही नहीं और यदि है तो बहुत ही कम है। ठेकेदारों और इंजीनियरों ने सड़क निर्माण में पूरी सामग्री का उपयोग किया है। सड़क के दोनों ओर पैदल यात्रियों के लिए पटरियां बनी हुई हैं, साइन बोर्ड भी भली भांति लगे हुए हैं।

    सड़कों के किनारे लगे सूचना पट्ट एवं दुकानों के बाहर लगे नामपट्ट बाली की स्थानीय भाषा ''बहासा इण्डोनेशियन'' में लिखे हुए हैं, जो कि मलय भाषा से बनी है। यह देखकर आश्चर्य होता है कि ये सभी पट्ट रोमन लिपि में लिखे हुए हैं जो देखने में तो अंग्रेजी भाषा के लगते हैं किंतु विदेशी पर्यटकों को पढ़ने में नहीं आते। यह ठीक वैसा ही है जैसे मराठी लोगों ने मराठी भाषा के लिए ''देवनागरी'' लिपि अपना ली है।

    बाली द्वीप के नगरों में बड़े डिपार्टमेंटल स्टोर बहुत कम हैं। अधिकांश दुकानें बहुत छोटी हैं तथा उनमें बिक्री के लिए बहुत कुछ उपलब्ध नहीं है। ब्रेड (डबल रोटी), कोल्ड ड्रिंक, अण्डा, डिब्बाबंद चिकन, डिब्बाबंद मछली, पूजा के फूल, नारियल, अगरबत्ती, प्लास्टिक के छोटे-मोटे सामान आदि दैनिक उपयोग की सामग्री अधिक बिकती है। दुकानों के बाहर एक-एक लीटर की मिट्टी के तेल, डीजल और पैट्रोल से भरी बोतलें रखी रहती हैं, क्योंकि यहाँ पैट्रोल पम्प केवल मुख्य नगर की परिधि में ही उपलब्ध हैं, वे भी गिने-चुने।

    गाय, गंगा और गेहूँ रहित बाली के हिन्दू भारतीय अर्थव्यवस्था का मुख्य आधार गाय, भारतीय धर्म का मुख्य आधार गंगा और भारतीय भोजन की थाली का मुख्य आधार गेहूं, बाली द्वीप में देखने को नहीं मिलते। यहाँ दुधारू पशु नहीं पाले जाते। यहाँ घरों में दूध एवं चाय नहीं पिये जाते। किसी विशिष्ट अतिथि के आने पर, मध्यम एवं उच्च वर्गीय परिवारों में बिना दूध की कॉफी बनाई जाती है। यहाँ के लोगों का पूरा जीवन बीत जाता है किंतु ये न तो गाय, भैंस, बकरी आदि दुधारू पशुओं के दर्शन कर पाते हैं और न ही पशुओं के दूध का स्वाद चख पाते हैं। शैशव अवस्था में शिशु लगभग एक साल तक माँ का दूध पीता है, उसके बाद चिकन खाने लगता है, और फिर सूअर का मांस तथा मछली आदि। ऊंट और घोड़ा भी बाली में नहीं हैं। आश्चर्य की बात है कि यहाँ की सड़कों पर पशु घूमते दिखाई नहीं देते। गांवों में जाएं तो गलियों में केवल इक्का-दुक्का कुत्ते दिखाई देते हैं।

    गाय-भैंस के अभाव में सामान्यतः घरों में दूध-दही-छाछ-मक्खन-घी का उपयोग नहीं होता। बड़े डिपार्टमेंटल स्टोर पर डिब्बाबंद योघर्ट मिलता है, इसका उपयोग केवल पर्यटक करते हैं। यह बहुत महंगा है, सामान्यतः 50 ग्राम योघर्ट के लिए भारतीय मुद्रा में 60 रुपए चुकाने होते हैं। इसका स्वाद दही से काफी अलग होता है तथा यह गोंद की तरह चिपचिपा होने के कारण आम भारतीय के लिए अनुपयोगी है।

