Blogs Home / Blogs / /
  • अजमेर का इतिहास - 77

     02.06.2020
    अजमेर का इतिहास - 77

    बीसवीं सदी में अजमेर (3)


    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    नरहरि बापट गिरफ्तार


    ई.1932 में अजमेर-मेरवाड़ा कारावास महानिरीक्षक गिब्सन की हत्या के अभियोग में नरहरि बापट को 10 वर्ष का कारावास हुआ। इसी वर्ष अजमेर पी.डब्ल्यू.डी. को सेंट्रल पी.डब्ल्यू.डी के अधीन किया गया। अजमेर-मेरवाड़ा के लिये आयकर अधिकारी की नियुक्ति की गयी। इसी वर्ष सरकार ने सस्ता साहित्य मण्डल के प्रेस कार्यालय पर ताला डाल दिया। 4 दिसम्बर 1932 को वायसराय लॉर्ड विलिंगडन अजमेर आया।

    ज्वालाप्रसाद शर्मा गिरफ्तार

    ई.1932 में ज्वालाप्रसाद शर्मा ने चीफ कमिश्नर की हत्या करने, राजकीय महाविद्यालय का कोष लूटने तथा वायसरॉय की हत्या करने के प्रयास किये। अप्रेल 1935 में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। ई.1933 में महर्षि दयानंद सरस्वती की मृत्यु की अर्द्ध शताब्दी मनायी गयी। इस अवसर पर अफ्रीका, बर्मा तथा समस्त भारत से आर्य समाजी अजमेर आये। ई.1934 में अजमेर म्युन्सिपल कमेटी को एक नामित कमेटी द्वारा समाप्त कर दिया गया। ई.1935 में दी गवर्नमेंट रेलवे पुलिस तथा अजमेर-मेरवाड़ा पुलिस को मिला दिया गया। बनास नदी पर देवली के निकट एक पुल बनाया गया।

    इसी वर्ष पुलिस उप अधीक्षक डोगरा की हत्या के अभियोग में ज्वाला प्रसाद शर्मा, रामसिंह एवं रमेशचंद्र को बंदी बनाया गया। इसी वर्ष सरकार ने मेयो कॉलेज का प्रबंधन राजपूताना के राजाओं द्वारा चुनी गयी मेयो कॉलेज कौंसिल को सौंप दिया।

    अजमेर नगर का विस्तार

    ई.1875 से अजमेर नगर की जनसंख्या में वृद्धि होनी आरंभ हुई थी जो अब तक लगातार होती जा रही थी। ई.1924 तक मेयो कॉलेज के पीछे सैंकड़ों एकड़ क्षेत्र में गुलाबों के खेत हुआ करते थे। इस क्षेत्र को गुलाबबाड़ी कहा जाता था। तब यहाँ कुछ झौंपड़ियां ही हुआ करती थीं। ई.1924 में यहाँ एक कॉलोनी की स्थापना की गई। इस कॉलोनी में अधिकतकर सार्वजनिक कार्यालयों में कार्य करने वाले लोग रहते थे। ई.1934-35 में नगर पालिका ने यहाँ की मुख्य सड़क का निर्माण करवाया। आनासागर के उत्तर में आनासागर तथा अंतेड़ की माता मंदिर के बीच में क्रिश्चियन गंज बसा। ई.1930 तक यहाँ कुछ छितरे हुए घर ही बने हुए थे। ई.1930-30 में अजमेर का नगर नियोजन की दृष्टि से सर्वेक्षण किया गया। नरसिंहपुरा के निकट रामनगर तथा फॉय सागर रोड एवं पुष्कर रोड पर भी 1925 से 1935 के बीच कॉलोनियां बस गईं। ई.1925 के आस पास अलवर गेट कॉलोनी बसनी आरंभ हुई। श्रीनगर चंवरी, नया बाजार, भोपों का बाड़ा, लोहकन डोंगरी गहलोतान आदि पुराने क्षेत्रों में भी छोटे-छोटे मौहल्ले विकसित हो गये।

    आदर्शनगर योजना

    अजमेर में जनसंख्या के ताबड़तोड़ प्रसार को देखते हुए ई.1931 में अजमेर के कुछ व्यवसायियों एवं गणमान्य व्यक्तियों ने आदर्शनगर गृह समिति की स्थापना की गई ताकि अजमेर के निकट एक मॉडल टाउन विकसित किया जा सके। भारत सरकार के आर्चीटैक्ट मि. रसेल की सलाह पर एक योजना तैयार की गई तथा उसे नगरपालिका से अनुमोदित करवाया गया। इसमें 100 फुट चौड़ी एक सड़क तथा 30 से 40 फुट चौड़ी कई सड़कें जो एक दूसरे से बिल्कुल मिलती जुलती थीं, बनाई गईं। कुछ छोटी सड़कें भी नियोजित की गईं। आदर्शनगर के लेआउट में स्कूल, खेल के मैदान, डिस्पेंसरी तथा दुकानों के लिये भी प्रावधान किया गया। आदर्श नगर योजना उच्च मध्यम वर्ग के लिये अच्छी आवासीय योजना सिद्ध हुई।

    भारत सरकार अधिनियम 1935

    ई.1935 में नया भारत सरकार अधिनियम पारित हुआ। इसका तृतीय भाग 1 अप्रेल 1937 से लागू किया गया। इसके बाद अजमेर के प्रशासनिक ढांचे में एक बार फिर परिवर्तन आया। अजमेर-मेरवाड़ा को भारत सरकार के पोलिटिकल विभाग से हटाकर, गृह विभाग के अधीन कर दिया गया क्योंकि नये संविधान के अनुसार भारत सरकार के पोलिटिकल विभाग का प्रशासनिक नियंत्रण क्राउन प्रतिनिधि वायसराय के अधीन दे दिया गया था। नये अधिनियम के अनुसार क्राउन प्रतिनिधि (वायसरॉय) को ब्रिटिश भारत के मामलों में बोलने का अधिकार नहीं रह गया था।

    यह व्यवस्था भी की गई कि भविष्य में अजमेर के कमिश्नर एवं असिस्टेण्ट कमिश्नर यूनाइटेड प्रोविंस सिविल सेवा के अधिकारी होंगे। इनकी नियुक्ति तीन साल के लिये होगी तथा ये एजेण्ट टू दी गवर्नर जनरल फॉर राजपूताना के नीचे काम करेंगे। एजेण्ट टू दी गवर्नर जनरल का पदनाम बदलकर रेजीडेण्ट इन राजपूताना तथा चीफ कमिश्नर अजमेर मेरवाड़ कर दिया गया। भारत सरकार अधिनियम 1935 में यह प्रावधान किया गया था कि जब संघीय संविधान का निर्माण होगा, तब अजमेर-मेरवाड़ा तथा पांठ-पीपलोदा के लिये संयुक्त रूप से, संघीय विधान सभा में एक सदस्य तथा संघीय विधान परिषद में एक सदस्य का प्रतिनिधित्व होगा।

    यह भी प्रावधान किया गया कि भविष्य में अजमेर प्रांत के लिये कानून का निर्माण गवर्नर जनरल की परिषद के स्थान पर संघीय विधान द्वारा किया जायेगा। इस समय अजमेर-मेरवाड़ा में जो भी कानून चल रहे थे उन्हें किसी सैंवधानिक संस्था द्वारा लागू नहीं किया गया था। 1 अप्रेल 1937 से अनुसूचित जिला अधिनियम (शिड्यूल्ड डिस्ट्रिक्ट्स एक्ट) अप्रभावी बना दिये गये। 1 अप्रेल 1937 से पहले अजमेर मेरवाड़ा क्षेत्र का पुलिस बल, राजपूताना की रेलवे भूमि तथा आबू में पट्टे की जमीनें एजेण्ट टू दी गवर्नर जनरल ऑफ राजपूताना के अधीन हुआ करती थीं। 1 अप्रेल 1937 से ये सारे विषय चीफ कमिश्नर ऑफ अजमेर-मेरवाड़ा के प्रशासनिक नियंत्रण में दे दिये गये।

    गृह विभाग के अधीन

    1 अप्रैल 1937 को अजमेर-मेरवाड़ा क्षेत्र को भारत सरकार के गृह विभाग के अधीन कर दिया गया। परिणामतः इस क्षेत्र से सम्बन्धित सभी विधेयक फेडरल लेजिस्लेचर (संघीय विधानसभा) द्वारा पास किये जाने लगे। यह भी व्यवस्था की गई कि इस क्षेत्र के लिये कमिश्नर तथा असिस्टेंट कमिश्नर यूनाइटेड प्रोविन्सेज सिविल सर्विस से प्रतिनियुक्ति पर आयेंगे। भारत के गवर्नर जनरल का एजेन्ट जो अब तक चीफ कमिश्नर कहलाता था, अब से चीफ कमिश्नर अजमेर-मेरवाड़ा तथा राजपूताना का रेजीडेन्ट कहलाने लगा। एक सदस्य फेडरल कौंसिल के लिये चुने जाने की व्यवस्था की गई। इन सदस्यों का चुनाव अजमेर मेरवाड़ा, पांठ-पिपलोदा क्षेत्र से किया जाना था।

    ई.1823 एवं ई.1830 में ईस्ट इण्डिया कम्पनी द्वारा मेवाड़ रियासत से 93 गांव तथा मारवाड़ रियासत से 22 गांव समुचित प्रबंधन के लिये मेरवाड़ा जिले में सम्मिलित किये गये थे। ई.1938 में उन्हें वापस उनकी मूल रियासतों को लौटा दिया गया। कुल 273 वर्गमील क्षेत्र मारवाड़ रियासत को तथा 223 वर्ग मील क्षेत्र मेवाड़ रियासत को लौटाया गया। इससे अजमेर-मेरवाड़ा प्रांत का क्षेत्रफल 2,710 वर्गमील से घटकर 2,367.9 वर्ग मील रह गया तथा जनसंख्या 5,60,292 से घटकर 5,026,964 रह गई। ई.1938 में अजमेर म्युन्सिपलिटी के लिये नई कमेटी बनायी गयी।

    मेवाड़ से निष्कासन के बाद माणिक्यलाल वर्मा ने अजमेर में प्रजा मण्डल की स्थापना की। 14 दिसम्बर 1938 को मेवाड़ प्रजा मण्डल के मथुरा प्रसाद वैद्य को अजमेर-मेरवाड़ा प्रांत के ब्रिटिश क्षेत्र से बंदी बनाया गया। ई.1939 में अजमेर-मेरवाड़ा में भयंकर दुर्भिक्ष पड़ा। इसी वर्ष मेवाड़ पुलिस द्वारा अजमेर-मेरवाड़ा प्रांत की सीमा में घुसकर माणिक्यलाल वर्मा को बंदी बनाया गया तथा उन्हें निर्ममता से पीटा गया। ई.1939 में क्रांतिकारी गोपालसिंह खरवा का निधन हो गया।

    लॉर्ड लिनलिथगो अजमेर में

    7 मार्च 1940 को भारत के वायसराय लॉर्ड लिनलिथगो अजमेर आये। इसी वर्ष अजमेर में नया रेवेन्यू सैटलमेंट आरंभ किया गया। जुलाई-अगस्त 1940 में अच्छी वर्षा होने से अकाल समाप्त हो गया। इसी वर्ष अजमेर में जयपुर रोड पर नया मेटेरनिटी होम बनाया गया। इसी वर्ष सस्ता साहित्य मण्डल अजमेर से दिल्ली ले जाया गया तथा माणिक्यलाल वर्मा के अजमेर कारावास में अस्वस्थ हो जाने के कारण उन्हें रिहा किया गया।

    ई.1940 की जनगणना

    ई.1940 में अजमेर जिले का क्षेत्रफल 2,070 वर्ग मील था तथा जनसंख्या 4,23,918 थी। यह 80 मील लम्बा तथा 50 मील चौड़ा था। अजमेर की जनसंख्या 1,19,524 हो गई। इस समय नसीराबाद की जनसंख्या 21,397 तथा केकड़ी की जनसंख्या 7,179 थी। पुष्कर की जनसंख्या 3781 थी। इसमें 518 गांव थे जिनमें से 140 गांव खालसा के तथा 51 गांव जागीरी क्षेत्र में तथा 327 गांव जागीरी क्षेत्र के अधीन थी। मेरवाड़ा जिले की जनसंख्या 82,947 हो गई। इस जिले में एक नगर ब्यावर स्थित था जिसकी जनसंख्या 28,342 थी तथा इसमें 214 गांव थे जो सभी, खालसा के अंतर्गत थे।

    अजमेर में पुनः डिप्टी कमिश्नर व्यवस्था

    ई.1943 में पुनः अजमेर-मेरवाड़ा के लिये अलग-अलग डिप्टी कमिश्नरों की नियुक्ति की गई।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • बारहमासी कविताएँ

     02.06.2020
    बारहमासी कविताएँ

    बारहमासी कविताएँ


    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    जनवरी


    रेशमी धूप के गद्दों पर बैठकर

    ठिठुरती बूढ़ी नानी,

    रात मचलते ही महक उठती

    शोख, मनचली रात की रानी।



    फरवरी

    इस तरह चली हवायें

    प्यार में झूमकर

    कि सेमल हो गया लाल

    मारे शर्म के।



    मार्च

    सुरमई शाम

    मचलने लगे आम

    आई होली!

    गोरी के अंग-अंग

    बावरी कोयल ने

    कच्ची अमिया घोली।



    अप्रेल

    अरे! जरा सा

    ठहर 
    रे  अप्रेल!!

    गरमी देने लगी

    मेरी छोटी सी खपरैल।



    मई

    उठने लगी

    लपटें धरती से

    अब खुलती है आंख नहीं,

    भीगा तौलिया सिर पर लिये

    कौन रूपसी झांक रही !



    जून

    धूप, धूप, धूप!

    अरे बाबा धूप।

    उड़ा फ्यूज दिमाग का

    बिगड़ा पंखे का रूप।



    जुलाई

    मिट्टी पर पड़ गईं सलवटें!

    दो बूंद पानी की

    आज पड़ें या कल पड़ें।



    अगस्त

    लड़कियों का हॉस्टल

    भरने लगा है फिर से

    ज्यों वीर बहूटियां घूमने

    निकल पड़ी हों घर से।



    सितम्बर

    सितम्बर!

    हरी धरती

    नीला अम्बर।



    अक्टूबर

    तन दीप,

    मन लौ।

    री दीपावली

    शीघ्र आ

    तेरे उजालों में

    बोने हैं मुझे

    आशा जौ।



    नवम्बर

    बांधकर धूप

    कागज की पुड़िया में

    फैंक दी झील में

    शाम की बुढ़िया ने।



    दिसम्बर

    सुनहरी लहरें

    घड़ी भर न ठहरें,

    कल नवम्बर

    आज दिसम्बर

    कौन सुने किसकी

    बीती घड़ियां

    बीतीं पहरें।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • राजस्थान की पर्यावरणीय संस्कृति-14

     02.06.2020
    राजस्थान की पर्यावरणीय संस्कृति-14

    राजस्थान में जल संसाधन (2)



    राजस्थान के पश्चिमी भाग में सामान्यतः खारे पानी की तथा पूर्वी भाग में मीठे पानी की झीलें हैं। खारे पानी की झीलों- सांभर, पचपदरा, फलौदी तथा लूणकरणसर से सोडियम क्लोराइड (नमक) तथा डीडवाना झील से सोडियम सल्फेट बनता है।

    मीठे पानी की झीलें

    आनासागर झील : यह झील अजमेर नगर में स्थित है। इसका निर्माण ई. 1137 में चौहान राजा अर्णोराज ने करवाया था जिसे आनाजी भी कहते थे। जिस स्थान पर यह झील बनी है, पहले युद्ध का मैदान था। उस मैदान में एक बार अर्णोराज ने शत्रु सैनिकों का बहुत बड़ी संख्या में वध किया। जब उनके शव सड़ने लगे तो उन्हें हटाने के लिये नाग पहाड़ों से निकलने वाली नदी को मोड़ कर इस स्थान तक लाया गया जिससे सारे शव बहकर दूर चले गये। बाद में अर्णोराज ने इस स्थान की खुदाई करवाकर वहाँ की मिट्टी भी हटवा दी और पक्के घाट बनाकर झील का निर्माण करवा दिया। इस झील के कारण अजमेर नगर का विकास बहुत तेजी से हुआ। जहाँगीर ने इस झील के निकट दौलतबाग का निर्माण करवाया जिसे अब सुभाष उद्यान कहते हैं। शाहजहाँ ने आनासागर झील के तट पर संगमरमर की बारादरी बनवाई।

    पुष्कर झील : यह राजस्थान की अत्यंत प्राचीन झीलों में से है। लोकाख्यानों के अनुसार इस झील की उत्त्पत्ति ब्रह्माजी के हाथ से गिरे कमल से हुई। यह अजमेर से 11 कि.मी. दूर उत्तर-पश्चिम में स्थित है। इसमें वर्ष पर्यंत जल रहता है। यह तीन तरफ से पहाड़ों से घिरी हुई है। इसके चारों ओर अनेक मंदिर और घाट बने हुए हैं। इस झील में स्नान करना अत्यंत महत्व रखता है। हिंदुओं में मान्यता है कि पुष्कर तीर्थराज प्रयाग का गुरु है। लोक संस्कृति में इसे तीर्थों का मामा कहते हैं।

    पिछोला झील : यह झील उदयपुर नगर के पश्चिम में पिछोला गाँव के निकट स्थित होने से पिछोला झील कहलाती है। मीठे पानी की इस झील का निर्माण 14वीं शताब्दी के अंत में महाराणा लाखा के समय एक बणजारे ने करवाया था। महाराणा उदयसिंह ने इस झील का जीर्णोद्धार करवाया। यह झील 7 कि.मी. लम्बी और 2 कि.मी. चौड़ी है। इस झील में तीन भाग हैं जिन्हें पिछोला, स्वरूपसागर और फतेहसागर कहते हैं। इस झील में स्थित टापुओं पर जगमंदिर एवं जगनिवास महल हैं। जगमंदिर महल में अब पाँच सितारा होटल बन गया है जिसे लेक पैलेस होटल कहते हैं।

    फतेहसागर झील : यह झील पिछोला झील के उत्तर में है तथा पिछोला झील से एक नहर द्वारा जुड़ी हुई है। इसकी लम्बाई 2.5 कि.मी. तथा चौड़ाई 1.16 कि.मी. है। इस झील का निर्माण 1678 ई. में महाराणा फतहसिंह ने करवाया था।

    जयसमंद झील : यह झील राजस्थान में मीठे पानी की सबसे बड़ी झील है। यह उदयपुर से 45 कि.मी. दूर सलूम्बर के निकट गोमती नदी के बांध से बनी है। इसका निर्माण महाराणा जयसिंह ने करवाया था। झील का क्षेत्रफल 55 वर्ग कि.मी. व परिधि 145 कि.मी. है। इसके बीच में कई टापू स्थित हैं। झील से दो नहरें- श्यामपुर तथा भटा निकाली गयी हैं जिनकी सामूहिक लम्बाई 324 कि.मी. है तथा इनसे 10 हजार हैक्टेयर भूमि पर सिंचाई होती है।

    राजसमंद झील : यह झील उदयपुर से 64 कि.मी. दूर है तथा राजसमंद जिला मुख्यालय एवं कांकरोली से सटी हुई है। इसका निर्माण ई. 1662 में महाराणा राजसिंह ने अकाल राहत कार्य के रूप में करवाया था। इस झील में गोमती नदी आकर गिरती है। इस झील का विस्तार 20 वर्ग कि.मी. है। झील का उत्तरी भाग नौ चौकी कहलाता है। आजकल इस झील में बनास नदी से भी जल लाया जाता है। इस झील का जल सिंचाई के काम में लिया जाता है।

    सिलीसेढ़ झील : यह झील अलवर नगर से 12 कि.मी. दूर पश्चिम में स्थित है। अलवर नरेश विनयसिंह ने समीपवर्ती पर्वतों से बहकर आने वाले जल को एकत्र करके इस झील का निर्माण करवाया। यह 10 वर्ग कि.मी. क्षेत्र में फैली हुई है। इस झील का अतिरिक्त जल जयसमंद झील में डालते हैं।

    नक्की झील : यह झील सिरोही जिले में माउण्ट आबू पर्वत पर स्थित है। यह राजस्थान की सबसे गहरी झील है। इसका क्षेत्रीय विस्तार 10 वर्ग कि.मी. क्षेत्र में है। यह एक प्राकृतिक झील है। इसके बारे में मान्यता है कि इसे नाखूनों से खोदा गया था। यह झील राजस्थान में सबसे ऊंचे स्थान पर स्थित है।

    तालछापर : चूरू जिला मुख्यालय से 90 कि.मी. दूर तालछापर खारे पानी की झील स्थित है जिससे नमक बनाया जाता है। इस झील के पास 722 हैक्टेयर क्षेत्र में कृष्णमृग अभयारण्य स्थित है। यह अभयारण्य 2000 हैक्टेयर में फैला हुआ है।

    कोलायत झील : यह बीकानेर से 48 कि.मी. पश्चिम में स्थित है। यहाँ पर सांख्य दर्शन के प्रणेता भगवान कपिल का आश्रम स्थित है। इस झील में वर्षपर्यंत जल रहता है। कार्तिक पूर्णिमा को यहाँ मेला लगता है।

    खारे पानी की झीलें

    जब टेथिस महासागर विभिन्न नदियों द्वारा लाई गई मिट्टी से पट गया तब उसके बीच-बीच में खारे पानी की छोटी-छोटी झीलें रह गईं। टेथिस सागर में जमा लवण ही इन झीलों में नमक का प्रमुख स्रोत है। अंग्रेजी विद्वान नोटिलिंग के अनुसार सांभर झील के नीचे लवणीय जल के स्रोत प्रवाहित होते हैं जिनसे नमक प्राप्त होता है।

    सांभर झील : यह भारत में, खारे पानी की सबसे बड़ी झील है। इस प्राकृतिक झील का अधिकांश भाग जयपुर जिले में तथा कुछ भाग नागौर जिले में आता है। यह झील उत्तर से दक्षिण में 32 कि.मी. तथा पूर्व से पश्चिम में 3 से 12 कि.मी. तक विस्तृत है। इसका अधिकतम विस्तार 145 वर्ग कि.मी. तक होता है। इसकी गहराई चार मीटर है। इस झील से खाने का नमक तथा सोडियम सल्फेट बनता है। इस झील में 35 करोड़ टन नमक का भण्डार है। सम्पूर्ण देश के 8 प्रतिशत नमक का उत्पादन इस झील से होता है। वर्षा काल में मेढ़ा, रूपनगढ़, खारी और खण्डेला नामक बरसाती नदियों से इस झील में पानी आता है। इस झील के पूर्वी किनारे पर सांभर तथा उत्तरी किनारे पर नावां कस्बे बसे हुए हैं। इस झील से प्रस्तर युगीन सभ्यता के उपकरण प्राप्त हुए हैं। नलियासर की सभ्यता भी इस झील के निकट स्थित थी।

    पचपदरा झील : खारे पानी की यह झील बाड़मेर जिले में बालोतरा के पास स्थित है। इसका अधिकतम विस्तार 25 वर्ग कि.मी. है। इसमें वर्षा के पानी के साथ-साथ भूमिगत स्रोतों से भी पानी आता है जिससे नमक बनाया जाता है। इस झील में 1040 वर्ग कि.मी. क्षेत्र से पानी बहकर आता है। इस झील से प्राप्त नमक में 98 प्रतिशत सोडियम क्लोराइड होता है। यहाँ खारवाल जाति के लोग 'मोरली झाड़ी' के द्वारा नमक बनाते हैं। पचपदरा का नमक समुद्री नमक से काफी साम्य रखता है।

    डीडवाना झील : नागौर जिले में स्थित इस झील के उत्तर-पूर्वी सिरे पर डीडवाना कस्बा स्थित है। इस झील का अधिकतम विस्तार 10 वर्ग कि.मी. है। यह खारे पानी की झील है। इसके खारे पानी से किसी समय सोडियम सल्फेट बनाया जाता था किंतु अब उत्पादन बंद कर दिया गया है। इस झील से नमक बनाने वाली संस्थाओं को देवल कहते हैं। इस झील के पेटे में काली कीचड़ है जिसके नीचे खारे पानी के भण्डार हैं। यहाँ का नमक प्रायः खाने के अयोग्य होता है। इस झील के किनारे से सांभर झील की भांति अत्यंत प्राचीन पुरातात्विक सामग्री प्राप्त हुई है।

    लूणकरणसर : खारे पानी की यह झील बीकानेर से उत्तर पूर्व में 80 कि.मी. दूर है। इससे बहुत कम मात्रा में नमक बनाया जाता है। पोकरण, कुचामण, कावोद (जैसलमेर जिला), कछोर, रेवासा (सीकर जिला) फलौदी और सुजानगढ़ की झीलों से भी नमक तैयार किया जाता है। पोकरण का नमक सबसे उत्तम श्रेणी का नमक है। पचपदरा एवं डीडवाना में आयोडाइज्ड नमक कारखाने स्थापित किये गये हैं।


    राज्य में झीलों की जिलेवार स्थिति

    1. अजमेर : आनासागर, फॉय सागर, पुष्कर।

    2. अलवर : सिलीसेढ़, मानसरोवर, जयसागर, विजयसागर, मंगलसागर।

    3. उदयपुर : फतहसागर, पिछोला, जयसमंद, उदयसागर, स्वरूप सागर।

    4. करौली : नाग तलाई, जुग्गर, ममचेड़ी, नींदर, कालीसिल, खिरखिरी।

    5. कोटा : जवाहर सागर।

    6. चित्तौड़गढ़ : राणाप्रताप सागर, भूपाल सागर।

    7. चूरू : तालछापर।

    8. जयपुर : सांभर, छापरवाड़ा, देवयानी, जमवारामगढ़।

    9. जालोर : बांकली बांध, चीतलवाणा बांध, बीठन बांध।

    10. जैसलमेर : गढ़सीसर, अमरसागर, बुझ झील, ब्रह्मसर।

    11. जोधपुर : बालसमंद, तखतसागर, उम्मेदसागर, कायलाना, प्रतापसागर।

    12. झालावाड़ : मानसरोवर।

    13. झुंझुनूं : अजीतसागर बांध।

    14. टोंक : टोरडीसागर, बीसलपुर बांध।

    15. डूंगरपुर : गैबसागर, सोम कमला।

    16. दौसा : कालख सागर।

    17. धौलपुर : रामसागर (वन विहार), तालाबशाही।

    18. नागौर : डीडवाना, भाकरी मोलास,, भैंरुदा।

    19. पाली : सरदार समंद।

    20. बाड़मेर : पचपद्रा।

    21. बारां : उम्मेदसागर, अकलेरा सागर, सीताबाड़ी।

    22. बांसवाड़ा : कडाणा बांध, बजाज सागर बांध।

    23. बीकानेर : लूणकरणसर, कोलायत, अनूपसागर, गजनेर।

    24. बूंदी : नवलख सागर, जेतसागर, सूरसागर।

    25. भरतपुर : मोती झील, केवलादेव झील, मादल झील तथा झील का बाड़ा।

    26. भीलवाड़ा : मांडलताल, मेजाबांध, खारीबांध, अखड़बांध, सरेदीबांध, जैतपुरा।

    27. राजसमंद : राजसमंद झील।

    28. सवाईमाधोपुर : पाँचना बांध, मोरेल बांध।

    29. सिरोही : नक्की झील।

    30. सीकर : रायपुर बांध।

    31. श्रीगंगानगर : शिवपुर हैड।

    32. हनुमानगढ़ : तलवाड़ा झील।


    राज्य की प्रमुख नहरें

    गंग नहर : यह राज्य में सबसे पहले बनने वाली नहर है। बीकानेर नरेश गंगासिंह ने सतलज नदी का जल बीकानेर रियासत में लाने के लिये अंग्रेज सरकार से अनुमति लेकर गंग नहर परियोजना बनायी थी। यह परियोजना 1920 में स्वीकृत हुई तथा 26 अक्टूबर 1927 को 129 कि.मी. लम्बी गंग नहर बन कर तैयार हो गयी। चूने से बनी इस नहर ने बीकानेर रियासत की तस्वीर बदल दी। स्वतंत्रता प्राप्ति के समय सिंधु नदी प्रणाली का विभाजन हुआ जिसके कारण गंग नहर से सिंचित 105 लाख हैक्टेयर भूमि में से 84 लाख हैक्टेयर भूमि पाकिस्तान में चली गयी। नहर का कुछ हिस्सा पंजाब में तथा शेष हिस्सा श्रीगंगानगर एवं हनुमानगढ़ जिलों में बहता है।

    भरतपुर नहर : राज्य में आरंभ होने वाली दूसरी प्रमुख नहर भरतपुर नहर थी। यह 1964 से काम कर रही है। इसकी लम्बाई 28 कि.मी. है। इससे भरतपुर जिले में 11 हजार हैक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती है।

    इंदिरा गांधी नहर : यह एशिया की सबसे बड़ी मानव निर्मित परियोजना है जिसे मरुगंगा और मरुस्थल की जीवन रेखा भी कहा जाता है। जब भारत पाक विभाजन के कारण गंग नहर द्वारा सिंचित काफी क्षेत्रफल पाकिस्तान में चला गया तो बीकानेर नरेश सादूलसिंह ने रियासत के मुख्य अभियंता कंवरसेन से एक नयी नहर की परियोजना बनवायी। इसे 1948 में भारत सरकार के पास स्वीकृति के लिये भेजा गया। 31 मार्च 1958 को तत्कालीन केन्द्रीय गृह मंत्री गोविंद वल्लभ पंत ने इस परियोजना की आधारशिला रखी। 1958 से यह नहर बननी आरंभ हो गयी। इसका मूल नाम राजस्थान नहर था किंतु 1984 में श्रीमती इंदिरा गांधी की मृत्यु के बाद इसे इंदिरा गांधी नहर कर दिया गया। इस परियोजना का निर्माण गंगानगर, हनुमागढ़, चूरू, बीकानेर, जैसलमेर, जोधपुर तथा बाड़मेर जिलों में 18.72 लाख हैक्टेयर कृषि योग्य क्षेत्र में सिंचाई के लिये पानी उपलब्ध करवाने हेतु किया गया है।

    इस नहर का उद्गम पंजाब में फिरोजपुर के निकट सतलज-व्यास नदियों के संगम पर स्थित हरिके बैराज से हुआ। मुख्य नहर की लम्बाई 649 कि.मी. है। नहर के 204 कि.मी. के प्रारंभिक भाग को फीडर नहर कहते हैं। इसमें से प्रथम 169 कि.मी. भाग पंजाब में, 14 कि.मी. भाग हरियाणा में तथा शेष 21 कि.मी. भाग राजस्थान में है। इस परियोजना का प्रारंभ बिंदु हरिके बैराज (पंजाब) है।

    इस परियोजना का उपनाम मरुगंगा भी रखा गया है। पूरी परियोजना का अंतिम बिंदु गडरारोड (बाड़मेर जिला) है। निकास स्थल पर मुख्य नहर के तल की चौड़ाई 40 मीटर है। इसमें बहने वाले पानी की गहराई 6.4 मीटर तथा इसकी जल प्रवाह क्षमता 523 घन मीटर प्रति सैकेण्ड (18.500 क्यूसेक) है। राजस्थान में मुख्य नहर का प्रारंभ बिंदु मसीतांवाली (जिला हनुमानगढ़) तथा समापन बिंदु गडरारोड है। नहर के प्रथम चरण में 204 कि.मी. लम्बी फीडर नहर, 189 कि.मी. लम्बी मुख्य नहर तथा 3,454 कि.मी. लम्बी शाखाओं एवं वितरिकाओं का निर्माण किया गया। नहर के प्रथम चरण से 5.87 लाख हैक्टेयर भूमि पर सिंचाई सुविधा प्राप्त हुई। नहर के द्वितीय चरण में 256 कि.मी. लम्बी मुख्य नहर एवं 5,780 कि.मी. लम्बी वितरिकाओं का कार्य सम्मिलित है। इस चरण में 13.17 लाख हैक्टेयर सिंचित क्षेत्र सृजित हुआ है।

    इस परियोजना से बीकानेर, चूरू, जैसलमेर और जोधपुर नगरों सहित इन जिलों के 1,107 गाँवों में 65.88 लाख लोगों को पेयजल उपलब्ध करवाया जा रहा है। इस परियोजना के कारण रेगिस्तान का प्रसार रुका है तथा मानव अधिवास बढ़ा है। बीकानेर जिले के पूगल, बरसलपुर, चारणवाला, गंगानगर जिले के अनूपगढ़, सूरतगढ़ एवं मांगरोल में लघु शक्ति के विद्युत उत्पादन गृह स्थापित हुए हैं।

    गंगनहर लिंक चैनल : गंगनहर लिंक चैनल 1984 में आरंभ हुई। इसकी लम्बाई 80 कि.मी. है। इससे भी श्रीगंगानगर एवं हनुमानगढ़ जिलों में सिंचाई होती है।

    गुड़गावां नहर : गुड़गावां नहर 1985 में आरंभ हुई। इसकी लम्बाई 58 कि.मी. है। इस नहर में यमुना नदी से जल आता है तथा भरतपुर जिले की डीग व कामां तहसीलों में 28 हजार 200 हैक्टेयर क्षेत्र पर सिंचाई होती है।

    भाखड़ा नहर : भाखड़ा नहर सतलज नदी से निकलती है। इससे राजस्थान, पंजाब एवं हरियाणा राज्य जुड़े हुए हैं। भाखड़ा नहर से राज्य के 5.82 लाख हैक्टेयर भूमि में सिंचाई होती है।

    चम्बल परियोजना : यह परियोजना चम्बल नदी पर बनी हुई है। इससे राजस्थान एवं मध्य प्रदेश को जल प्राप्त होता है। इस परियोजना में राज्य का अंश 50 प्रतिशत है। चम्बल नदी पर गांधी सागर, राणा प्रताप सागर तथा जवाहर सागर बांध बने हैं जिनका प्रदेश के विकास में प्रमुख योगदान है। इनमें से गांधी सागर मध्यप्रदेश में है। इन बांधों से नहरें निकाल कर चम्बल का पानी सिंचाई एवं पेयजल के लिये दूरस्थ गांवों को उपलब्ध कराया जा रहा है।

    नर्मदा नहर : भारत को उत्तर एवं दक्षिण भारत में विभक्त करने के लिये विभाजक रेखा के रूप में काम करने वाली नर्मदा नदी से नर्मदा नहर निकाल कर उसका जल राजस्थान के बाड़मेर एवं जालोर जिलों में पहुंचाया गया है। राजस्थान में मुख्य नहर का कुल प्रवाह 74 कि.मी. है। इस परियोजना में खेती के लिये सिंचाई हेतु स्प्रिंकलर पद्धति को अनिवार्य रूप से लागू किया गया है।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • अजमेर का इतिहास - 78

     02.06.2020
    अजमेर का इतिहास - 78

    अजमेर में क्रांतिकारी गतिविधियाँ


    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    राजस्थान के केन्द्र में स्थित होने के कारण, अजमेर चारों ओर से राजपूत रियासतों से घिरा हुआ था। अतः राजनीतिक एवं सामरिक दृष्टि से अजमेर का अत्यंत महत्त्व रहा। दिल्ली सल्तनत के बादशाहों ने अजमेर को अपने अधीन बनाये रखने के लिये हिन्दू नरेशों से सतत युद्ध किया। मुगल बादशाहों ने राजपूत नरेशों के विरुद्ध किये गये अभियानों के लिये अजमेर को अपना मुख्यालय बनाया। सिसोदियों, कच्छवाहों एवं राठौड़ों ने अजमेर पर अधिकार करने और बनाये रखने के लिये सैंकड़ों साल तक परस्पर संघर्ष किया। कितने ही राजाओं की हत्या हुई। मराठों ने इस पर अधिकार करके इसे उत्तर भारत में अपनी बड़ी राजधानी बनाया।

    अंग्रेजों ने अजमेर में अपना पोलिटिकल मुख्यालय स्थापित किया और अजमेर से 11 मील दूर नसीराबाद में अपनी छावनी स्थापित की। यदि ब्रिटिश शासन काल में अजमेर को राजस्थान में राजनैतिक चेतना का पथ प्रदर्शक कहें तो अतिश्योक्ति नहीं होगी। राजपूताने की रियासती जनता राजनैतिक चेतना के अभाव से ग्रस्त होने के कारण अपने विलासी व चरित्रहीन राजाओं को भी श्रद्धा एवं निष्ठा से देखती थी। उनके राजा अंग्रेजों के अधीन थे अतः रियासती जनता, दासों की दास थी। अंग्रेजों के प्रत्यक्ष अधीन होने से अजमेर की जनता रियासती जनता की अपेक्षा अधिक अच्छी स्थिति में थी और उसमें राजनैतिक चेतना का प्रादुर्भाव भी रियासती जनता की अपेक्षा पहले हुआ।

    राजनैतिक चेतना का आरम्भ

    अजमेर में राजनैतिक चेतना आरम्भ करने का श्रेय आर्यसमाज को है। स्वामी दयानंद सरस्वती प्रथम क्रांतिकारी सन्यासी थे जिन्होंने घोषित किया कि भारत भारतियों का है तथा हिन्दी भारत की राष्ट्रभाषा है। उन्होंने ही विदेशी शासन के विरुद्ध क्रांति की प्रथम चिन्गारी प्रज्ज्वलित की। अजमेर के शीर्षस्थ राजनैतिक कार्यकताओं के निर्माण का श्रेय आर्यसमाज को ही है। अधिकांश राजनैतिक कार्यकर्ताओं व क्रांतिकारियों की शिक्षा दीक्षा आर्यसमाज की संस्थाओं में हुई। केसरीसिंह बारहठ के पुत्र प्रतापसिंह बारहठ ने मैट्रिक तक शिक्षा अजमेर के डीएवी हाईस्कूल में प्राप्त की थी।