    फसलों के नाम पर खेतों में प्रायः चावल, मक्का और गन्ना दिखाई देता है। चावल बहुतायत में होता है किंतु बासमाती चावल या खुशबूदार अच्छा चावल भारत से मंगाया जाता है। गेहूं, जौ, चना, बाजरा आदि अनाज और मूंग, मोठ, उड़द, चंवला आदि दालें यहाँ नहीं उगाई जातीं। भिण्डी, आलू और प्याज जैसी सब्जियां भी न्यूजीलैण्ड, नीदरलैण्ड, ऑस्ट्रेलिया, भारत एवं अन्य देशों से आयात की जाती हैं। आयातित सब्जियां आम दुकानों पर नहीं मिलतीं। ये सब्जियां बड़े डिपार्टमेंटल स्टोर्स में काफी ऊंची दरों पर प्लास्टिक के रैपर में बंद करके बेची जाती हैं एवं बड़े होटलों में विदेशी पर्यटकों के लिए उपलब्ध रहती हैं।

    भारतीय देवी-देवताओं में है विश्वास

    बाली के लोग रामायण, भगवान राम, देवी सीता एवं रामदूत हनुमान के प्रति श्रद्धा रखते हैं। चारों वेद, गीता, महाभारत, एवं पाण्डु पुत्र भीम तथा वीर अर्जुन की चर्चा करना गौरव का विषय मानते हैं। भगवान राम, इन्द्र, सरस्वती, कृष्ण, शिव, अर्जुन और भीम की विशाल एवं सुंदर प्रतिमाएं चौराहों पर लगी हुई हैं जो पर्यटकों के आकर्षण और कौतूहल का विषय हैं क्योंकि भारत में केवल हनुमानजी अथवा शिवजी की ही इतनी बड़ी प्रतिमाएं देखी जाती हैं। हनुमानजी की प्रतिमाएं विकराल स्वरूप की हैं। सीता को ये देवी सिन्ता कहते हैं तथा उनमें बड़ी श्रद्धा रखते हैं। देवी सिन्ता की अत्यंत सुंदर और विशाल प्रतिमाएं चौराहों पर देखने को मिलती हैं। सरस्वती की बहुत सुन्दर प्रतिमाएं, दर्शकों का मन मोह लेती हैं। मूर्ति निर्माण की यह एक विशिष्ट परम्परा है, इसमें रागात्मकता एवं मनोरम्यता का तत्व अधिक है।

    भारत के चौराहों पर मोहनदास गांधी, इंदिरा गांधी, जवाहरलाल नेहरू तथा बहुत से स्थानीय नेताओं आदि की मूर्तियां पाई जाती हैं किंतु भारतीय पर्यटक बाली द्वीप में भगवान श्रीराम, देवी सीता, भगवान श्रीकृष्ण तथा रामभक्त हनुमान की मूर्तियां देखकर आश्चर्य चकित रह जाते हैं। भगवान शिव, पार्वती एवं गणेश की प्रतिमाएं भी चौराहों, उद्यानों एवं होटलों आदि में दिखाई देती हैं। अधिकतर मंदिरों के प्रवेश द्वार पर गणेश प्रतिमाएं लगी हैं। ये अपेक्षाकृत छोटे आकार की हैं तथा ठीक वैसी ही हैं जैसी भारत में पाई जाती हैं। द्वारपालों की कुछ मूर्तियां दैत्यों जैसी दिखाई देती हैं। सामान्यतः ये मूर्तियां मंदिरों और नगरों के द्वारों के बाहर लगी रहती हैं।

    प्रत्येक घर के अंदर तथा बाहर स्तम्भ मंदिर बने होते हैं। लगभग चार पांच फुट ऊंचे स्तम्भ पर एक छोटा आला होता है जिसे काला (स्तंभ पर स्थित लघु देवालय) कहते हैं। घर के भीतर बने काला को पुंगुनकरन अर्थात् धरती का देवता कहते हैं। घर के भीतर के काला में देवी दुर्गा के भी देवालय होते हैं। घर के बाहर के देव स्थान को इन्द्राब्लॉका कहा जाता है, यह गली-मौहल्ले की रक्षा करता है। ब्रह्मा, विष्णु महेश को कुनिंगन्न (त्रिदेव) कहा जाता है। साल में एक बार यलो डे मनाया जाता है। उस दिन स्त्री-पुरुष पीले वस्त्र धारण करते हैं। यह भारत के बसंत पंचमी का ही रूप है। गलुगन्गन पर्व पर सार्वजनिक अवकाश होता है। पके हुए चावल को नासि तथा कच्चे चावल को सयुर कहा जाता है, जो बाली का मुख्य खाद्य है।

  • हि"/> हि"> हि">
    Share On Social Media:
  • हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 5 इण्डोनेशिया के प्रमुख हिन्दू एवं बौद्ध मंदिर