    डोगरा गोली काण्ड से सम्बन्धित रामसिंह का पालनपोषण अजमेर के आर्यसमाज के बाल सदन में हुआ था। खरवा के क्रांतिकारी राव गोपालसिंह आर्यसमाज के रंग में रंगे थे। देशभक्त राम नारायण चौधरी, आर्यसमाज की ही उपज थे। स्वामी दयानंद सरस्वती के व्यक्तित्व ने जहाँ राजनैतिक व क्रांतिकारी देशभक्तों को प्रेरणा दी वहीं उन्होंने उदयपुर, जोधपुर, शाहपुरा व मसूदा के राज परिवारों को भी सन्मार्ग दिखाया था। यही कारण था कि अजमेर देशभक्ति से प्रेरित गतिविधियों का पथ प्रदर्शक व प्रेरक केन्द्र बनने में सफल रहा।

    क्रांतिकारी गतिविधियाँ

    अजमेर की प्राकृतिक एवं भौगोलिक विशेषतायें क्रांतिकारी आंदोलन के उत्थान, शरण स्थली एवं प्रशिक्षण केन्द्र चलाने जैसी गतिविधियों के लिये वरदान सिद्ध हुई। अजमेर के चारों ओर की पहाड़ियों में गहन वन स्थित होने से विप्लववादी इनमें आकर छिप जाते थे और लम्बे समय तक अपनी गतिविधियाँ चलाते रहते थे। वर्धा के एक क्रांतिकारी जी. आर. पाण्डे ने इन्हीं वनों में एक व्यायामशाला की स्थापना कर अपनी विप्लववादी गतिविधियों का संचालन किया। इस स्थान पर अब साधु आश्रम चलता है।

    वर्तमान गौतम स्कूल के स्थान पर भी पहले व्यायामशाला थी जहाँ से रुद्रदत्त जगदीश व्यास तथा लक्ष्मीनारायण पहलवान ने अपनी क्रांतिकारी गतिविधियों का संचालन किया था। अंतेड़ के पर्वतीय क्षेत्र में गोपालसिंह व उनके सहयोगियों द्वारा गौशाला के रूप में एक विप्लवकारी केन्द्र की स्थापना की गई। अजमेर पर्वतीय प्रकोष्ठ ने बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब तथा उत्तर प्रदेश के क्रांतिकारियों की ब्रिटिश सरकार के गुप्तचरों के जाल से रक्षा की।

    ई.1912 के हार्डिंग्ज बम केस से सम्बन्धित क्रांतिकारियों को अजमेर के देशभक्तों ने शरण प्रदान की। भगवती चरण, चन्द्रशेखर आजाद तथा वासुदेव ने समय-समय पर अजमेर में शरण ली। हिन्दुस्तान सोशलिस्ट रिवोल्यूशनरी आर्मी की अजमेर शाखा ने सरदार भगतसिंह को यहाँ शरण दी। बंगाल के स्वामी कुमारानंद ने अजमेर को अपना आधार स्थल बनाया। इस प्रकार अजमेर, भारत प्रसिद्ध क्रांतिकारियों की शरण स्थली बन गया। क्रांतिकारियों के लिये जिन शस्त्रों की आवश्यकता थी, अजमेर उनकी पूर्ति में सहायक सिद्ध हुआ क्योंकि रियासतों, जागीरों व ठिकानों से क्रांतिकारियों को सस्ते दामों में रिवॉल्वर, बन्दूक, पिस्तौल व कारतूस मिल जाते थे।

    इसका कारण यह था कि जागीरदारों में ब्रिटिश सरकार के प्रति आक्रोश था और वह अंग्रेजों को समाप्त करना चाहते थे। रियासतों में शस्त्र रखने की पाबंदी नहीं थी। बिटिश नौकरशाही व पुलिस के चंगुल से बचने के लिये क्रांतिकारी अजमेर से भागकर रियासतों में चले जाते थे क्योंकि दोनों से से अजमेर तथा रियासतों की सीमाओं में केवल 5 से 15 मील का ही अंतर था जिसे पार कर रियासतों में प्रवेश करना कठिन नहीं था।

    किसी अपराधी को रियासतों से पकड़ने के लिये ब्रिटिश सरकार को रियासती सरकार से अनुमति लेनी पड़ती थी, जब तक अनुमति प्राप्त होती, तब तक क्रांतिकारी भागकर दूसरी रियासत में जा चुके होते थे। इस प्रकार ब्रिटिश सरकार क्रांतिकारियों को पकड़ने में असफल रहती थी। रियासतों के पुलिस अधिकारी भी क्रांतिकारियों के प्रति सहानुभूति रखते थे। इसलिये क्रांतिकारियों ने अजमेर को अपना रक्षा कवच माना।

    अजमेर क्रांतिकारियों का मुख्य शिविर था। यहीं से क्रांतिकारी योजनाओं का निर्माण, निर्देशन तथा अधीक्षण किया जाता था। अजमेर राजस्थान के केन्द्र में स्थित होने के कारण यहीं से क्रांतिकारियों को प्रशिक्षित करके राजस्थान व देश के विभिन्न भागों में भेजा जाता था। अजमेर में इनके प्रमुख केन्द्र मदार गेट का हिन्दू होटल, हनुमानजी के पीछे वाली गली एवं पुष्कर में अगस्त्य मुनि की गुफा तथा लीला सेवड़ी थे।

    बंगाल तथा अन्य क्रांतिकारी स्थलों से प्रकाशित क्रांतिकारी साहित्य का प्रभाव अजमेर के क्रांतिकारियों पर पड़ा। इनमें 'युगांतर' एवं 'संध्या' समाचार पत्र सर्वप्रमुख थे। भवानी मंदिर, वर्तमान राजनीति व मुक्ति कॉनपाथे नामक पुस्तकों का भी यहाँ के क्रांतिकारियों पर प्रभाव पड़ा। इस साहित्य में क्रांतिकारियों को अंग्रेजों की हत्या करना तथा ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह करना न्यायोचित बताया गया।

    अंग्रेजों की हत्या करने के लिये केवल मन का निश्चय व निशाने का पक्का होना आवश्यक माना जाता था। राजनैतिक डकैतियों को समाज एवं राष्ट्र के कल्याण के लिये पुण्य कार्य बताया गया। इन पुस्तकों मंद अस्त्र-शस्त्र निर्माण की तकनीक की विवेचना की जाती थी। गीता, स्वामी रामतीर्थ के व्याख्यान, सावरकर का वार ऑफ इण्डिपेण्डेंस, अरविंद का कर्मयोगी, डिग्बे की प्रोस्परस इण्डिया और बंकिमचंद्र का आनंद मठ आदि साहित्य अजमेर के क्रांतिकारियों में लोकप्रिय था।

    इन रचनाओं ने क्रांतिकारियों में अध्यात्म, स्वाभिमान एवं राष्ट्रीयता का विकास किया तथा अंग्रेजी राज्य के अन्यायों को उखाड़ फैंकने हेतु प्रेरित किया। माधव शुक्ल की कविताओं ने क्रांतिकारियों में देशभक्ति व क्रांति की भावना को जागृत किया। अर्जुनलाल सेठी एवं प्रतापसिंह बारहठ इसकी प्रेरणा के प्रमाण थे। अजमेर के क्रांतिकारियों पर बंगाल, महाराष्ट्र, पंजाब तथा उत्तर प्रदेश के क्रांतिकारियों का गहरा प्रभाव पड़ा।

    इन क्रांतिकारियों में श्यामजी कृष्ण वर्मा, रासबिहारी बोस, शचीन्द्र सान्याल, अरविन्द घोष, चन्द्रशेखर आजाद, भगतसिंह व स्वामी कुमारानंद व विजयसिंह पथिक, जी आर. पाण्डे, रामचन्द्र बापट आदि मुख्य थे जिनका प्रभाव एवं सम्पर्क अजमेर के उल्लेखनीय क्रांतिकारियों से रहा। अजमेर के क्रांतिकारियों ने उपरोक्त क्रांतिकारियों से प्रेरणा प्राप्त की। अर्जुनलाल सेठी, केसरीसिंह बारहठ, राव गोपालसिंह, प्रतापसिंह बारहठ, नारायणसिंह बारहठ, बाबा नृसिंहदास, स्वामी नृसिंह देव, नारायणसिंह, पण्डित रुद्रदत्त, सूरजसिंह, रामप्रसाद, बालमुकुंद, रामकरण, वासुदेव, रामजीलाल बंधु कन्हैयालाल आजाद, जगदीश दत्त व्यास, लक्ष्मीनारायण पहलवान, सोमदत्त लाहिड़ी, लक्ष्मीलाल लाहिड़ी, विष्णुदत्त, मणिलाल दामोदर, पण्डित ज्वाला प्रसाद, रामसिंह व भूपसिंह आदि क्रांतिकारी इस दृष्टि से महत्त्वपूर्ण हैं।

    क्रांतिकारी दल का लक्ष्य भारत के लिये पूर्ण स्वाधीनता प्राप्त करना था। वे स्वाधीनता प्राप्ति हेतु हिंसात्मक कार्यों को उचित मानते थे। वे कार्य करने की गुप्तता में विश्वास करते थे। उनका उद्देश्य भारत में विदेशी शासकों की हत्या करना एवं उन्हें स्वदेश लौट जाने को बाध्य करना था जिससे ब्रिटिश शासन का अंत हो सके। वे हिंसा को शक्ति के रूप में पूजते थे।

    उनका मेकियावली की विचारधारा में पूर्ण विश्वास था। अतः वे लक्ष्य की प्राप्ति हेतु अनुचित साधनों का प्रयोग करना भी अनैतिक नहीं मानते थे। उनके साधनों में गोली, पिस्तौल, रिवॉल्वर, बंदूक एवं बम के प्रयोग को मुख्य स्थान प्राप्त था। ई.1907 से 1911 तक के चार वर्ष क्रांतिकारी संगठनों की स्थापना के काल रहे। इस काल में अनेक संगठनों की स्थापना हुई। अर्जुनलाल सेठी, केसरीसिंह बारहठ तथा विजयसिंह पथिक द्वारा वीर भारत सभा नामक गुप्त संगठन की स्थापना की गई। इसके अनन्तर अनेक गुप्त समितियों का निर्माण हुआ।

    इन गुप्त समितियों में से एक के संगठक राव गोपालसिंह थे जिन्हें फील्ड मार्शल कहा जाता था। विजयसिंह पथिक इनके दाहिने हाथ थे। ब्यावर निवासी दामोदर दास राठी इस समिति के कोषाध्यक्ष थे। इस गुप्त समिति ने बंगाल तथा उत्तर प्रदेश के क्रांतिकारियों से सम्बन्ध बनाये रखा। उन्नीसवीं शताब्दी के प्रथम चतुर्थांश के अनन्तर अजमेर में हिन्दुस्तान सोशियलिस्ट रिवोल्यूशनरी आर्मी नामक संगठन की शाखा स्थापित की गई जिसका सम्बन्ध उपरोक्त क्रांतिकारियों से था। रासबिहारी बोस तथा शचीन्द्र सान्याल द्वारा पंजाब एवं अजमेर की शाखाओं में डोंगरा काण्ड के सिलसिले में तालमेल स्थापित किया गया।

    अजमेर के क्रांतिकारी शिक्षण संस्थाओं की ओट में क्रांति का प्रचार करते थे। उन्होंने छात्रावासों एवं विद्यालयों को अपनी कार्यविधि का केन्द्र बनाया। इन संस्थाओं में क्रांति के प्रचार के लिये गुप्त प्रचार पद्धति की शिक्षा दी जाती थी। उन्हें इश्तिहार छापना व चिपकाना तथा वितरित करने की शिक्षा दी जाती थी। जनता में उत्तेजना प्रसार करने की विधि, शस्त्र संग्रह तथा उन्हें एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुँचाने के तरीकों की शिक्षा दी जाती थी। ये शिक्षणालय शस्त्र छिपाने के केन्द्र थे।

    क्रांतिकारी विष्णु दत्त उत्तर प्रदेश से कई युवकों को अपने साथ लेकर अजमेर आये। इनके निर्देशन में अजमेर में अनेक गुप्त समितियों का निर्माण हुआ। इन समितियों ने नसीराबाद स्थित रायफल्स के सैनिक अधिकारियों को ब्रिटिश शासन के विरुद्ध विद्रोह करने के लिये भड़काया। इन क्रांतिकारियों का जोधपुर महंत हत्या काण्ड, कोटा षड़यन्त्र तथा निमाज हत्याकाण्ड से प्रत्यक्ष सम्बन्ध था। गिब्सन वडोगरा काण्डों में ज्वाला प्रसाद तथा रामसिंह की महत्त्वपूर्ण भूमिका रही। अजमेर के क्रांतिकारियों का सम्बन्ध स्थानीय विद्रोहों, षड़यंत्रों एवं हत्याकाण्डों से ही नहीं था अपितु अखिल भारतीय क्रांतिकारी षड़यंत्रों एवं विद्रोहों से भी था।

    ई.1912 में हार्डिंग्ज बम षड़यन्त्र, बनारस षड़यन्त्र आदि में राव गोपालसिंह तथा प्रतापसिंह एवं उनके भाई को कारावास हुआ था। गोपालदास खरवा ने दामोदर दास राठी के साथ मिलकर, 21 फरवरी 1915 को सशस्त्र क्रांति की योजना बनायी किन्तु पकड़ लिये गये। 28 जून 1915 को गोपालसिंह खरवा को अंग्रेज सरकार द्वारा टॉडगढ़ में नजरबंद किया गया। 10 जुलाई 1915 को खरवा नजरबंदी से बाहर आकर फरार हो गये। बाद में उन्होंने स्वयं ही आत्मसमर्पण कर दिया। उन पर कोई आरोप सिद्ध नहीं हो सका। ई.1920 में गोपालसिंह खरवा जेल से रिहा हुए।

    हैल्पोज की कार बम विस्फोट से उड़ाई

    ई.1930 में चंद्रशेखर आजाद अजमेर आये। उन्होंने अजमेर के कमिश्नर हैल्पोज को उड़ाने की योजना बनाई। वे साधु के वेश में बारादरी के पास रहने लगे और लोगों के हाथ देखकर उन्हें भविष्य बताने लगे। एक दिन उन्होंने बारादरी से सर्किट हाउस के बीच बारूदी सुरंगें बिछा दीं तथा जैसे ही हैल्पोज की कार सर्किट हाउस जाने के लिये उन तारों पर पहुँची, आजाद ने विस्फोट कर दिया। कार का पिछला हिस्सा विस्फोट से उड़ गया। संयोग से उस दिन हैल्पोज आगे वाली सीट पर ड्राइवर के पास बैठा था। इसलिये वह सुरक्षित बच गया।

    स्वतंत्रता सेनानी ज्वाला प्रसाद एवं विद्याराम कोटिया उन्हें लाल रंग की कार में बैठाकर कैसरगंज स्थित आर्यसमाज भवन के पिछवाड़े में बने एक तहखाने में ले गये। रात में आजाद को चांद बावड़ी स्थित अनाथालय में ले गये जहाँ वे स्वतंत्रता सेनानी पन्नालाल माहेश्वरी की कोठरी में ठहरे। तीन दिन तक वे उसी कोठरी में रहे और चौथे दिन पन्नालाल के स्वर्गीय भाई के कपड़े पहन कर अजमेर से बाहर निकल गये।

    क्रांतिकारियों को सजा

    ई.1932 में अजमेर-मेरवाड़ा कारावास महानिरीक्षक गिब्सन की हत्या के अभियोग में नरहरि बापट को 10 वर्ष का कारावास हुआ। ई.1932 में ज्वालाप्रसाद शर्मा ने चीफ कमिश्नर की हत्या करने, राजकीय महाविद्यालय का कोष लूटने तथा वायसरॉय की हत्या करने के प्रयास किये। ई.1935 में पुलिस उप अधीक्षक डोगरा की हत्या के अभियोग में ज्वाला प्रसाद शर्मा, रामसिंह एवं रमेशचंद्र को बंदी बनाया गया। ई.1939 में क्रांतिकारी गोपालसिंह खरवा का निधन हो गया।

    क्रांतिकारी आंदोलन की समाप्ति

    अजमेर का क्रांतिकारी आंदोलन कई कठिनाईयों के कारण अपने उद्देश्यों में सफल नहीं हो सका। केसरीसिंह बारहठ अपना कार्यक्षेत्र राजपूतों तथा चारणों तक सीमित रखना चाहते थे। इनकी प्रारंभिक गतिविधियां शैक्षणिक एवं सामाजिक सीमाओं तक सीमित थीं। इस संकीर्णता के कारण क्रांतिकारी आंदोलन व्यापक न बन सका। सरकार ने इस आंदोलन को नष्ट करने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

    राजपूत नरेशों ने भी ब्रिटिश सत्ता से भयभीत होकर क्रांतिकारियों को कठोर दण्ड एवं कारावास दिये। लम्बे कारावासों ने क्रांतिकारियों को निराश कर दिया। उनके परिवारों को आर्थिक हानि उठानी पड़ी। फलतः अजमेर में क्रांतिकारी आंदोलन ने दम तोड़ दिया। अजमेर के क्रांतिकारी आंदोलन के समाप्त होने का प्रमुख कारण, 20वीं सदी के द्वितीय दशक में कांग्रेस द्वारा चलाया गया असहयोग आंदोलन था। इस आंदोलन ने अजमेर के राजनैतिक जीवन को नया मोड़ दिया। पथिकजी जैसे क्रांतिकारी अब सत्याग्रही बन गये थे।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • मन (हिन्दी कविता)

     02.06.2020
    मन (हिन्दी कविता)

    मन

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    मन वन उपवन,

    मन वृंदावन

    मन ही चंदन,

    मन गोरोचन।



    मन में पीपल,

    मन में तुलसी

    मन में बैठी

    माता हुलसी।



    मन में नाचे मोर पपीहा

    मन में बहती गंगा मैया।

    मन में खेले कृष्ण कन्हैया

    नाचें गोपी, ताता थैया।



    मन में बैठी एक कपोती

    पल में हंसती, पल में रोती।

    तिनके लाती दाने चुगती

    और न जाने क्या क्या करती।



    मन में हंसतीं आशा-तृष्णा

    मन में हंसती श्यामा कृष्णा।

    मन में उड़ते चार कबूतर

    काले, धोले नीले धूसर।



    मन में बैठा दास कबीरा

    तुलसी गाता, गाता सूरा।

    चंदन घिसता, दोहे रचता

    मन ना जाने क्या-क्या करता।



    मन में फैले सात समंदर

    मछली मोती गोपी चंदर।

    मन में क्षिप्रा, मन में काशी

    मुक्ति देता घट-घट वासी।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • राजस्थान की पर्यावरणीय संस्कृति-15

     02.06.2020
    राजस्थान की पर्यावरणीय संस्कृति-15

    राजस्थान में वन सम्पदा


    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    वन, पर्यावरण एवं संस्कृति के बीच की सबसे महत्त्वपूर्ण कड़ी हैं। वनों को जाने बिना, संस्कृति को जानना असम्भ है। वनस्पति की दृष्टि से राजस्थान, मानसूनी क्षेत्र में स्थित है। किसी समय अरावली के दक्षिण-पश्चिम तथा दक्षिण-पूर्वी भागों तथा पश्चिमी ढाल पर घने वन थे किंतु अब अधिकांश वन कट चुके हैं। राज्य के दक्षिणी भाग में बांसवाड़ा, डूंगरपुर, चित्तौड़गढ़ तथा उदयपुर जिलों में सागवान, धौंक, आंवला, तेंदू, खैर, सालर आदि के वृक्ष, बांस तथा विभिन्न घासें पायी जाती हैं।

    उदयपुर, कोटा, बारां, बूंदी, झालावाड़ तथा सिरोही आदि जिलों में धोंक, गूलर, महुआ, बहेड़ा तथा खैर आदि वृक्ष पाये जाते हैं। अलवर, जयपुर, कोटा, बूंदी, सवाईमाधोपुर तथा अजमेर आदि जिलों में सालर, तेंदू, पलाश, सेमल, खैर तथा बहेड़ा आदि वृक्ष मिलते हैं। पश्चिमी राजस्थान में खेजड़ी, बबूल, कैर, कुमटी, फोग, बेर आदि वृक्ष मिलते हैं एवं सेवण तथा धामण घासें पायी जाती हैं जो पशु-चारण के लिये अत्यंत उपयोगी हैं। राज्य में आम, केला, जामुन, बेर, टिमरू, डोलमा, खजूर आदि फल वृक्ष, नीम, पीपल, बरगद, पलाश, रीठा, चिरौंजी, हरड़, बहेड़ा, गूगल तथा रोहिड़ा आदि वृक्ष बहुतायत से पाये जाते हैं।


    राजस्थान में वन-क्षेत्र एवं उनका वर्गीकरण

    राजस्थान में भारत के वन-क्षेत्र का 1.8 प्रतिशत वन-क्षेत्र उपलब्ध है। राजस्थान में कुल वन-क्षेत्र 32627.95 वर्ग कि.मी. है जो कि राज्य के कुल क्षेत्रफल (3,42,239 वर्ग किमी) का 9.52 प्रतिशत है। उदयपुर एवं चित्तौड़गढ़ जिले वन-क्षेत्रफल की दृष्टि से सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण हैं। उदयपुर जिले में कुल वन-क्षेत्र 4,682.20 वर्ग कि.मी. तथा चित्तौड़गढ़ जिले में 2,633.74 वर्ग कि.मी. वन-क्षेत्र उपलब्ध है। सबसे कम 80.18 वर्ग कि.मी. वन-क्षेत्र चूरू जिले में है।

    वैधानिक दृष्टि से वर्गीकरण

    वैधानिक दृष्टि से राजस्थान के वनों को तीन वर्गों में बांटा जा सकता है -

    (1) आरक्षित वन- 12,32,511 हैक्टे. (कुल वन-क्षेत्र का 37.78 %)

    (2) संरक्षित वन- 17,52,596 हैक्टे. (कुल वन-क्षेत्र का 53.073%)

    (3) अवर्गीकृत वन- 2,76,876 हैक्टे. (कुल वन-क्षेत्र का 8.49 %)


    प्राकृतिक दृष्टि से वर्गीकरण

    प्राकृतिक दृष्टि से राजस्थान के वनों को 7 वर्गों में रखा जा सकता है-

    (1) शुष्क सागवान वन : इन वनों में सागवान के वृक्ष अधिक होते हैं। ये उदयपुर, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर एवं बांसवाड़ा जिलों में पाये जाते हैं। ये कुल वन-क्षेत्र के 7 प्रतिशत भाग पर पाये जाते हैं।

    (2) सालर वन : इन वनों में सालर के वृक्ष अधिक होते हैं। ये अजमेर, अलवर, सिरोही, जयपुर एवं जोधपुर जिलों में पाये जाते हैं। ये कुल वन-क्षेत्र के 5 प्रतिशत भाग पर पाये जाते हैं।

    (3) उष्ण कटिबंधीय पतझड़ वन : इन वनों में धौंकड़ा, खैर कत्था, तेंदू, बहेड़ा, आंवला व बांस आदि के वृक्ष अधिक होते हैं। ये वन अरावली पर्वतीय ढालों व पठारी क्षेत्रों में हैं।

    (4) उष्ण कटिबंधीय कांटेदार वन : उष्ण कटिबंधीय कांटेदार वनों में कांटेदार वृक्ष, झाड़ियां एवं बरसाती घास उत्पन्न होती है। इनका प्रमुख क्षेत्र पश्चिमी राजस्थान का थार रेगिस्तान है। ये कुल वनों के 5 प्रतिशत क्षेत्र में हैं। इन वनों में खेजड़ी, रोहिड़ा, कैर, खींप, कूमट, फोग, धामण, सेवण आदि वनस्पतियां प्रमुखता से पायी जाती हैं।

    (5) ढाक व पलाश वन : इन वनों में शिरीश, पीपल, महुआ, ढाक व पलाश के वृक्ष अधिक पाये जाते हैं। ये वन अलवर, राजसमंद, उदयपुर, चित्तौड़गढ़ एवं सिरोही जिलों में पाये जाते हैं।

    (6) उष्ण सदाबहार वन : इन वनों में शिरीष, जामुन, बांस, आम व केवड़़ा आदि के वृक्ष अधिक होते हैं। ये वन आबू (सिरोही) पर्वतीय क्षेत्र में मिलते हैं।

    (7) मिश्रित वन : इन वनों में सदाबहार वृक्ष और पतझड़ वाले वृक्ष सम्मिलित रूप से मिलते हैं। ये वन उदयपुर, सिरोही, बूंदी, कोटा, चित्तौड़गढ़ आदि जिलों में मिलते हैं।


    जिलेवार वन-क्षेत्र, वन सघनता तथा प्रति व्यक्ति वन-क्षेत्र

    (1.) राजस्थान में सर्वाधिक वन-क्षेत्र उदयुपर जिले में स्थित है जहाँ 4,587.42 वर्ग कि.मी. भूमि पर वन-क्षेत्र है। दूसरा नम्बर चित्तौड़गढ़ जिले का है जहाँ 2,766.62 वर्ग कि.मी. भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है। तीसरा नम्बर बारां जिले का है जहाँ 2,239.32 वर्ग कि.मी. भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है।

    (2.) राजस्थान में सबसे कम वन-क्षेत्र चूरू जिले में है जहाँ केवल 71.22 वर्ग कि.मी. भूमि पर वन-क्षेत्र स्थित है। दूसरा नम्बर हनुमानगढ़ जिले का है जहाँ 239.46 वर्ग कि.मी. भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है। तीसरा नम्बर नागौर जिले का है जहाँ केवल 240.93 वर्ग कि.मी. भूमि पर वन-क्षेत्र स्थित है।

    (3.) राजस्थान में सर्वाधिक वन सघनता उदयपुर जिले में है जहाँ जिले की 36.67 प्रतिशत भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है। दूसरा नम्बर करौली जिले का है जहाँ जिले की 35.69 प्रतिशत भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है। तीसरा नम्बर बारां जिले का है जहाँ जिले की 32.20 प्रतिशत भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है। चौथा नम्बर सिरोही जिले का है जहाँ जिले की 31.91 प्रतिशत भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है।

    (4.) राजस्थान में न्यूनतम वन सघनता चूरू जिले में है जहाँ जिले की 0.2 प्रतिशत भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है। दूसरा नम्बर जोधपुर जिले का है जहाँ जिले की 1.06 प्रतिशत भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है। तीसरा नम्बर नागौर जिले का है जहाँ जिले की 1.36 प्रतिशत भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है। चौथा नम्बर जैसलमेर जिले का है जहाँ जिले की 1.51 प्रतिशत भूमि पर वन-क्षेत्र उपलब्ध है।

    (5.) प्रति व्यक्ति वन-क्षेत्र की सर्वाधिक उपलब्धता बारां जिले में है। दूसरा नम्बर सिरोही जिले का है। तीसरा नम्बर उदयुपर जिले का है।

    (6.) प्रति व्यक्ति वन-क्षेत्र की न्यूनतम उपलब्धता चूरू जिले में है। दूसरा नम्बर नागौर जिले का है।


    वनों से होने वाले लाभ

    प्रत्यक्ष लाभ : राजस्थान के वनों में स्थित सागवान, सालर, गूलर नीम, आम, बबूल, धोकड़ा आदि वृक्षों से इमारती एवं फर्नीचर बनाने की लकड़ी प्राप्त होती है। धौंकड़ा, खैर, खेजड़ा, बबूल, कैर व कीकर आदि से ईंधन व कोयला बनाने की लकड़ी प्राप्त होती है। बीड़ी बनाने के लिये तेंदू पत्ते भी बहुतायत में प्राप्त होते हैं। महुआ के पेड़ों से मदिरा बनायी जाती है। कत्थे के वृक्ष से प्राप्त कत्थे का उपयोग दवायें, रंग एवं पान मसाला बनाने में होता है। चमड़ा साफ करने में आंवल झाड़ी की छाल का उपयोग होता है। शहद, मोम, गोंद, खस, बांस, घास, मूंझ, जड़ी बूटियां आदि अनेक उपयोगी वस्तुएं राजस्थान के वनों से प्राप्त होती हैं और पशुओं के लिये घास एवं चारा मिलता है।

    अप्रत्यक्ष लाभ : वनों की उपस्थिति से वायुमंडल में ऑक्सीजन की वृद्धि होती है तथा कार्बन डाई ऑक्साइड में कमी आती है जिसके कारण वायुमंडल का तापमान नियंत्रित होता है। वन्य पशुओं की संख्या में विस्तार होता है तथा पारिस्थतिकी संतुलन सुधरता है। बहुत बड़ी संख्या में लोगों को रोजगार प्राप्त होता है तथा पर्यटन स्थलों का विकास होता है।


    राजस्थान में वन विस्तार कार्यक्रम

    राजस्थान में वनारोपण कार्यक्रम

    राष्ट्रीय वन नीति के अनुसार प्रदेश का 33.33 प्रतिशत क्षेत्र वनों के अधीन होना चाहिये। इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिये राजस्थान में वनों के संरक्षण एवं प्रसार हेतु वनारोपण कार्यक्रम चलाया जा रहा है। इस कार्यक्रम पर 1950 से अब तक 740 करोड़ रुपये व्यय किये जा चुके हैं किंतु वृक्षों की अवैध कटाई जारी रहने से राजस्थान का वन-क्षेत्र लगातार घट रहा है। 1949-50 में राजस्थान का वन-क्षेत्र 13 प्रतिशत था जो वर्तमान में घटकर 9.54 प्रतिशत रह गया है। भारतीय वन सर्वेक्षण के अनुसार राज्य में 2009-11 की अवधि में वनाच्छादित क्षेत्र में 51 वर्ग कि.मी. की वृद्धि हुई।

    अरावली वृक्षारोपण परियोजना

    जापान सरकार के सहयोग से 1992-93 में राजस्थान में अरावली वृक्षारोपण परियोजना आरंभ की गयी। इसके तहत वर्ष 1992 से 1997 की अवधि में अरावली की पहाड़ियों पर वृक्षारोपण, एनीकटों का निर्माण तथा घास एवं मूंज लगायी जानी थी। यह योजना दो वर्षों के लिये बढ़ाकर 1999 में समाप्त की गयी। इस योजना के समाप्त होने पर भूसंवेदी उपग्रहों द्वारा राजस्थान में वन-क्षेत्रों में विस्तार के चित्र भेजे गये थे किंतु बाद में जाँच करने पर ज्ञात हुआ कि वह हरियाली विदेशी बबूलों के विस्तार के कारण हुई थी न कि उपयोगी वृक्षों के पनपने के कारण।


    वन सुरक्षा

    राज्य में संयुक्त वन प्रबंधन कार्यक्रम के अंतर्गत 5,372 ग्राम वन सुरक्षा एवं प्रबंध समितियां, वन विभाग की देखरेख में 8 लाख हैक्टेयर वन-क्षेत्र की सुरक्षा एवं प्रबंधन का कार्य कर रही हैं। अभयारण्यों एवं राष्ट्रीय उद्यानों के निकट वन्यजीव प्रबंधन में स्थानीय लोगों के सहयोग से ईको डवलपमेंट कमेटियां गठित की गई हैं। ग्रामीण युवकों में पर्यावरण, वन एवं वन्यजीव संरक्षण के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिये युवकों को मानदेय पर वनमित्र के रूप में लगाया जा रहा है।


    कृषि वानिकी

    जब कृषि के साथ वृक्षारोपण किया जाता है तो उसे कृषि वानिकी कहते हैं। खेतों की मेंढ़ तथा खेतों के बीच में आये हुए खड्डे, असमतल भूमि तथा पथरीली भूमि का उपयोग वृक्षारोपण के लिये किया जाता है। इसका लाभ यह होता है कि अकाल की स्थिति में भी किसान को कुछ आय प्राप्त हो जाती है तथा जब वृक्ष विकसित हो जाते हैं तो लकड़ी बेचकर लाभ अर्जित किया जा सकता है। शुष्क क्षेत्रों में बाजरे आदि के साथ खेजड़ी के वृक्ष लगाने से खाद की भी कम आवश्यकता होती है क्योंकि खेजड़ी की जड़ों में नाईट्रोजन स्थिरिकरण करने वाले बैक्टीरिया होते हैं जो कि भूमि में नाईट्रोजन की मात्रा बढ़ाते हैं।


    सामाजिक वानिकी

    सामाजिक वानिकी से अभिप्राय वन विकास की उस प्रणाली से है जिसके द्वारा समुदाय की आर्थिक एवं सामाजिक आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर वृक्षारोपण के माध्यम से ईंधन, इमारती लकड़ी, चारे की आपूर्ति, वायु अपरदन से कृषि भूमि का बचाव एवं मनोरंजन स्थलों का विकास किया जाता है। इसके अंतर्गत बंजर भूमि, परती भूमि, नहरों, सड़कों एवं रेल लाइनों के दोनों ओर खाली भूमि में वृक्षारोपण किया जाता है।


    राजस्थान में वन विकास हेतु स्थापित संस्थाएँ

    आफरी : मरूक्षेत्र अनुसंधान संस्थान (एरिड जोन रिसर्च इंस्टीट्यूट) का कार्य मरूस्थलीय क्षेत्रों में वन विकास करना है। संस्था ने मरु क्षेत्र में वन विकास के लिये अनेक किस्म के वृक्षों की पहचान की है। भारत सरकार द्वारा स्थापित यह संस्था जोधपुर में स्थित है।

    काजरी : केंद्रीय मरु अनुसंधान संस्थान (सेंट्रल एरिड जोन रिसर्च इंस्टीट्यूट) का मुख्यालय जोधपुर में स्थित है। इसकी स्थापना भारत सरकार द्वारा 1952 में मरुस्थल वनारोपण शोध केंद्र के रूप में हुई। ई.1957 में इसका नाम केंद्रीय मरु अनुसंधान संस्थान कर दिया गया। इसके अंग्रेजी नाम को संक्षिप्त करके काजरी कहा जाता है। यह संस्था मरुस्थल में पेड़, पौधे, चारागाह, पशु भूमि, मृदा तथा जल संरक्षण का कार्य करती है। इस संस्था ने बेर, आंवला, खेजड़ी, जोजोबा, मरुस्थलीय झाड़ियों, घासों पर अच्छा कार्य किया है।


    राज्य में दिये जाने वाले वानिकी पुरस्कार

    राज्य में वन संवर्धन तथा वानिकी के क्षेत्र में 14 राज्य स्तरीय और 13 जिला स्तरीय वार्षिक पुरस्कार दिये जाते हैं।

    अमृतादेवी पुरस्कार : 1994 में आरंभ किया गया यह पुरस्कार वृक्षों का विनाश रोकने तथा उनका संरक्षण-संवर्धन करने वाले व्यक्ति अथवा संस्था को प्रतिवर्ष दिया जाता है। यह प्रतिष्ठित राज्य स्तरीय पुरस्कार है।

    वानिकी पण्डित पुरस्कार : किसी जिले में समग्र रूप से वृक्षारोपण करने, वनों का विकास करने वाले व्यक्ति अथवा संस्था को दिया जाने वाला यह राज्य स्तरीय पुरस्कार है।

    वानिकी लेखन एवं अनुसंधान पुरस्कार : वानिकी क्षेत्र में मौलिक सृजनात्मक एवं अनुसंधान परक कार्य जैसे पुस्तक, लेख, शोधपत्र आदि लिखने के लिये यह राज्य स्तरीय पुरस्कार दिया जाता है।

    इंदिरा प्रियदर्शिनी वृक्षमित्र पुरस्कार : यह राष्ट्रीय सम्मान, वृक्षारोपण तथा परती भूमि विकास के अन्य पक्षों में उत्कृष्ट योगदान के लिये दिया जाता है।

    वन प्रहरी पुरस्कार : यह पुरस्कार वनों में अवैध कटाई रोकने, अग्नि से वनों को नष्ट होने से बचाने, वन्य जीव जंतुओं की सुरक्षा आदि उल्लेखनीय सेवाओं के लिये दिया जाता है।

    महावृक्ष पुरस्कार : 1995 से प्रारंभ किया गया यह पुरस्कार प्राचीन एवं विशिष्ट प्रजातियों के वृक्षों की पहचान सुरक्षित करने के उद्देश्य से दिया जाता है।

    वन्य जीव सूचना पुरस्कार : वन्य जीवों का शिकार करने वालों की सूचना वन्य जीव संरक्षण विभाग के अधिकारियों को देने वाले व्यक्ति को यह पुरस्कार दिया जाता है।

    वन पालक पुरस्कार : वन विभाग में कार्यरत अधिकारियों एवं कार्मिकों को अच्छी सेवाओं के लिये दिये जाते हैं।

    वृक्ष वर्धक पुरस्कार : वन पालक पुरस्कार राज्य व जिला स्तर पर 6 श्रेणियों के अंतर्गत 12 पुरस्कार दिये जाते हैं।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • अजमेर का इतिहास - 79

     02.06.2020
    अजमेर का इतिहास - 79

    अजमेर में स्वतंत्रता आंदोलन (1)