     20.08.2017
    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 5 इण्डोनेशिया के प्रमुख हिन्दू एवं बौद्ध मंदिर

    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 5


    इण्डोनेशिया के प्रमुख हिन्दू एवं बौद्ध मंदिर


    इण्डोनेशिया के अनेक द्वीपों पर प्राचीन हिन्दू देवालय, बौद्ध चैत्य तथा विहार बने हुए थे जिनमें से अधिकतर मंदिर एवं चैत्य मुस्लिम आक्रांताओं की भेंट चढ़ गए। जब सुहार्तो की सरकार ने विश्व पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए इण्डोनेशिया को नए सिरे से तैयार करने का काम आरम्भ किया तब से अब तक कई मंदिर एवं चैत्य खण्डहरों के नीचे से खोज निकाले गए हैं। इंडोनेशिया के मंदिरों पर सर्वाधिक प्रभाव राम कथा का देखने को मिलता है। परमबनन शिव मंदिर में लगी प्रस्तर शिलाओं पर रामायण के बहुत से दृश्य अंकित हैं। इस मंदिर में कृष्णलीला के प्रसंग भी बड़ी संख्या में उत्कीर्ण हैं।

    जावा द्वीप के मंदिर

    जावा में हिन्दू धर्म के प्रभाव को आसानी से समझा जा सकता हैं। जावा द्वीप पर 15 बड़े हिन्दू मंदिर खोजे गए हैं जिनमें परमबनन शिव मंदिर और बोरोबुदुर बौद्ध विहार मुख्य हैं। दूसरे प्रमुख मंदिरों में ई.750 में बना देंग मंदिर, 9वीं शताब्दी का प्लाओसान मंदिर, 15वीं सदी में बना सथो मंदिर, सिंघसरी साम्राज्य के काल में ई.1248 में बना किदाल मंदिर, जन्म से पहले जीवन को दर्शाता 15वीं सदी मे बना सुख मंदिर और मजापहित साम्राज्य के समय में 12वीं तथा 15वीं सदी के दौरान बना ''पनतरन मंदिर'' सम्मिलित हैं। इन मंदिरों को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर की सांस्कृतिक श्रेणी में सम्मिलित किया गया है।

    जकार्ता के मंदिर

    जकार्ता शहर का वास्तविक नाम जयकार्ता है। यह पश्चिमी जावा में स्थित है तथा इंडोनेशिया की राजधानी है। जकर्ता में 17 प्रमुख हिन्दू मंदिर पाए गए हैं जिनमें नौवीं शताब्दी ईस्वी में निर्मित विशाल शिव मंदिर, 926 ई. में बना तीर्थ एम्पुल मंदिर, 11वीं सदी में बना गोवा गजह (शिव मंदिर), 14वीं शताब्दी में निर्मित बेसैख का माता मंदिर और 1633 ई. में निर्मित पुरा उलुंदनु ब्रतन (शिव मंदिर) प्रमुख हैं।

    योग्यकार्ता के मंदिर

    योग्यकार्ता शहर मध्य जावा में स्थित है। फरवरी 2010 में योग्यकर्ता में स्थित एक निजी मुस्लिम विश्वविद्यालय के परिसर में दो मंदिरों के अवशेष मिले जब विश्वविद्यालय ने वहाँ बनी एक मस्जिद के पास पुस्तकालय बनाने के लिए खुदाई आरम्भ की। ये मंदिर लगभग 1100 साल पुराने हैं तथा विशाल और अद्वितीय हैं। ऐसे मंदिर इंडोनेशिया के इतिहास में पहले कभी नहीं देखे गए। इन मंदिरों में भगवान् शिव के शिवलिंगों के साथ-साथ भगवान् गणेश की प्रतिमाएं मिली हैं। एक अन्य स्थान पर हुई खुदाई में पुरातत्व विभाग को भगवान् शिव के वाहन नंदी की प्रतिमा मिली। नंदी की यह प्रतिमा, सामान्य नंदी प्रतिमाओं से काफी अलग है और दूसरी मूर्तियों की तरह चौड़ी भी नहीं है।

    सिंघसरी शिव मंदिर

    13वीं शताब्दी में बना सिंघसरी शिव मंदिर पूर्वी जावा के सिंघसरी नामक स्थान पर बना हुआ है। यह विशाल शिव मंदिर अपनी भव्यता के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। मंदिर में भगवान शिव की एक विशाल प्रतिमा है जिसके पूजन के लिए प्रतिदिन बड़ी संख्या में भक्त आते हैं। भगवान शिव से सम्बन्धित समस्त पर्व बड़ी धूम-धाम से मनाए जाते हैं।