    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    यद्यपि अजमेर में स्वाधीनता संग्राम का श्रीगणेश विप्लववादी राजनीति से हुआ था परंतु इसके साथ ही अजमेर में उदारवादी कांग्रेस की भी स्थापना हो चुकी थी। अजमेर में कांग्रेस के प्रमुख कार्यकर्ताओं में बेरिस्टर गौरीशंकर, श्यामसुंदर भार्गव, राव साहब विश्वंभरनाथ टण्डन थे। इनके नेतृत्व में अजमेर की उदारवादी कांग्रेस की गतिविधियों में शनैः शनैः प्रगति हुई। इसके तत्वावधान में अजमेर में दो राजनैतिक सम्मेलन हुए जिनका सभापतित्व डॉ. अन्सारी व पण्डित मोतीलाल नेहरू ने किया। इन सम्मेलनों में लोकमान्य तिलक एवं मौलाना शौकत अली उपस्थित थे।

    अजमेर की राजनीति इन तीन दलों में विभाजित थी। सेवासंघ प्रथम दल था जिसके प्रधान विजयसिंह पथिक थे। दूसरा दल कांग्रेस था, जिसके प्रधान अर्जुनलाल सेठी थे। इसकी शाखाएं अजमेर, ब्यावर, कोटा, करौली तथा जोधपुर में थीं। तीसरा दल गांधीवादियों का था जिसके प्रमुख सेठ जमनालाल बजाज थे। हरिभाऊ उपाध्याय उपाध्यक्ष थे। प्रांतीय स्तर पर कांग्रेसियों में गांधीवादियों की प्रधानता थी। अर्जुनलाल सेठी के विरुद्ध हरिभाऊ उपाध्याय उध्यक्ष निर्वाचित हुए थे अतः सेठी ने कांग्रेस से अपना हाथ खींच लिया था।

    उनके साथ मुसलमान भी कांग्रेस से उदासीन हो गये। गांधीजी ने इन दोनों दलों में समन्वय स्थापित करने का असफल प्रयास किया। प्रथम विश्वयुद्ध के पूर्व बिजोलिया सत्याग्रह की घटना ने गांधीवादी विचारधारा को बल प्रदान किया। यद्यपि इस आंदोलन के प्रमुख संचालक पथिक थे और वे गांधीवादी नहीं थे परन्तु जीवन के दूसरे हिस्से में उनके विचार गांधीवाद के लगभग समीप थे। बिजोलया आंदोलन ने कृषक आंदोलन एवं सत्याग्रह की पद्धति को जन्म दिया।

    बिजोलिया का कृषक आंदोलन प्रथम सत्याग्रह आंदोलन था जो ठिकाने के जागीरदारों के विरुद्ध कृषक जनता की अहिंसात्मक लड़ाई थी। पथिक इस दृष्टि से गांधी के भी पथप्रदर्शक थे। राजस्थान का सत्याग्रह आंदोलन ई.1919 में गांधी द्वारा आरंभ किये गये सत्याग्रह आंदोलन से काफी पहले हो चुका था। गांधी का चम्पारण कृषक सत्याग्रह, बिजोलिया के कृषक आंदोलन के बाद आरंभ हुआ। पथिक ने इस आंदोलन को दिशा दर्शन दिया जो बाद में भारतीय अहिंसावादी स्वातन्त्र्य योद्धाओं के शस्त्रागार का अचूक एवं अद्भुत शस्त्र सिद्ध हुआ।

    ई.1916 के होमरूल आंदोलन ने अजमेर की गतिविधियों पर अच्छा प्रभाव डाला। इस आंदोलन ने कांग्रेस को नया बल दिया। चांद करण शारदा, गौरी शंकर भार्गव कांग्रेस के उत्साही कार्यकर्ताओं में से थे। शनैःशनैः अजमेर की कांग्रेस में गांधीवादी विचार धारा का प्रसार होने लगा। बाबा नृसिंहदास अजमेर में गांधीवादी विचारधारा के मुख्य प्रेरणा स्रोत बने। उन्होंने हटूण्डी मंं गांधी आश्रम की स्थापना की।

    उनके बाद हरिभाऊ उपाध्याय ने इस आश्रम को संभाला। उनके मार्ग दर्शन में आश्रम ने चहुंमुखी प्रगति की। अब यह आश्रम राजस्थान विद्यापीठ उदयपुर को सौंप दिया गया है। उपाध्याय ने गांधीवादी विचारधारा के प्रचार हेतु त्याग भूमि नामक पत्र का प्रकाशन किया।

    अजमेर में असहयोग आंदोलन

    खिलाफत आंदोलन एवं गांधीजी के असहयोग की आंधी से अजमेर अछूता नहीं रहा। 16 मार्च 1920 को अजमेर में खिलाफत आंदोलन समिति की स्थापना की गई। डॉ. अंसारी की अध्यक्षता में अजमेर में बड़ी धूमधाम से खिलाफत दिवस मनाया गया। इसमें चांद करण शारदा एवं मौलाना मुईउद्दीन की प्रमुख भूमिका रही। उन्होंने सार्वजनिक सभाओं का आयोजन किया। जहाँ-तहाँ हिन्दू मुस्लिम एकता को दृढ़ बनाने की शपथें ली गईं। इन सभाओं में जलियाँवाला बाग की दुर्घटना के निमित्त ब्रिटिश सरकार की भर्त्सना की गई। यहाँ का वातावरण बड़ा ही उत्तेजनापूर्ण बन गया। गांधीजी के असहयोग आंदोलन ने अजमेर की राजनैतिक गतिविधियों को अधिक तीव्र बना दिया। जगह-जगह धरने, हड़ताल एवं सभायें हुईं।

    विदेशों को भारत से खाद्यान्न निर्यात का विरोध किया गया। सरकारी संस्थाओं एवं नौकरियों का बहिष्कार किया गया। विदेशी वस्त्रों की होलियां जलाई गईं एवं स्वदेशी का प्रचार हुआ। स्वदेशी उद्योगों को प्रोत्साहन देने हेतु जनमत निर्माण किया गया। सेठ विट्ठलदास राठी ने स्वदेशी के प्रचारार्थ ब्यावर में कपड़ा मिल की स्थापना की। ई.1920 में कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में गांधीजी ने घोषणा की कि यदि मेरे द्वारा चलाये गये असहयोग आंदोलन को देश में पर्याप्त समर्थन प्राप्त होता है तो हमें स्वराज एक वर्ष में मिल जायेगा। उन्होंने कहा कि स्वराज का अर्थ है एक ऐसी सरकार जिसके अधीन हम अपना अलग अस्तित्व बना सकें जिसमें अंग्रेज उपस्थित नहीं हों। अपने कार्यक्रम को सफल बनाने के लिये गांधीजी ने पूरे देश का व्यापक दौरा किया।

    हिंसक आंदोलन की अपीलें

    मार्च 1922 के प्रथम सप्ताह में अनेक कांग्रेसी नेता प्रोविंशियल पोलिटिकल कान्फ्रेंस तथा खिलाफत मीटिंगों- 'जमीयत उल उलेमा' तथा 'जमीयत उल तुल्हा' में भाग लेने के लिये अजमेर आये। इन नेताओं ने जनसाधारण को असहयोग आंदोलन की मूल भावना तथा इसके अहिंसक स्वरूप के बारे में सफलतापूर्वक संदेश दिया। उन्होंने गांधीजी द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों- अस्पृश्यता उन्मूलन, मद्यनिषेध, चरखा चलाने, खादी बुनने तथा तिलक स्वराज फण्ड के लिये चंदा देने में सहयोग करने का आह्वान किया। उन्होंने लोगों को चेतावनी दी कि वे गांधीजी के बारदोली प्रस्तावों से दिग्भ्रमित न हों।

    इन नेताओं ने दिल्ली प्रस्तावों का हवाला देते हुए आंदोलन के दौरान हर परिस्थिति में अहिंसक रहने की वकालात की किंतु लखनऊ से आये मौलवी अब्दुल बारी ने अजमेर में आयोजित एक सभा में जीभ पर नयंत्रण खोकर ऐसा भाषण दिया जिससे जनता में यह संदेश गया कि चूंकि अहिसंक आंदोलन विफल रहा है अतः हिंसा का सहारा लिया जायेगा। उनका भाषण काफी उग्र था। इससे अजमेर की जनता में बेचैनी फैल गई।

    इसके बाद अजमेर में स्थान-स्थान पर सभायें आयोजित करके बाहर से आये नेताओं ने बार-बार जनता से अपील की कि मौलवी अब्दुल ने बिल्कुल मूर्खता पूर्ण बातें की हैं, आंदोलन को हर हाल में अहिंसक रखा जाना है। स्वयं मौलवी अब्दुल ने भी वक्तव्य दिया कि उनके भाषण को गलत समझा गया है। उनके कहने का अर्थ ये नहीं था। कुछ दिनों बाद अजमेर केन्द्रीय कारगार से छूटकर आये मौलवी सलामत उल्लाह खान ने एक मंच से मौलवी अब्दुल बारी की ओर से एक पत्र पढ़ा जिसमें कहा गया कि मौलवी अब्दुल बारी ने तो यह कहा था कि यदि आगे चलकर अहिंसात्मक उपाय विफल हो जायें तो हिंसात्मक आंदोलन किया जा सकता है।

    गांधीजी अजमेर में

    नेताओं द्वारा दिये जा रहे इन वक्तव्यों में से कोई भी वक्तव्य महात्मा गांधी की भावना के अनुसार नहीं थे। जब गांधीजी को नेताओं के इस बदले रुख की जानकारी हुई तो 9 मार्च 1922 को अचानक गांधीजी अजमेर आये। किसी को भी इस यात्रा का पता नहीं था इसलिये गांधीजी का कोई स्वागत नहीं किया जा सका। गांधीजी सीधे पण्डित गौरी शंकर भार्गव के घर फूल निवास पहुँचे जहाँ सारे उलेमा गांधीजी से मिलने के लिय एकत्रित हुए। गांधीजी ने संदेह उत्पन्न करने वाला बयान देने के लिये मौलवी अब्दुल बारी की निंदा की।

    इस पर पहले से ही अप्रसन्न मुस्लिम नेता हसरत मोहानी ने मौलवी अब्दुल बारी का पक्ष लिया। गांधीजी के सामने ही भार्गव के निवास पर मौलवियों और उलेमाओं के बीच तीखी बहस हुई। हसरत मोहानी गांधीजी से इसलिये नाराज था क्योंकि उसने एक बार कांग्रेस के समक्ष पूर्ण स्वराज्य का प्रस्ताव रखा था जिसे गांधीजी ने अस्वीकार कर दिया था। महात्मा गांधी के समक्ष पहली बार अहिंसात्मक और हिंसात्मक आंदोलन पर खुलकर बहस हुई जिसमें एक तरफ मौलवी अब्दुल बारी तथा हसरत मोहानी थे जबकि दूसरी तरफ गांधीजी और बाकी के सारे उलेमा थे।

    इस बहस में गांधीजी जीत गये। इसके बाद गांधीजी ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह पर गये जहाँ गांधीजी का भारी स्वागत किया गया। मौलवी अब्दुल बारी को किसी ने पूछा तक नहीं। कुरान की आयतों का पाठ हुआ उसके बाद गांधीजी ने भाषण दिया कि किसी भी क्षण उनकी गिरफ्तारी हो सकती है। उसी रात गांधीजी वापस लौट गये। कुछ दिनों बाद जब गांधीजी की गिरफ्तारी का समाचार अजमेर आया तो अजमेर के वातावरण में काफी उत्तेजना फैल गई।

    नेहरू रिपोर्ट

    ई.1929 में नेहरू रिपोर्ट पर अपनी सहमति देने के लिये अजमेर के कार्यकर्त्ताओं को राजस्थान का प्रतिनिधित्व करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। अजमेर से विजयसिंह पथिक, शोभालाल व रामनारायण चौधरी, कलकत्ता गये। दिसम्बर 1929 में बाबा नृसिंदास अग्रवाल के आदेश पर हरिभाऊ उपाध्याय ने अजमेर में कांग्रेस को पुनर्जीवित करने का काम हाथ में लिया। उन्हें अजमेर-मेरवाड़ा-राजपूताना-मध्यभारत कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया।

    सविनय अवज्ञा आंदोलन

    ई.1930 के सविनय अवज्ञा आंदोलन का अजमेर पर भी प्रभाव पड़ा। अजमेर में स्त्री वर्ग ने बड़ी संख्या में आंदोलन में भाग लेकर अपने उत्साह का परिचय दिया। गांधी के सविनय अवज्ञा आंदोलन का अजमेर की शिक्षण संस्थाओं तथा विद्यार्थियों पर गहरा प्रभाव हुआ। विद्यार्थियों द्वारा शराब की दुकानों पर पिकेटिंग की गई तथा कुछ शिक्षण संस्थाओं में स्वतंत्रता दिवस का आयोजन किया गया। 26 जनवरी 1930 को बाबा नृसिंहदास अग्रवाल के नेतृत्व में अजमेर में स्वतंत्रता दिवस मनाया गया।

    अजमेर के एक निजी विद्यालय में हुई सविनय अवज्ञा की गतिविधियों के बाद सहायक अधीक्षक शिक्षा विभाग ने काट हाई स्कूल अजमेर के प्राचार्य को पत्र लिखा कि 26 जनवरी 1930 को स्कूल के अध्यापकों द्वारा स्वतंत्रता दिवस मनाया गया, अध्यापक राजस्थान युवा संघ की बैठक में सम्मिलित हुए, गत कांग्रेस के चुनाव भी इसी स्कूल के परिसर में हुए हैं। इसी कारण काट हाई स्कूल की ग्राण्ट बंद की जाती है। यदि अनुदान पुनः चाहते हैं तो अध्यापकों की इस कार्यवाही को तुरन्त बंद किया जाये।

    विद्यार्थियों की गतिविधियों पर रोक

    अजमेर में स्कूल बालिकाओं द्वारा पिकेटिंग करने पर सहायक शिक्षा अधीक्षक ने प्राचार्य गर्ल्स प्राथमिक स्कूल को लिखा कि कुछ छात्राएं सरकार विरोधी गतिविधियों में संलग्न हैं, उनको तुरन्त स्कूल से निकाल दिया जाये। अजमेर तथा राजपूताना की विभिन्न रियासतों के वि़द्यालयों में हो रहे आंदोलनों को देखते हुए अजमेर के कमिश्नर द्वारा अजमेर-मेरवाड़ा में आने वाले विद्यालयों व महाविद्यालयों के प्राचार्यों के नाम एक आदेश निकाला गया जिसमें कहा गया कि इन आंदोलनकारी छात्रों पर तुरंत नियंत्रण स्थापित किया जाये।

    क्योंकि ये छात्र सरकार विरोधी आंदोलनों में भाग लेते हैं और आम लोगों को आंदोलनों में भाग लेने के लिये उकसाते हैं। इन परिपत्रों का बहुत कम प्रभाव देखने को मिला। ई.1931 में गांधी इरविन समझौते के विफल हो जाने के कारण अजमेर में सत्याग्रह ने पुनः उग्र रूप धारण कर लिया।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • स्वाधीनता आंदोलन में राष्ट्रीय काव्यधारा का ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य

     02.06.2020
    स्वाधीनता आंदोलन में राष्ट्रीय काव्यधारा का ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    किसी भी राष्ट्र के तीन शरीर आवश्यक रूप से होते हैं- भौगोलिक शरीर, राजनीतिक शरीर एवं सांस्कृतिक शरीर। ये तीनों ही शरीर एक दूसरे में समाए हुए, एक दूसरे के पूरक और एक दूसरे के अन्योन्याश्रित हैं। इनमें से एक के क्षीण, नष्ट अथवा पुष्ट होने पर दूसरा एवं तीसरा शरीर स्वतः क्षीण, नष्ट अथवा पुष्ट हो जाता है। 
    हमारे आलेख का विषय राष्ट्र के सांस्कृतिक शरीर से सम्बन्धित है जो राष्ट्र के भौगोलिक शरीर की रक्षा करके उसे प्रबल राजनीतिक देह प्रदान करन की कामना रखता है।

    यजुर्वेद की एक ऋचा में ‘राष्ट्र मे देहि’ और अथर्वेद की एक ऋचा में ‘त्वा राष्ट्र भृत्याय’ जैसे शब्द प्रयुक्त हुए हैं जो राष्ट्र के मूल आधार अर्थात् ‘समाज’ के अर्थ में प्रयुक्त हुए हैं। समाज ही सभ्यता का विकास करता है, समाज ही संस्कृति को रचता है और समाज ही राष्ट्र का निर्माण करता है। समाज, सभ्यता एवं संस्कृति को सुरक्षित रखने की भावना ही राष्ट्रीय चेतना के रूप में प्रतिफलित होती है। समाज अपनी भूमि से जुड़ा हुआ रहता है। यही कारण है कि राष्ट्र एक गांव एवं एक राजा द्वारा शासित क्षेत्र के संकुचित अर्थ से लेकर भारत जैसे विराट देश के लिए प्रयुक्त होता है।

    अथर्ववेद का सूक्तकार ‘माता भूमिः पुत्रो ऽहं पृथिव्याः’ कहकर राष्ट्रवाद का सूत्रपात करता है। अथर्ववेद के पृथ्वी-सूक्त का प्रत्येक मंत्र राष्ट्र-भक्ति का पाठ पढ़ाता है। आधुनिक युग में भारत माता की कल्पना इसी पृथ्वी-सूक्त से आई है। वाल्मीकि रामायण भी ‘स्वर्णमयी लङ्का न मे लक्ष्मण रोचते, जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी’ कहकर राष्ट्रवाद की भावना को आगे बढ़ाती है। रामचरित मानस में यह भावना इन शब्दों में व्यक्त हुई है-

    सुनु कपीस अंगद लंकेसा, पावन पुरी रुचिर यह देसा।

    जद्यपि सब बैकुंठ बखाना, बेद पुरान बिदित जगु जाना।

    अवधपुरी सम प्रिय नहिं सोऊ, यह प्रसंग जानइ कोउ कोऊ।

    जन्मभूमि मम पुरी सुहावनि, उत्तर दिसि बह सरजू पावनि।


    मानव समाज जब किन्हीं अन्य भूमियों पर विकसित राजनीतिक शक्तियों के अधीन हो जाता है तो वह अपनी जन्मभूमि से अपने सम्बन्ध का स्मरण करता है। इसी बिंदु पर राष्ट्रवाद की कविता जन्म लेती है। भारत के इतिहास में स्वाधीनता आंदोलन तब-तब होता हुआ दिखाई देता है, जब-जब विदेशी शक्तियां भारत में अपनी सत्ता की स्थापना करती हैं। यह घटना ई.पू.322 में सिकंदर के आक्रमण से लेकर ई.1947 में भारत के अंतिम स्वाधीनता संग्राम तक बार-बार घटी है।

    संसार की प्रत्येक भाषा के काव्य में, हर युग में राष्ट्रीय भावना का समावेश होता है। किसी भी देश के राष्ट्रीय काव्य में समग्र राष्ट्र की चेतना प्रस्फुटित होती है। राष्ट्रीय-भावना, राष्ट्र की प्रगति का मंत्र है। राष्ट्रीय भावना का सृजनात्मक पक्ष मानवता वादी होता है। वह न केवल अपने देश को स्वतंत्र देखना चाहता है अपितु समस्त मानवता को स्वाधीन एवं सुखी देखने की कामना रखता है।

    भारत के स्वाधीनता संग्राम का आशय उन्नीसवीं एवं बीसवीं शताब्दी ईस्वी में ईस्ट इण्डिया कम्पनी तथा ब्रिटिश क्राउन के विरुद्ध भारतीय जनता द्वारा किए गए राजनीतिक संघर्ष से है।

    भारतेन्दु बाबू हरिश्चन्द्र हिन्दी भाषा के पहले कवि माने जाते हैं जो समाज को जागृत करने के लिए अपनी लेखनी उठाते हैं। उनका रचना काल ई.1867 से 1885 रहा। इस काल में 1857 की असफल सशस्त्र-क्रांति की व्यथा, भारतीयों के मन पर काली परछाई की तरह व्याप्त थी। इस काल में भारत अपनी दुरावस्था एवं वास्तविकता को पहचानने का प्रयास कर रहा था। इसी कारण भारतेंदु बाबू के नाटक भारत दुर्दशा का आरम्भ ही इन पंक्तियों से होता है-

    रोअहू सब मिलिकै आवहु भारत भाई। हा हा! भारतदुर्दशा न देखी जाई ।।

    अँगरेराज सुख साज सजे सब भारी। पै धन बिदेश चलि जात इहै अति ख़्वारी ।।


    इसी नाटक में भारत विलाप करता हुआ कहता है-

    कोऊ नहिं पकरत मेरो हाथ। बीस कोटि सुत होत फिरत मैं हा हा होय अनाथ ।।

    बदरी नारायण चौधरी ‘प्रेमघन’ ने भारतेंदुजी से प्रभावित होकर काव्य एवं नाटकों की रचना की। उन्होंने ई.1888 में कांग्रेस के महाधिवेशन के अवसर पर खेले जाने के लिए ‘भारत सौभाग्य’ नाटक लिखा। प्रेमघन को भारतेंदु मण्डल का उज्जवलतम नक्षत्र कहा जाता है।

    भारतेंदु बाबू के फुफेरे भाई राधाकृष्ण दास ने भारतेंदु से प्रेरित होकर ई.1880 में पंद्रह वर्ष की अवस्था में ही ‘दुःखिनी बाला’ नामक छोटा रूपक लिखा। इसके एक ही वर्ष बाद ‘निस्सहाय हिंदू’ नामक सामाजिक उपन्यास लिखा। इसी के अनंतर ‘स्वर्णजता’ आदि पुस्तकों का बँगला से हिंदी में अनुवाद किया। इसी काल में ‘आर्यचरितामृत’ शीर्षक से बाप्पा रावल की जीवनी तथा ‘महारानी पद्मावती’ रूपक भी लिखा। उन्होंने नागरीदास का जीवन चरित, राजस्थान केसरी वा महाराणा प्रताप सिंह नाटक, भारतेंदु जी की जीवनी, रहिमन विलास आदि राष्ट्रीय विचारधारा के साहित्य की रचना की। उन्होंने भारतेंदुजी के अधूरे हिन्दी नाटक ‘सती प्रताप’ को भी पूर्ण किया।

    भारतेंदु बाबू तथा उनके समकालीन कवियों के लगभग 20 वर्ष के रचनाकाल का यह प्रभाव हुआ कि अंग्रेज शक्ति, भारतीयों की पीड़ा और असंतोष को दबाने के लिए भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस जैसी ब्रिटिश मुखापेक्षी संस्था का ‘प्रसव’ करने पर विवश हुई जो भारतीयों के मन में अंग्रेजों के प्रति विश्वसनीयता का निर्माण कर सके एवं भारतीयों को अपनी समस्याओं के समाधान के लिए गौरांग शक्ति के समक्ष अनुनय-विनय का मंच प्रदान कर सके।

    भारतेंदु बाबू के अवसान के लगभग 27 वर्ष बाद, ई.1912-13 में मैथिली शरण गुप्त की भारत-भारती प्रकाशित हुई जिसने राष्ट्रीयता की सुप्त भावना को पुनजीर्वित करने में बड़ा योगदान दिया। इस ग्रंथ की रचना उस समय हुई जब भारत में बंग-भंग के विरोध में देशव्यापी आंदोलन हो रहे थे और भारतीयों को संतुष्ट करने के लिए देश में मार्ले-मिण्टो सुधार एक्ट लाया जा रहा था। गुप्तजी की भारत-भारती वस्तुतः भारत दर्शन की काव्यात्मक प्रस्तुति थी। इस रचना में गुप्तजी ने देश के अतीत का अत्यंत गौरव और श्रद्धा के साथ गुणगान करते हुए देश की वर्तमान दुर्दशा पर क्षोभ प्रकट किया-

    भूलोक का गौरव, प्रकृति का पुण्य लीला-स्थल कहाँ?

    फैला मनोहर गिरि हिमालय और गंगाजल कहाँ?


    संपूर्ण देशों से अधिक किस देश का उत्कर्ष है?

    उसका कि जो ऋषि भूमि है, वह कौन, भारतवर्ष है।


    इस रचना के माध्यम से गुप्तजी ने न केवल स्वदेश प्रेम की आवश्यकता को प्रतिपादित किया अपितु देश को दुर्दशा से उबरने हेतु समाधान खोजने का सफल प्रयोग भी किया-

    भूलो न ऋषि-सन्तान हो, अब भी तुम्हें यदि ध्यान हो।

    तो विश्व को फिर भी तुम्हारी, शक्ति का कुछ ज्ञान हो।

    बनकर अहो फिर कर्म्मयोगी, वीर बड़भागी बनो।

    परमार्थ के पीछे जगत में, स्वार्थ के त्यागी बनो।


    आगे चलकर गांधीजी ने गुप्तजी को राष्ट्रकवि बताते हुए कहा- ‘मैं मैथिलीशरण जी को इसलिये बड़ा मानता हूँ कि वे हम लोगों के कवि हैं और राष्ट्रभर की आवश्यकता को समझकर लिख रहे हैं।’ यह आश्चर्य ही था कि गांधीजी ने गुप्तजी के लिए ऐसा कहा। मेरे विचार से, स्वराज्य के लिए गांधीजी द्वारा किए गए आंदोलनों की लुंज-पुंज और अनिश्चित शब्दावली के विपरीत गुप्तजी के स्वर ओजस्वी हुंकार से युक्त थे जो गांधीजी के सांचे में फिट नहीं बैठते थे। गुप्तजी ने लिखा है-

    धरती हिलाकर नींद भगा दे

    वज्रनाद से व्योम जगा दे

    दैव, और कुछ लाग लगा दे।


    हिन्दी साहित्य के युग में इसे विस्मयकारी घटना ही माना जाना चाहिए कि भारत-भारती के युग में हिन्दी कविता में छायावाद ने जन्म लिया जिसने ई.1918 से 1936 तक ‘प्रेम’ जैसी सर्वव्यापक किंतु नितांत व्यक्तिगत अनुभूति को कविता में पिरोकर रहस्य के आवरण से ढक दिया। स्वतंत्रता आंदोलन की दृष्टि से यह काल अत्यंत महत्व का है। इस काल के आरम्भ में ई.1919 में रोलट एक्ट आता है और पूरा देश एक बार फिर से आंदोलनों की चपेट में आ जाता है। इसी काल में अंग्रेजों द्वारा असहयोग आंदोलन कुचला जाता है। चौराचौरी काण्ड होता है। खिलाफत आंदोलन होता है। साइमन कमीशन आता है। लाला लाजपतराय सड़कों पर आंदोलन करते हुए शहीद होते हैं। भगतसिंह, सुखदेव राजगुरु को फांसी होती है। गांधी-इरविन समझौता होता है। गांधी एवं अम्बेडकर के बीच पूना पैक्ट होता है। इस काल का अवसान भारत सरकार अधिनियम 1935 के साथ होता है।

    स्वतंत्रता आंदोलन की धारा इसी काल में सर्वाधिक तीव्र होती हुई दिखाई देती है। अतः प्रेम की कविता करने वाले छायावादी कवि इन घटनाओं से नितांत असंपृक्त नहीं रह सकते थे। उनके द्वारा रचे गए छायावादी काव्य में राष्ट्रीय आन्दोलनों की स्थूल अभिव्यक्ति को तो स्थान नहीं मिला किन्तु उनकी कविता में राष्ट्रीय-सांस्कृतिक चेतना के बीज प्रच्छन्न रूप से उपलब्ध हैं।

    छायावाद में राष्ट्रीयता का स्वर प्रतीकात्मक रूप में तथा शक्ति और जागरण गीतों के रूप में मिलता है किंतु राष्ट्रप्रेम का प्रतीकात्मक रूप, अभावों एवं शोषण से संत्रस्त एवं संघर्षरत श्रमजीवी भारत को अधिक समय के लिए ग्राह्य नहीं था। यही कारण था कि छायावादी काव्य धारा के समानांतर और उतनी ही शक्तिशाली राष्ट्रीय चेतना की काव्यधारा भी प्रबल वेग से प्रवाहमान हो पड़ी जिसके बीज भारतेंदु बाबू ने बोए थे और मैथिलिशरण गुप्त ने जिसे सींच कर प्रस्फुटित किया था। इस धारा के कवियों ने राष्ट्रीय और सांस्कृतिक संघर्ष को स्पष्ट और उग्र स्वर में व्यक्त किया।

    राष्ट्रवादी कवियों ने छायावाद के रेशमी आवरण को भेदकर अपने पूर्ववर्ती राष्ट्रवादी कवि मैथिलिशरण गुप्त और पश्चवर्ती राष्ट्रवादी कवि रामधारीसिंह दिनकर के साथ अपना स्वर मिलाए रखा। इन कवियों ने सांस्कृतिक राष्ट्रवाद, जन-जागरण तथा अभियान गीतों से राष्ट्र की आत्मा को नवीन चेतना प्रदान की। स्वयं मैथिलिशरण गुप्त इस पूरे काल में सक्रिय रहे।

    अच्युतानंद मिश्र ने लिखा है- ‘मैथिलीशरण गुप्त, माखनलाल चतुर्वेदी, बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’, रामधारी सिंह दिनकर, रामवृक्ष बेनीपुरी या सोहनलाल द्विवेदी राष्ट्रीय नवजागरण के उत्प्रेरक ऐसे कवियों के नाम हैं, जिन्होंने अपने संकल्प और चिन्तन, त्याग और बलिदान के सहारे राष्ट्रीयता की अलख जगाकर, अपने पूरे युग को आन्दोलित किया था, गाँधीजी के पीछे देश की तरूणाई को खड़ा कर दिया था। सोहनलालजी उस शृंखला की महत्वपूर्ण कड़ी थे।’

    ई.1918 से 1936 के छायावादी युग में राष्ट्रवादी कविता का जोर पकड़ जाना, भारतीय साहित्याकाश की एक स्वाभाविक घटना थी। असहयोग आंदोलन, साइमन कमीशन, लाला लाजपत राय का बलिदान, भगतसिंह, सुखदेव एवं राजगुरु का आत्मोत्सर्ग, सविनय अवज्ञा आंदोलन, लंदन में आयोजित तीन गोलमेज सम्मेलन एवं भारत सरकार अधिनियम 1935 जैसी बड़ी घटनाओं में भारतीय तत्व तभी समाविष्ट हो सकता था जब भारत के कवि, जनसामान्य को उनकी निर्धन झौंपड़ियों से खींचकर सड़कों पर ले आएं और जिनकी सामूहिक शक्ति से अंग्रेज शक्ति का दुर्भेद्य-दुर्ग भरभरा कर गिर जाए। सौभाग्य से भारत के राष्ट्रवादी कवि इस कार्य में सफल रहे।

    राष्ट्रीय स्वतंत्रता आंदोलन के इस कठिन काल में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय काव्यधारा के बड़े कवि के रूप में सामने आते हैं। उनकी हिमकिरीटनी, हिमतरंगिनी, माता, युगचरण, समर्पण आदि काव्यकृतियां राष्ट्रीय भावछाया से आप्लावित हैं। चतुर्वेदीजी ने भारत को पूर्ण स्वतन्त्र कर जनतन्त्रात्मक पद्धति की स्थापना का आह्वान किया। उनकी कविता ‘कैदी और कोकिला’ में जेल की हथकड़ी, आभूषण बनकर भारत की जनता को संघर्ष करने की प्रेरणा देती है-

    ‘क्या? देख न सकती जंजीरो का गहना

    हथकड़ियां क्यों? यह ब्रिटिश राज का गहना’ ‘


    पुष्प की अभिलाषा’ में वे पुष्प के माध्यम से देश को आत्मोत्सर्ग का मार्ग सुझाते हुए कहते हैं-

    मुझे तोड़ लेना वनमाली!

    उस पथ पर देना तुम फेंक,

    मातृभूमि पर शीश चढ़ाने,

    जिस पर जावें वीर अनेक।


    रामनरेश त्रिपाठी ने ई.1920 में हिन्दी के प्रथम राष्ट्रीय खण्डकाव्य ‘पथिक’ की रचना की। ‘वह देश कौन सा है!’ कविता में वे मैथिलीशरण गुप्त की बात को आगे बढ़ाते हुए लिखते हैं-

    सब से प्रथम जगत में, जो सभ्य था यशस्वी।

    जगदीश का दुलारा, वह देश कौन-सा है?

    पृथ्वी-निवासियों को, जिसने प्रथम जगाया।

    शिक्षित किया सुधारा, वह देश कौन-सा है?

    जिसमें हुए अलौकिक, तत्वज्ञ ब्रह्मज्ञानी।

    गौतम, कपिल, पतंजलि, वह देश कौन-सा है?

    छोड़ा स्वराज तृणवत आदेश से पिता के।

    वह राम थे जहाँ पर, वह देश कौन-सा है?


    रामनरेश त्रिपाठी द्वारा रचित कौमुदी, मानसी, स्वप्न आदि काव्य संग्रहों में देश के उद्धार के लिए आत्मोत्सर्ग की भावना उत्पन्न करने वाली कविताएं हैं। रामनरेश त्रिपाठी ने रामचरित मानस में राष्ट्र जागरण के प्रबल तत्वों के दर्शन किए। वे इस ग्रंथ को घर-घर पहुंचाना चाहते थे। कवि के प्रखर राष्ट्रप्रेम और रामचरित मानस में अगाध श्रद्धा को देखते हुए बेढब बनारसी ने उनके बारे में कहा था-

    तुम तोप और मैं लाठी

    तुम रामचरित मानस निर्मल, मैं रामनरेश त्रिपाठी।


    राष्ट्रीय काव्यधारा को पुष्ट करने वाली कवयित्री सुभद्रा कुमारी चौहान भी इसी कालखण्ड में सामने आती हैं। उनकी ‘त्रिधारा’, ‘मुकुल’ की ‘राखी’ ‘झासी की रानी’ ‘वीरों का कैसा हो बसंत’ आदि कविताओं में राष्ट्रीयता के तीक्ष्ण भावों की भावना मुखरित हुई। उन्होंने असहयोग आन्दोलन में सक्रिय भूमिका निभाई। स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान उन्हें कई बार जेल जाना पड़ा। उन्होंने जलियाँवाला बाग के नरसंहार के लगभग 11 वर्ष बाद ‘जलियाँवाला बाग में बसंत’ नामक कविता लिखकर माखनलाल चतुर्वेदी के संदेश को आगे बढ़ाया-

    यहाँ कोकिला नहीं, काग हैं, शोर मचाते,

    काले काले कीट, भ्रमर का भ्रम उपजाते।

    कुछ कलियाँ अधखिली यहाँ इसलिए चढ़ाना,

    कर के उनकी याद अश्रु के ओस बहाना।

    .... तड़प तड़प कर वृद्ध मरे हैं गोली खा कर,

    शुष्क पुष्प कुछ वहाँ गिरा देना तुम जा कर।

    यह सब करना, किन्तु यहाँ मत शोर मचाना,

    यह है शोक-स्थान बहुत धीरे से आना।

    कलियाँ भी अधखिली, मिली हैं कंटक-कुल से,

    वे पौधे, व पुष्प शुष्क हैं अथवा झुलसे।


    सुभद्रा कुमारी चौहान ने अपनी कविता ‘झाँसी की रानी’ के माध्यम से देश की आत्मा को झकझोर कर रख दिया-

    महलों ने दी आग, झोंपड़ी ने ज्वाला सुलगाई थी,

    यह स्वतंत्रता की चिन्गारी अंतरतम से आई थी।

    झांसी चेती, दिल्ली चेती, लखनऊ लपटें छाई थी,

    मेरठ, कानपूर, पटना ने भारी धूम मचाई थी

    ........ जाओ रानी याद करेंगें ये कृतज्ञ भारतवासी।

    तेरा ये बलिदान जगाएगा स्वतंत्रता अविनाशी।


    भारत सरकार अधिनियम 1935 के बाद देश का स्वतंत्रता आंदोलन एक नए दौर में प्रवेश कर जाता है। बालकृष्ण शर्मा ‘नवीन’ इसी दौर में सामने आते हैं। उनकी कविताओं में भक्ति-भावना, राष्ट्र-प्रेम तथा विद्रोह का स्वर प्रमुखता से आया है। ई.1936 में उनका पहला काव्य संग्रह ‘कुंकुम’ प्रकाशित हुआ। इसमें राष्ट्रीयता के प्रखर स्वर सुनाई देते हैं-

    यहाँ बनी हथकड़ियाँ राखी, साखी है संसार

    यहाँ कई बहनों के भैया, बैठे हैं मनमार।’


    बालकृष्ण शर्मा स्वयं 10 बार जेल गए। उन्होंने विप्लव गान की रचना करके राष्ट्रीयता के स्वरों को नवीन ऊंचाइयां प्रदान कीं। उन्होंने राष्ट्र का सीधे और स्पष्ट स्वरों में आह्वान किया-

    कवि कुछ ऐसी तान सुनाओ, जिससे उथल-पुथल मच जाये

    एक हिलोर इधर से आये, एक हिलोर उधर को जाये नाश !