    बाली द्वीप के मंदिर

    बाली भाषा में ''पुरा'' का अर्थ मंदिर होता है। अक्टूबर 2012 में इंडोनेशिया के पुरातत्व विभाग ने बाली द्वीप का सर्वेक्षण किया तथा चौदहवीं शताब्दी ईस्वी के एक विशाल हिन्दू मंदिर को खोज निकालने का दावा किया। पुरातत्वविदों ने देश को सूचित किया कि पूर्वी देन्पासार में नदी बेसिन में हो रही खुदाई में धरती से तीन फुट नीचे उन्हें एक विशालकाय पत्थर मिला तथा आगे हुई खुदाई में पाया गया कि यह वास्तव में एक विशाल मंदिर की आधारशिला है। ऐसे पत्थर बड़ी संख्या में मिले जो यह प्रमाणित करते हैं कि चौदहवीं सदी में इस नदी क्षेत्र में बड़ी संख्या में मंदिरों का निर्माण हुआ।

    पुरा तमन अयुन (सरस्वती मंदिर)

    देवी सरस्वती को समर्पित यह मंदिर बाली के उबुद नगर में है। देवी सरस्वती को हिन्दू धर्म में विद्या, ज्ञान और संगीत की देवी माना जाता हैं, इसलिए यहाँ पर भी देवी सरस्वती की पूजा ज्ञान और विद्या की देवी के रूप में ही की जाती है। यहाँ पर एक सुन्दर कुंड भी बना है, जो इस मंदिर का मुख्य आकर्षण है। यहाँ प्रतिदिन संगीत के कार्यक्रम होते हैं। संस्कृत में अयन का अर्थ होता है- घर। बाली द्वीप का अयुन शब्द संस्कृत के अयन शब्द से ही बना है।

    पुरा बेसकिह मंदिर

    बाली द्वीप के माउंट अगुंग में स्थित यह मंदिर प्रकृति की गोद में बसा इंडोनेशिया का सबसे सुन्दर मंदिर है। यह बाली का सबसे बड़ा और पवित्र मंदिर भी है, जो बाली के महत्वपूर्ण मंदिरों की शृंखला में सम्मिलित किया गया है। 1995 ई. में इस मंदिर को यूनेस्को ने विश्व धरोहर घोषित किया। मंदिर में विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं।

    गिन्यार क्षेत्र के मंदिर

    बाली द्वीप के दक्षिण-पूर्वी क्षेत्र में स्थित गिन्यार में 1986 ई. में हुई खुदाई में वासा मदिर सामने आया जो 11 मीटर चौड़ा है। 2010 ई. तक इंडोनेशिया के पुरातत्वविद, गिन्यार में धरती के नीचे दबे हुए 16 और मंदिरों को ढूँढ़ने में सफल हो गए।

    तनाहलोट मंदिर (विष्णु मंदिर)

    बाली द्वीप पर स्थित विशाल समुद्री चट्टान पर भगवान विष्णु को समर्पित तनाहलोट मंदिर 15वीं में निर्मित हुआ। यह अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध है तथा इण्डोनेशिया के मुख्य आकर्षणों में से एक है। यह मंदिर बाली द्वीप के हिन्दुओं की आस्था का बड़ा केंद्र है। जब समुद्र में ज्वार आता है तो मंदिर में जाने का मार्ग बंद हो जाता है तथा भाटा आने पर यह मार्ग खुल जाता है जिससे मंदिर तक जा सकते हैं। पर्यटकों को मंदिर के भीतर जाने की अनुमति नहीं होती है। वे बाहर की रेलिंग से भीतर का दृश्य देख सकते हैं।


  • Share On Social Media:
  • हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 6 प्लाओसान बौद्ध मंदिर

     20.08.2017
    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 6  प्लाओसान बौद्ध मंदिर

    हिन्दुत्व की छाया में इण्डोनेशिया - 6


    प्लाओसान बौद्ध मंदिर


    प्लाओसान बौद्ध मंदिर भी एक मंदिर समूह है जिसमें मंदिरों के खण्डहर स्थित हैं। यह मंदिर परमबनन मंदिर के उत्तर-पश्चिम में केवल एक किलोमीटर की दूरी पर है। इस स्थान को बुगिसान गांव कहते हैं। यह सेंट्रल जावा के परमबनन जिले की क्लाटेन रीजेंसी का कस्बे जैसा गांव है जहाँ पक्की दुकानों की पंक्तियां बनी हुई हैं। मंदिर के निकट लगभग 200 मीटर की दूरी से होकर डेंगोक नामक नदी बहती है। मंदिर के चारों ओर धान के खेत हैं। केले और नारियल के झुरमुट यत्र-तत्र दिखाई देते हैं।

    प्लाओसान बौद्ध मंदिर परिसर 2000 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैला हुआ है तथा समुद्र की सतह से मात्र 148 मीटर ऊपर स्थित है। प्लाओसान बौद्ध मंदिर परिसर 2000 वर्ग मीटर क्षेत्र में फैला हुआ है तथा समुद्र की सतह से मात्र 148 मीटर ऊपर स्थित है। इसका निर्माण काल भी नौवीं शताब्दी इस्वी का है। माना जाता है कि इस मंदिर का निर्माण राजकुमारी काहुलुन्नान अथवा प्रमोदवर्द्धिनी ने करवाया जो कि शैलेन्द्र वंश के सम्राट-उन्गा अथवा समरातुंगा की पुत्री थी। इस राजकुमारी का विवाह पूरे हिन्दू विधि विधान से राकाई पिकातान से हुआ था जो कि ई.850 के आसपास मध्य जावा का माताराम वंश (संजय वंश) का शासक था।

    इस मंदिर समूह में दो प्रकार के बौद्ध मंदिर हैं- प्लाओसान लोर एवं प्लाओसान किडुल। इन दोनों प्रकार के मंदिरों को एक सड़क द्वारा अलग किया गया है। प्लाओसान लोर उत्तर में एवं प्लाओसान किडुल दक्षिण की ओर स्थित है। प्लाओसान मंदिर परिसर में 174 छोटे भवन हैं। इनमें से 116 स्तूप हैं तथा 58 चैत्य हैं। बहुत से भवनों पर शिलालेख उत्कीर्ण हैं। इनमें से दो लेख यह सूचित करते हैं कि यह मंदिर राकाई पिकातान द्वारा उपहार स्वरूप बनाए गए हैं। इन लेखों की तिथियां 825-850 ईस्वी के बीच की हैं जबकि परमबनन मंदिर की तिथि 856 ईस्वी की है। इन दोनों मंदिरों का निर्माण एक ही राजा के द्वारा करवाया गया किंतु इनके शिल्प में पर्याप्त अंतर है।

    परमबनन मंदिर विशुद्ध हिन्दू स्थापत्य विधि से बने थे जबकि प्लाओसान मंदिरों का निर्माण परम्परागत बौद्ध शैली में कराया गया था। प्लाओसान लोर में दो मुख्य मंदिर हैं जिन्हें जुड़वां मंदिर कहा जा सकता है। दोनों मंदिरों के प्रवेश द्वार पर द्वारपाल बैठे हुए हैं। इनका खुला हुआ भाग मण्डप कहलाता है। इन मंदिरों को उच्च एवं निम्न स्तरों में विभक्त किया गया है तथा तीन कक्षों में विभक्त किया गया है। निम्न स्तर के कक्षों में बहुत सी प्रतिमाएं स्थित थीं किंतु वर्तमान में प्रत्येक कक्ष के दोनों ओर बोधिसत्व की एक-एक प्रतिमा ही स्थित है। मुख्य आधार की केन्द्रीय प्रतिमा गायब हो गई है। यह कांसे की बुद्ध प्रतिमा थी जिसके दोनों ओर पत्थर की बोधिसत्व प्रतिमाएं विराजमान थीं।

    इतिहासकारों का अनुमान है कि प्रत्येक मुख्य मंदिर में कुल 9 प्रतिमाएं रही होंगी जिनमें से 6 बोधिसत्व प्रस्तर प्रतिमाएं तथा 3 कांस्य बुद्ध प्रतिमाएं थीं। इन प्रकार दोनों जुड़वा मंदिरों में कुल 18 प्रतिमाएं रही होंगी। इन जुड़वा मंदिरों के एक कक्ष में एक खमेर राजा की प्रतिमा भी खुदी हुई है जो संभवतः बाद में खोदी गई होगी। इस प्रतिमा को उसके मुकुट से पहचाना जा सकता है।


  • Share On Social Media:
Categories
SIGN IN
Or sign in with
 
×
Forgot Password
×
SIGN UP
Already a user ?
×