    नाश! हाँ महानाश!!! की प्रलयंकारी आंख खुल जाये।


    ई.1939 से 1945 तक द्वितीय विश्वयुद्ध हुआ। इंगलैण्ड चाहता था कि भारतीय सैनिक इस युद्ध में अंग्रेजों की तरफ से लड़ें किंतु भारतीय जनमानस, इस युद्ध में सम्मिलित होने के प्रतिफल के रूप में अपने देश के लिए आजादी चाहते थे। भारत छोड़ो आंदोलन, क्रिप्स मिशन और कैबिनेट मिशन इस काल की प्रमुख राजनीतिक घटनाएं हैं। अतः इस काल की राष्ट्रीय कविता इस घटनाक्रम को अपनी आंखों से देख रही थी।

    इस काल में रामधारीसिंह ‘दिनकर’ एवं सोहनलाल द्विवेदी जैसे दो बड़े राष्ट्रीय विचारधारा के कवि हिन्दी काव्य जगत में प्रकट होते हैं। रामधारी सिंह ‘दिनकर’ के काव्य ने भारतीय जन-मानस को नवीन चेतना से सराबोर किया। उन्होंने ई.1928 में ‘बारदोली विजय संदेश’ नामक रचना के साथ हिन्दी काव्य जगत में प्रवेश किया। वे सरकारी सेवा में थे। इसलिए जब ई.1935 में ‘रेणुका’ और 1938 में ‘हुंकार’ का प्रकाशन हुआ तो अंग्रेज सरकार उनके प्रति सतर्क हो गई। चार वर्ष में 22 बार उनका तबादला किया गया।

    रामधारी सिंह ‘दिनकर’ राष्ट्रधारा के कवियों में सर्वाधिक सबल व्यक्तित्व लेकर उभरे। वे छायावादोत्तर युग के सबसे बड़े राष्ट्रवादी कवि के रूप में जाने गए। उनके तीखे स्वरों को छायावाद आत्मसात नहीं कर सका। हुँकार, रेणुका, विपथगा में कवि ने साम्राज्यवादी ब्रिटिश राज्य के विरुद्ध क्रान्ति के स्वरों का आह्वाहन किया। उनकी कविताओं में पराधीनता के विरुद्ध प्रबल विद्रोह अपनी भीषणता और भंयकरता के साथ गर्जना करता हुआ दिखाई देता है। कुरूक्षेत्र पूर्णरूपेण राष्ट्रीय महाकाव्य है जिसमें हुंकार भरते हुए वे कहते हैं-

    ‘उठो- उठो कुरीतियों की राह तुम रोक दो

    बढ़ो-बढ़ो कि आग में गुलामियों को झोंक दो।‘


    वे भारत के युवाओं को राष्ट्रीय स्वातंत्र्य के लिए प्रथम आहुति के रूप में स्वयं को समर्पित करने का संदेश देते हुए कहते हैं-

    जिसके द्वारों पर खड़ा क्रान्त, सीमापति! तूने की पुकार

    पददलित उसे करना पीछे, पहले ले मेरा सीस उतार।


    सोहनलाल द्विवेदी ने भारत की आजादी के गीतों का मुक्तकण्ठ से गायन किया। भैरवी, चेतना, सेवाग्राम आदि काव्य-संग्रहों में उन्होंने महान् राष्ट्रनायकों का गुणगान किया। ई.1941 में उनकी प्रथम रचना भैरवी प्रकाशित हुई जो देश प्रेम से परिपूर्ण थी-

    वन्दना के इन स्वरों में, एक स्वर मेरा मिला दो ।

    वंदिनी माँ को न भूलो, राग में जब मत झूलो ।

    अर्चना के रत्न कणों में, एक कण मेरा मिला लो।।


    राणा प्रताप के प्रति, आजादी के फूलों पर जय-जय, तैयार रहो, बढ़े चलो बढ़े चलो, विप्लव गीत, पूजा गीत, मातृपूजा, युग की पुकार, देश के जागरण गान, वासवदत्ता, कुणाल, तथा युगधारा आदि रचनाओं में स्वातन्त्र्य साधना के उच्च स्वर सुनाई देते हैं-

    कब तक क्रूर प्रहार सहोगे ?

    कब तक अत्याचार सहोगे ?

    कब तक हाहाकार सहोगे ?

    उठो राष्ट्र के हे अभिमानी

    सावधान मेरे सेनानी।’


    ‘प्रभात-फेरी’ में वे भारत के जन-मन का संकल्प व्यक्त करते हुए कहते हैं-

    ‘संतान शूरवीरों की हैं, हम दास नहीं कहलायेंगे ।

    या तो स्वतंत्र हो जायेंगे, या तो हम मर मिट जायेंगे ।

    हम अगर शहीद कहायेंगे, हम बलिवेदी पर जायेंगे,

    जननी की जय-जय गायेंगे।।


    सरदार पटेल की वंदना करते हुए वे कहते हैं-

    ‘लौह पुरूष सरदार! करूँ वन्दन तेरा किन शब्दों में ।

    राष्ट्र-पुरुष तुमसे मिलते हैं किसी राष्ट्र के अब्दों में ।।

    तेरा गर्जन एक, कि निर्बल में नवीन बल आता है ।

    तेरा वर्जन एक, कि बैरी बढ़ पीछे मुड़ जाता है।


    श्यामनारायण पाण्डेय राष्ट्रीय चेतना के लिए महाराणा प्रताप, महारानी पद्मिनी और रामभक्त हनुमान का वीर चरित देश के समक्ष अद्भुत ओजस्वी स्वरों में ढालकर लाए। उनके लिखे ‘हल्दीघाटी’, ‘जौहर’ एवं जय हनुमान आदि काव्यों में हिन्दू राष्ट्रीयता का जयघोष हुआ है।

    कविवर ‘शंकर’ ने शंकर सरोज, शंकर सर्वस्व, गर्भरण्डारहस्य लिखे। उन्होंने बलिदान गान में ‘प्राणों का बलिदान देश की वेदी पर करना होगा’ के द्वारा स्वतन्त्रता प्राप्ति के लिए क्रान्ति एवं आत्मोत्सर्ग की प्रेरणा दी। निराला की ‘वर दे वीणा वादिनी’, ‘भारती जय विजय करे’, ‘जागो फिर एक बार’, ‘शिवाजी का पत्र’, प्रसाद की ‘अरूण यह मधुमय देश हमारा’ चन्द्रगुप्त नाटक में आया गीत ‘हिमाद्रि तुंगशृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारती’ आदि रचनाओं में राष्ट्रीयता की प्रखर अभिव्यक्ति हुई।

    स्वतंत्रता आन्दोलन से प्रभावित राष्ट्रीय विचार धारा के हिन्दी कवियों की सुदीर्घ शृंखला में राधाचरण गोस्वामी, श्रीधर पाठक, माधव प्रसाद शुक्ल, नाथूराम शर्मा शंकर, गया प्रसाद शुक्ल स्नेही (त्रिशूल), सियाराम शरण गुप्त, जगन्नाथ प्रसाद मिलिन्द, अज्ञेय इत्यादि कवियों के योगदान अविस्मरणीय हैं जिन्होंने भारतीयों की सरल हृदय-भित्ती पर राष्ट्रीयता के ओजपूर्ण स्वरों का अंकन किया। कवि अज्ञेय भी पढ़ाई बीच में छोड़कर कई बार जेल गये।

    जोधपुर के एक अल्पज्ञात कवि देवदत्त व्यास ‘करुण’ का उल्लेख करना चाहूंगा। वे अखण्ड भारत के हैरदाबाद सिंध में मात्र 27 वर्ष की आयु में 8 फरवरी 1947 को मृत्यु को प्राप्त हुए। उनकी मृत्यु के लगभग 60 वर्ष बाद उनके दो काव्य संग्रह ‘बीते दिन मत यादा दिलाओ’ तथा ‘अंतस की पीड़ा कौन सुने’ प्रकाश में आए। उनकी रचनाओं में राष्ट्रीयता के उद्दाम स्वर सुनाई पड़ते हैं। ‘शहीद के चरणों पर’ कविता में वे लिखते हैं-

    खौल उठे जुल्मों को ढाने, प्यारे तन में खून हमारे।

    अपनी भारत माँ के बंधन, खोल सकें, साहस से सारे।


    ‘विप्लव गान’ में वे लिखते हैं-

    जागें प्रताप से नृप महान

    हों वीर दुर्ग से कीर्तिमान

    स्वाधीन स्नेह हो स्वाभिमान

    निज देशहित पर न्यौछावर

    निर्भयता का वर दो शंकर।


    इस प्रकार हम देखते हैं कि हिन्दी कवियों ने भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के समय देश में मची उथल-पुथल को अपनी कविता का विषय बनाकर साहित्य के क्षेत्र में दोहरे दायित्व का निर्वहन किया। वे स्वदेश व स्वधर्म की रक्षा के लिए एक ओर तो राष्ट्रीय भावों को काव्य के विषय के रूप में प्रतिष्ठित कर रहे थे, वहीं दूसरी ओर राष्ट्रीय चेतना को उसके चरम पर पहुंचा रहे थे। स्पष्ट है कि वे न केवल तत्कालीन घटनाओं के प्रति सजग थे अपितु भारत के गौरवमयी इतिहास के साथ भी कदम मिलाकर चल रहे थे।

    स्वातंत्र्य-लक्ष्य की प्राप्ति के पश्चात् भी राष्ट्रवादी कविता का धारा कुण्ठित नहीं हो गई। वह उसके बाद भी राष्ट्रीय जागरण की अलख जगाती रही। राष्ट्रकवि पं. सोहनलाल द्विवेदी ने भारतीय युवाओं को स्वातंत्र्य-ध्वज सुरक्षित रखने का आह्वान करते हुए लिखा-

    शुभारंभ जो किया देश में, नव चेतनता आई है ।

    मुरदा प्राणों में फिर से, छायी नवीन तरुणाई है ।

    स्वतंत्रता की ध्वजा न झुके, यही ध्रुव ध्यान करो ।

    बढ़ो, देश के युवक-युवतियों, आज पुण्य प्रस्थान करो ।।


    -डॉ. मोहनलाल गुप्ता

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • राजस्थान की पर्यावरणीय संस्कृति-16

     02.06.2020
    राजस्थान की पर्यावरणीय संस्कृति-16

    राजस्थान में वन्य जीवन (1)


    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    राजस्थान के वनों में वनस्पति की विविधता के साथ-साथ वन्य जीवों की सैंकड़ों तरह की प्रजातियां पाई जाती हैं। इनमें जलचर, कीट-पतंग, सरीसृप, पक्षी, उभयचर, मांसाहारी पशु तथा शाकाहारी पशुओं की बहुत बड़ी संख्या शामिल है। वन्य जीव पशु हत्या के अपराध में राज्य में अधिकतम 7 साल की कैद की जा सकती है।


    राजस्थान के वन्य-पशु

    राजस्थान के वनों में पाये जाने वाले प्रमुख वन्य पशुओं का संक्षिप्त विवरण इस प्रकार से है-

    उड़न गिलहरी : चित्तौड़गढ़ तथा प्रतापगढ़ जिलों के सीतामाता अभयारण्य में पाई जाने वाली उड़न गिलहरी अद्भुत वन्य जीव है। यह रात्रि काल में पंद्रह से बीस फुट तक की उड़ान भरती है।

    कृष्णमृग : काला हिरण उत्तरी भारत के मैदानों में पाया जाने वाला विशेष जाति का मृग है। राजस्थान में यह बड़ी संख्या में पाया जाता है। इसे राष्ट्रीय मरु उद्यान जैसलमेर तथा जोधपुर-नागौर-बीकानेर जिलों में विश्नोई बहुल गांवों और खेतों में विचरण करते हुए देखा जा सकता है। 3 जुलाई 1971 को को चूरू जिले में तालछापर अभयारण्य (क्षेत्रफल 7.91 वर्ग किलोमीटर) की घोषणा की गई। यहाँ लगभग डेढ़ हजार काले हरिण रहते हैं। 28 जून 1976 को डोली-धवा के 424.76 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को काले हिरण तथा अन्य वन्य जीवों के लिये आरक्षित क्षेत्र घोषित किया गया। 14 फरवरी, 1984 को रानीपुर क्षेत्र (जिला टोंक, क्षेत्रफल 120 वर्ग किमी) को वन्यजीव आरक्षित क्षेत्र घोषित किया गया। केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान में भी काले हिरणों को देखा जा सकता है।

    खरगोश : खरगोश सफेद, काले, भूरे रंगों तथा इनके मिश्रित रंगों वाला, मुलायम रोयेंदार खाल वाला छोटा और सुन्दर प्राणी है। यह मुख्यतः घास और वनस्पति खाता है तथा जंगल में छिपकर रहता है। जब कोई इसके नजदीक पहुँचता है तो यह तुरन्त तेजी से दौड़कर छिप जाता है। इसके कान लम्बे होते हैं।

    गीदड़ : गीदड़ चतुर-चालाक जानवर होता है। इसका रंग हल्का काला तथा सफेद मिश्रित होता है। यह मुख्यतः मृत जानवरों को खाता है किन्तु कभी-कभी छोटे जानवरों को मार लेता है। यह मांसाहारी तथा शाकाहारी है। गन्ने और तरबूज इसे बहुत पसंद है। जंगल में यह बेर भी खाता है। देखने में यह भेड़िये की तरह होता है किन्तु आकार में उससे छोटा होता है। इसे सियार और शृगाल भी कहते हैं।

    घड़ियाल : यह देखने में मगरमच्छ की तरह होता है किन्तु इसका थूथन लम्बा होता है और थूथन के आगे का हिस्सा गोल गेंद की तरह उभरा हुआ होता है।

    चिंकारा : एन्टीलोप नामक छोटे हिरण को राजस्थान में चिंकारा कहा जाता है। यह सम्पूर्ण राजस्थान में काले हिरणों के साथ अत्यधिक संख्या में मिलता है।

    चीतल : इस सुन्दर प्राणी का शरीर चमकदार भूरे रंग का होता है जिस पर गोल-गोल सफेद चित्ते होते है। सांभर की भाति नर चीतल के भी शाखाओं वाले सींग होते है। चीतल के प्रायः हर साल नये सींग आते हैं और पुराने सींग गिर जाते हैं। इसकी सूंघने, देखने और सुनने की शक्ति बहुत तेज होती है।

    चौसिंगा : इसके चार सींग होते हैं। सामने के सींग छोटे और पीछे के सींग बड़े होते हैं। इसके शरीर का ऊपरी भाग हल्के भूरे रंग का एवं निचला भाग सफेदी लिए हुए होता है। यह एण्टीलोप हिरण प्रजाति का सबसे छोटा जानवर है जो अधिकतर नर-मादा के जोड़े में साथ रहता है। चौसिंगा राज्य में बहुलता से पाये जाते हैं। चौसिंगा की विश्व में सर्वाधिक संख्या सीतामाता अभयारण्य में मिलती है। कुम्भलगढ़ अभयारण्य (पाली एवं उदयपुर जिले), फुलवारी की नाल अभयारण्य (उदयपुर जिला) में भी चौसिंगा बहुतायत से मिलता है। कुछ चौसिंगा सरिस्का अभयारण्य में भी रहते हैं। इनकी उपस्थिति के कारण इन अभयारण्यों में बघेरे भी अधिक संख्या मिलते हैं।

    जंगली कुत्ता : इसका शरीर भेड़िये से छोटा किन्तु सियार से बड़ा होता है। इसके शिकार करने का ढंग भेड़िये जैसा होता है। रंग गहरा भूरा तथा पूंछ काली, बड़े बालों वाली होती है। सामान्यतः यह छोटे जानवरों का शिकार करता है। जब यह समूह में होता है तो सांभर जैसे बड़े जानवरों को भी मार देता है। नवम्बर-दिसम्बर में इसका प्रजनन होता है और एक बार में चार से छह बच्चों को जन्म देता है।

    जंगली बिल्ली : इसका रंग हल्का भूरा होता है। इसकी पंूछ के अंतिम भाग पर धारियां होती हैं। इसके पेट पर भी हल्की धारियां होती हैं। यह खुले जंगलों, घास के मैदानों और नदियों के किनारों पर सुबह-शाम देखी जा सकती है। यह छोटी चिड़ियों का शिकार करती है तथा बस्ती में आकर पालतू मुर्गे-मुर्गियों को उठा ले जाती है। रेगिस्तानी क्षेत्रों में ऐसी नर बिल्लियां पाई जाती हैं जो आकार में सामान्य बिल्लियों से डेढ़ से दो गुनी बड़ी होती हैं।

    जंगली सूअर :
    यह बड़ा साहसी और निडर प्राणी होता है। इसका मुंह लम्बा, पांव छोटे तथा पतले होते हैं। इसके शरीर का रंग गहरा भूरा होता है जिस पर काले, सफेद और भूरे बाल होते हैं। यह शेर, चीते से लड़ने के लिए भी तत्पर रहता है और अपने मुंह के दोनों ओर निकले मजबूत नुकीले दांतों से प्रहार करके परास्त भी कर देता है। यह मुख्यतः शाकाहारी है और फल, पेड़-पौधों की जड़, कन्द, अनाज आदि खाता है। मादा सूअर वर्ष में दो बार, चार से छः या इससे भी अधिक बच्चों को जन्म देती है।

    जरख : जरख के अगले पैर मजबूत तथा पिछले पैरों से अधिक लम्बे होते हैं। साधारणतः यह रात में निकलता है और दिन में गुफा आदि में छिपकर रहता है। सामान्यतः शेर-बघेरा जैसे हिंसक जीवों द्वारा छोड़े गये शिकार को खाता है किन्तु कभी-कभी यह भेड़, बकरी और कुत्ते आदि का शिकार करता है। इसके दातों की विशिष्ट बनावट के कारण यह हड्डियों को आसानी से चबा जाता है।

    झाऊ चूहा : नागौर के आसपास के जंगलों व खेतों में रहने वाला झाऊ चूहा दुर्लभ प्राणी है। लगभग एक किलो वजन वाले इस चूहे के पूरे शरीर पर कांटे होते हैं। यह अपना मुँह और पैर कछुए की तरह कांटेदार खोल में छिपाये रहता है।

    रोझ : राजस्थान के जंगलों में बड़ी संख्या में मिलने वाले रोझ अथवा रोजड़ा को 'नीलगाय'भी कहते हैं। यह एन्टीलोप प्रजाति का बड़ा जानवर है। एन्टीलोप प्रजाति के जानवरों के सींग नहीं झड़ते हैं। नर रोझ का रंग गहरा एवं काला नीला सा होता है। इसके पैरों में खुर के पास सफेद रंग की सुन्दर रिंग होती है। मादा का रंग भूरा होता है। रोझ बहुत तेज दौड़ता है। सांभर के पश्चात यह बाघ की दूसरी पसन्द का भोजन है। यह बीस-पच्चीस की संख्या में अथवा उससे भी बड़े दो-ढाई सौ तक के झुण्ड में रहता है।

    नेवला : यह भूरे रंग का होता है। इसके पांव छोटे और पूंछ लम्बी होती है। यद्यपि यह मांसाहारी है किन्तु फल तथा जड़ें भी खाता है। यह बड़ा फुर्तीला होता है तथा संाप, छिपकली, चूहे, मेंढ़क, चिड़िया एवं कीड़े-मकोड़ों का शिकार करता है। यह चिड़ियों के अंडों का बड़ा शौकीन होता है। कुछ लोग इसे पालते भी हैं।

    पाटागोह : यह छिपकली परिवार का बड़ा जानवर है। इसकी चमड़ी दानेदार होती है। यह बिल बनाकर रहती है। यह बहुत तेज नहीं दौड़ पाती। इसकी जीभ सांप की तरह चिरी हुई होती है। यह मिट्टी चाटती है तथा गूलर, बड़ के फल और गोबर में उपस्थित खाद्य कणों को भी चाट जाती है। विपत्ति में यह जल में भी चली जाती है। इसके पंजों की पकड़ बहुत मजबूत होती है।

    बघेरा : बाघ की तरह बघेरा भी बलिष्ठ और फुर्तीला जानवर है। इसे गुलदार भी कहते हैं। यह सुनहरे रंग का होता है जिस पर गोल-गोल काले चित्ते होते हैं जो बीच में खाली रहते है। यह हिरण, मोर, बंदर आदि का शिकार करता है किन्तु विपरित परिस्थितियों में कुत्ता, भेड़ और बकरी को भी शिकार बना लेता है। बाघ की तुलना में बघेरा अधिक फुर्ती से पेड़ पर चढ़ सकता है। मादा के गर्भ की अवधि तीन माह होती है और यह एक बार में दो से चार बच्चों को जन्म देती है।

    बाघ : यह बिल्ली परिवार का सुन्दर वन्य पशु है। बोलचाल की भाषा में इसे शेर भी कहते है। इसके बलिष्ठ, सुडौल एवं सुनहरे शरीर पर काली धारियां होती हैं। मादा की लम्बाई और भार नर बाघ की अपेक्षा कम होती है। भारी शरीर होते हुए भी इसमें बड़ी स्फूर्ति होती है। इसका पांव गद्देदार होता है। इस कारण बाघ के चलने पर आवाज नहीं होती। इसकी घ्राण शक्ति कम होती है परन्तु देखने और सुनने की शक्ति बहुत तेज होती है।

    बाघ सामान्यतः जंगली जानवरों का ही शिकार करता है और मनुष्य पर आक्रमण नहीं करता है किन्तु जब बाघिन अपने बच्चों के साथ हो तब सहसा बाघिन के पास पहुँच जाने पर, आत्मरक्षा के लिए, घायल होने पर या इसी तरह की विपरीत परिस्थितियों में यह मनुष्य पर आक्रमण करता है। प्रजनन काल को छोड़कर बाघ प्रायः अकेला रहता है। बाघिन के गर्भाधान का समय निश्चित नहीं है किन्तु अधिकांशतः इसे शीतकाल में बाघ के साथ देखा जाता है। गर्भ की अवधि 4 माह होती है।

    बाघिन साधारणतः एक बार में तीन से पांच बच्चों को जन्म देती है। छह माह के शावक माँ के साथ शिकार करने लगते हैं और दो वर्ष के होने पर माँ से अलग हो जाते हैं। बाघ की औसत आयु 25 वर्ष होती है।

    बिज्जू : इसका रंग पेट से पीठ तक सलेटी और थोड़ा काला होता है। इसकी पीठ पर हल्के भूरे एवं मटमैले रंग की एक पट्टी होती है। शरीर की लम्बाई की तुलना में इसकी पूंछ छोटी होती है। यह मुख्यतः छोटी चिड़ियों और चूहों का शिकार करता है। इसे शहद बहुत पसन्द है। इसके कान चिपके हुए होते हैं।

    भालू : भालू अथवा रीछ काले रंग तथा शरीर पर घने बाल वाला होता है। यह पेड़ पर भी चढ़ जाता है। इस की घ्राण शक्ति तेज होती है। इसका मुख्य भोजन कन्दमूल, फल, शहद और दीमक है। यह गन्ना बड़े चाव से खाता है।

    मगरमच्छ : यह मुख्यतः जल में रहता है। इसका थूथन सूअर या गोह की तरह छोटा और चौड़ा होता है। इसकी पीठ पर चमड़ी के बहुत मोटे और उभरे हुए मजबूत शल्क होते हैं। इसकी दुम के ऊपरी हिस्से में आरे जैसा कटाव होता है। यह रणथम्भौर, वन विहार अभयारण्यों के अतिरिक्त चम्बल, माही एवं बनास नदियों में पाया जाता है।

    लोमड़ी : यह चालाक जानवर है। इसका मुँह आगे से पतला और पूंछ भारी होती है। यह धरती खोदकर उसके अन्दर रहती है। यह मुख्यतः चूहे, सांप, चिड़िया और कीड़े-मकोड़े खाती है तथा छोटे जानवरों का शिकार भी करती है। मांसाहारी होने के साथ-साथ यह शाकाहारी भी है।

    लंगूर : काले मुँह के बंदर को लंगूर कहते हैं। इसकी पूंछ लम्बी और मुँह एकदम काला होता है। यह बड़ी लम्बी छलांग लगाता है। यह मुख्यतः पेड़-पौधों की पत्तियाँ, फल तथा अनाज आदि खाता है। यह जंगलों एवं बस्तियों के आसपास पाया जाता है। सरिस्का में ये बहुतायत से पाये जाते हैं।

    सांभर : सांभर मृग परिवार का बड़ा जानवर है। यह चॉकलेटी रंग का होता है। नर सांभर के दो मजबूत सींग होते हैं जिनमें अनेक शाखाएं होती हैं। सांभर के सींग हर साल नये आते हैं जबकि मादा के सींग नहीं होते हैं। लम्बे और शाखाओं वाले सींग होने के कारण कई बार ये झाड़ियों तथा परस्पर लड़ाई में उलझ जाते हैं। यह बाघ का प्रथम प्रिय भोजन है।

    सीलू : सीलू अथवा चींटीखोरा विचित्र जानवर है। इसके शरीर पर पाइन ऐपल के फल अथवा खजूर के तने में बने खपोटे जैसे होते हैं। आवश्यकता होने पर यह गंेद की तरह गोल हो जाता है और शरीर पर बने खपोटे दुश्मन से इसकी रक्षा करते हैं। यह भुरभुरी मिट्टी में बिल बनाकर रहता है। इसके दांत नहीं होते। यह प्रायः रात में निकलता है। चींटी और दीमक इसका मनपसन्द भोजन है। चींटियों के बिल के पास यह अपनी जीभ को फैला देता है। चिकनी और लेसदार जीभ पर चीटियां चिपक जाती हैं जिन्हें यह खा लेता है। यह पेड़ पर भी चढ़ जाता है।

    सीवेट : सीवेट कई प्रकार की होती है किन्तु सरिस्का में दो प्रकार की सिवेट पाई जाती है- स्मॉल इण्डियन सीवेट और पाम सीवेट। स्माल इण्डियन सीवेट का रंग बघेरे की तरह हल्का पीला होता है जिस पर छोटे-छोटे काले धब्बे होते हैं। इसकी पूंछ लम्बी होती है जिस पर काले रंग की गोल रिंग होती है। इसका मुँह नुकीला होता है। यह घनी झाड़ियों अथवा दीमक आदि के बिलों में रहता है। पाम सीवेट अधिकतर पेड़ों पर निवास करता है और रात को पेड़ों से नीचे उतरकर मरे हुए जानवरों का मांस खाता है। इसका रंग सलेटी एवं मुँह से कमर तक काला होता है। पूंछ लम्बी बालदार और काले रंग की होती है।

    सेही : सेही के शरीर पर 15 से 20 सेन्टीमीटर लम्बे तीखे काँटे होते हैं जो कहीं से काले और कहीं से सफेद होते हैं। आवश्यकता होने पर यह अपने काँटों को मोर के पंखों की तरह फैलाकर शत्रु से अपना बचाव करती है। यह धरती में एक मीटर से भी अधिक गहरे बिल में रहती है और रात में बाहर निकलती है। यह फल, अनाज, पौधों की जड़ें और पौधों की छाल खाती है।

    स्याहगोश : यह जंगली बिल्ली से थोड़ा बड़ा होता है। इसके पिछले पांव अगले पांवों से बड़े होते हैं। इसका रंग भूरा, कान खड़े और नुकीले तथा बिल्ली से बड़े होते हैं। यह खुले और छोटी-छोटी झाड़ियों के जंगल में पाया जाता है। यह चिड़िया, कबूतर, चूहे तथा संाप आदि का शिकार करता है। यह फुर्तीला जानवर है।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
  • अजमेर का इतिहास - 80

     02.06.2020
    अजमेर का इतिहास - 80

    अजमेर में स्वतंत्रता आंदोलन (2)


    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com

    नमक सत्याग्रह


    अप्रेल 1930 में देशव्यापी नमक सत्याग्रह चला। इसमें अजमेर ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। 20 अप्रेल 1930 को हरिभाऊ उपाध्याय के नेतृतव में अजमेर में नमक कानून तोड़ा गया। हरिभाऊ उपाध्याय, विजयसिंह पथिक, गोकुललाल असावा तथा रामनारायण चौधरी आदि नेता बंदी बनाये गये।

    राजपूताना और मध्य भारत सभा का प्रान्तीय सम्मेलन

    23 नवम्बर 1931 को अजमेर में कस्तूरबा गांधी की अध्यक्षता में राजपूताना और मध्य भारत सभा का प्रान्तीय राजनैतिक परिषद् का सम्मेलन हुआ।

    सस्ता साहित्य मण्डल पर ताला

    ई.1932 में सरकार ने सस्ता साहित्य मण्डल के प्रेस कार्यालय पर ताला डाल दिया।

    राजपूताने में प्रजामण्डलों की स्थापना

    ई.1938 की हरिपुरा कांग्रेस के पश्चात् राजपूताना रियासतों में प्रजामण्डल स्थापित हुए जिससे इन रियासतों में रियासती आंदोलन का सूत्रपात हुआ। इन रियासती आंदोलनों का अजमेर पुनः केन्द्र बना। जहां-तहां प्रजा मण्डलों की स्थापना की गई। इस आंदोलन का उद्देश्य रियासतों में उत्तरदायी शासन की स्थापना करना था। यह आंदोलन भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन का ही एक भाग था। रियासती आंदोलनों को अजमेर का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा।

    अजमेर प्रजा मण्डल की स्थापना

    ई.1938 में मेवाड़ से निष्कासन के बाद माणिक्यलाल वर्मा ने अजमेर में प्रजा मण्डल की स्थापना की। 14 दिसम्बर 1938 को मेवाड़ प्रजा मण्डल के प्रमुख कार्यकर्त्ता मथुरा प्रसाद वैद्य को अजमेर-मेरवाड़ा प्रांत के ब्रिटिश क्षेत्र से बंदी बनाया गया। ई.1939 में मेवाड़ पुलिस द्वारा अजमेर-मेरवाड़ा प्रांत की सीमा में घुसकर माणिक्यलाल वर्मा को बंदी बनाया गया तथा उन्हें निर्ममता से पीटा गया।

    कृष्ण गोपाल गर्ग व बालकृष्ण गर्ग को जेल

    8 से 16 अप्रेल 1940 तक अजमेर कांग्रेस के राष्ट्रीय सप्ताह में झण्डा फहराने पर कृष्ण गोपाल गर्ग व बालकृष्ण गर्ग को चार-चार माह की कठोर जेल दी गई।

    रेल कर्मचारियों की हड़ताल

    15 अगस्त 1941 को अजमेर में रेलवे के दस हजार कर्मचारियों ने हड़ताल की। इस सिलसिले में 19 अगस्त को ज्वाला प्रसाद शर्मा को बंदी बनाया गया। 12 नवम्बर 1941 को उन्होंने जेल से भागने का असफल प्रयास किया। भारत सुरक्षा नियम के तहत उन्हें सवा साल की सजा सुनाई गई। फरवरी 1942 में उनकी सजा समाप्त कर दी गई। इसी माह उनके विरुद्ध एक और अभियोग दर्ज हुआ जिसमें उन्हें 6 माह के कठोर कारावास की सजा सुनाई गई। 29 फरवरी 1942 को वे एक अन्य बंदी के साथ जेल से फरार हो गये।

    भारत छोड़ो आंदोलन

    ई.1942 के भारत छोड़ो आंदोलन का अजमेर की राजनीति पर गहरा प्रभाव पड़ा। अजमेर मेरवाड़ा के क्रांतिकारी तत्व प्रबल हुए। चूंकि यह आंदोलन काफी उग्र था इसलिये पहली बार कांग्रेस और क्रांतिकारियों में कुछ समन्वय दिखाई दिया। इस कारण सरकारी दमन चक्र भी तीव्र हुआ। अनेक नेता बंदी बनाये गये। कइयों को नजरबंद किया गया। इस आन्दोलन के दौरान अजमेर, ब्यावर, केकड़ी आदि से 37 व्यक्ति गिरफ्तार किये गये। समस्त कांग्रेस समितियॉं, हटूण्डी का गांधी आश्रम, अजमेर का ग्राम उद्योग संघ, हरमाड़ा का खादी विद्यालय एवं पुस्तकालय, अजमेर और ब्यावर के खादी भण्डार आदि को अवैध घोषित कर, उन पर छापे मारे गये और उनकी सम्पत्तियां नीलाम कर दी गईं।

    इस नीलामी से 15 हजार रुपये प्राप्त हुए। अनेक विद्यार्थी जो अपनी शिक्षण संस्थाओं में हड़ताल करके स्वतन्त्रता आंदोलन में कूद पड़े थे, उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। 1 अप्रेल 1943 तक अजमेर में 61 लोगों को बंदी बनाया गया। इनमें बालकृष्ण कौल, हरिभाऊ उपाध्याय, रामनारायण चौधरी, गोकुल लाल असावा, ऋषिदत्त मेहता, मुकुट बिहारी लाल भार्गव, लादूराम जोशी, श्रीमती गोमती देवी भार्गव, अम्बालाल माथुर, शोभालाल गुप्त भी सम्मिलित थे।

    बालकृष्ण कौल एवं गोकुल लाल असावा को जेल अधिकारियों की आज्ञा न मानने पर चार माह का कठोर कारावास दिया गया। इसके विरोध में कौल ने जेल में ही भूख हड़ताल आरंभ कर दी। ब्रिटिश सरकार ने श्रीमती कौल को मिलने की अनुमति नहीं दी। बाद में महात्मा गांधी के हस्तक्षेप के बाद उन्हें मिलने दिया गया। इसके बाद कौल ने भूख हड़ताल समाप्त कर दी। इन कैदियों के साथ सभी तरह का बुरा एवं पाशविक व्यवहार किया गया। रमेश व्यास, लेखराज आर्य, शंकरलाल वर्मा, मूलचन्द असावा और बालकृष्ण कौल आदि अनेक स्वतन्त्रता सेनानियों पर बड़े जुल्म ढहाये गये।

    गोविंद सहाय ने अपने 42 रिबेलियन में लिखा है कि 1943 के बाद सरकार ने अपनी कूटनीति में मामूली सा परिवर्तन किया। उन्होंने बिना किसी शर्त पर बंदियों को रिहा करना आरंभ किया परंतु मुक्त करने के साथ ही उन पर कड़ी पाबंदियां लगा दीं। सरकार ने स्वतन्त्रता सेनानियों से जेल में जबर्दस्ती अंगूठे व हस्ताक्षर करवाकर क्षमा याचना करने को कहा किन्तु कैदियों ने अंग्रेज सरकार के सामने घुटने नहीं टेके और वे सारे कागज फाड़ कर फैंक दिये। इस पर सरकार ने एक-एक करके कैदियों को छोड़ना शुरू कर दिया।

    उनमें से कइयों को 48 घन्टे के भीतर अजमेर-मेरवाड़ा प्रान्त छोड़कर जाने को कहा गया। रेडियो तथा मोटर का उपयोग करने और जुलूसों तथा सभाओं में भाग लेना प्रतिबन्धित कर दिया गया। जिन्होंने ये प्रतिबन्ध स्वीकार नहीं किये उन्हें कठोर दण्ड दिये गये। मूलचंद असावा तथा गोकुललाल असावा को चार माह का कठोर कारावास दिया गया तथा उन पर 200-200 रुपये का जुर्माना किया गया। उन्हें अजमेर के म्युन्सिपल क्षेत्र के अंदर रहने के लिये कहा गया।

    29 फरवरी 1944 को ज्वाला प्रसाद शर्मा तथा रघुराजसिंह जेल अधिकारियों की आंखों में धूल झौंककर भाग निकले और फिर हाथ नहीं आये। ई.1946 में कैबीनेट मिशन के भारत आने के बाद स्वतंत्रता निकट आती हुई दिखाई देने लगी। इस कारण अजमेर का वातावरण शांत होने लगा।

    आधी रात को आजादी

    14 अगस्त 1947 को हजारों लोग नया बाजार में एकत्र हो गये। उस दिन मैगजीन का विशाल भवन अंधेरी रात में भी प्रकाश में नहाया हुआ था। जैसे ही रात के 12 बजकर 1 मिनट हुआ और कैलेण्डर में 15 अगस्त की तिथि आरंभ हुई अजमेर कांग्रेस अध्यक्ष जीतमल लूणिया ने मैगजीन से यूनयिन जैक उतारकर तिरंगा फहराया तथा अजमेर के स्वंतत्र होने की घोषणा की। हजारों लोगों ने भारत माता का गगनभेदी जयनाद किया।

    राष्ट्रीय ध्वज को 21 तोपों की सलामी दी गई। सब लोगों ने सामूहिक रूप से वंदेमातरम् गीत गाया। बालकृष्ण कौल, हरिभाऊ उपाध्याय, बालकृष्ण गर्ग, रामनारायण चौधरी आदि प्रमुख नेताओं ने जनसमुदाय को सम्बोधित किया। रात भर स्वतंत्रता का समारोह चला। मिठाइयां बँटीं तथा भारत माता की जय के गगनभेदी नारे गूंजते रहे। इस प्रकार जो काम ई.1724 में महाराजा अजीतसिंह राठौड़ को अधूरा छोड़ देना पड़ा था, वह काम 1947 में पूरा किया जा सका।

    प्रातः होने पर हजारों बच्चे, जवान और बूढ़े स्त्री एवं पुरुष तिरंगे झण्डे लेकर सड़कों एवं गलियों में निकल आये। पटाखे छोड़े गये, विद्यालयों में मिठाइयां बाँटी गईं। एक कसक भी उस दिन अजमेर में बनी रही। आज के दिन भी बहुत से वे लोग जेलों में बंद थे जो भारत की स्वतंत्रता के लिये संघर्ष करते रहे थे। यहाँ तक कि ज्वाला प्रसाद शर्मा भी इस अवसर पर अजमेर में नहीं थे, वे अब भी फरार चल रहे थे।

    हमारी नई वैबसाइट - भारत का इतिहास - www.bharatkaitihas.com


  • Share On Social Media:
Categories
SIGN IN
Or sign in with
×
Forgot Password
×
SIGN UP
Already a user ?
×